जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

रविवार, 30 मई 2010

क्या कन्या की शादी में अनावश्यक देरी हो रही है ??

परिवार में यदि कन्या विवाह के योग्य है और काफी दौड़ धूप या परिश्रम के बावजूद सुयोग्य वर की प्राप्ति ना हो रही हो तो माता-पिता के साथ साथ परिवार के दूसरें सदस्य तो परेशान रहतें ही है. ऊपर से समाज की बातें भी सुनने को मिलती है जिसके कारण कन्या भी मानसिक रूप से अपने भाग्य को कोसने लगती है.अधिकतर ज्योतिषी सुनेहला या फिर पुखराज पहनने कि सलाह देते है. जो कि कुछ हद तक ठीक है.
 मैं पिछले कई वर्षों से अनुभव कर रहा हूं कि इसके करने से मात्र २५ से ३५ प्रतिशत ही सफलता मिलती है.कारण आज कल कन्याओं की शिक्षा पिछलें वर्षों की तुलना से कई गुणा आगे आ गयी है. हम सब विवाह के लिए खानदानी परिवार न देख कर एक मात्र लड़के को ही प्राथमिकता देते है जबकि पहले सिर्फ खानदान देख कर ही विवाह का निर्णय घर के बुजुर्ग ही किया करते थै.विवाह में विलम्ब का एक विशेष कारण यह भी है. क्या करें समाज के साथ तो चलना ही है.कई वर्षों से यह देख कर इसका कारण जानने की कोशिश की, मेहनत रंग लायी.कुछ सटीक उपाय जो आप घर पर ही कर सकते हें मैं आपके सामने रख रहा हूं.मुझे आशा ही नहीं अपितु पूर्ण विशवास है कि इन उपायों को श्रद्धा व विशवास के साथ यदि करते हो तो १०० प्रतिशत पूर्ण सफलता प्राप्त होगी.


सबसे पहले यह जान ले कि कन्या घर में किस ग्रह से सम्बन्ध रखती है कन्या बुध ग्रह से प्रभावित रहती है पहला उपाय बुध ग्रह से ही सम्बंधित हें कि यदि कन्या ७ सात साबुत आंवले प्रतिदिन अपने तकिये के बायीं तरफ किसी कांच के बर्तन में सोते समय लगातार ६० साठ दिन रखें इकसठवें दिन नदी में प्रात: सूर्योदय के समय प्रवाहित कर दें खुद करें प्रवाहित करने के बाद कोई भी मिठाई अवश्य खाए.


दूसरा उपाय अपने ब्राह्मण से गुरुपुष्य योग की तारीख व समय पूछ लें. उस योग को सुबह सूर्य निकलने से पहले अपने दोनों हाथों में पीसी हल्दी पानी में मिला कर खूब लगाए लगाते समय अपने इष्टदेवता का ध्यान करती रहें हल्दी सूखने पर चने की डाल मुठी भर तथा पांच प्रकार के फल अलग-अलग गिनती भी पांच ही हो लेकर घर से बिना रास्ते में बोले अपनी मां या भाभी के साथ मंदिर जा कर भगवान शिव परिवार के पास अपनी कामना को कह कर चुपचाप वही पर रख दें घर वापस आए.
 इस बात का ध्यान रखे कि हाथ घर आ कर ही केवल पानी के साठ धोए साबुन या मिटटी आदि का इस्तेमाल न करे. ऐसा करने से शीघ्र ही मन के अनुकूल वर की प्राप्ति संभव होगी.


तीसरा उपाय यह है की कन्या शादी होने तक काले व नीले कपडे बिलकुल भी ना प्रयोग करे.

तथा अपने बेडरूम में जूते चप्पल ना रखे व न ही खाना खाए.

आजमा के देखों मुझे याद रखोगे. अब तक ना जाने कितनी कन्याओ का शुभ विवाह इन उपायों के द्वारा संभव हुआ जो कि अपने विवाह की उम्मीद तक छोड़ बैठी थीं भगवान ने उनकी आस्था के अनुसार फल दिया आपको भी देगा. श्रद्धा-विशवास अपने मन में ला कर उपरोक्त उपाय करें. मेरी शुभकामनायें भी आपके हमेशा साथ होगी.






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में