जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

मंगलवार, 25 मई 2010

गाय और वास्तु विज्ञान


अति प्राचीन काल से ही भारत में गायों को माता के समकक्ष दर्जा दिया गया हैं.पौराणिक ग्रन्थों हें गाय को सृष्टि कि माता कहा गया हैं.और ये भी वर्णन मिलता हैं कि भगवान विष्णु अवतार के पीछे भी गाय कि महत्त्वपूर्ण भूमिका थी.गाय के सम्बन्ध में कुछ ऐसी बातों को मैं बताने जा रहा हूं जो किसी भी भवन/भूमि के वास्तु पर भी प्रभाव डालती है.


१ – महाभारत के अनुशासन पर्व में कहा गया हें कि गाय जहां बैठ कर निर्भयतापूर्वक सांस लेती है, उस स्थान के समस्त पापों को खीचं लेती है. इस प्रकार गौ के साथ-साथ उस भूमि के पर रहने वाले समस्त जीव पापरहित हो कर मृत्यु उपरान्त स्वर्गगामी होते है.

२ –जिस घर के वायव्य कोण में अथवा कहीं भी गाय का पालन किया जाता है,उस स्थान पर घर के समस्त वास्तुदोष स्वतः ही दूर हो जाते हैं.
३ – जिस घर में बछड़े सहित गाय रहती है,वहां सर्वार्थ कल्याण होता है,तथा उस स्थान के समस्त वास्तु दोष दब जाते हैं.


४ – जिस घर में गाय के लिए पहली रोटी निकाली जाती है तथा गाय को डी जाती है वहां के निवासी हमेशा सुखी रहतें है.

५ – जिस भूमि पर गाय को रविवार के दिन स्नान कराया जाता है,वहां लक्ष्मी का वास होता है तथा लक्ष्मी स्थिर रहती है,वहां के निवासी स्वस्थ एवं चैन से रहते है.

६ – जिस घर में गौमूत्र का यदा-कदा छिडकाव किया जाता हो,वह घर लक्ष्मी से युक्त होता है.

गाय के गोबर से निर्मित कंडे को नित्य घर में जला कर उस पर सुबह शाम देसी कपूर,कच्चेचावल, और घी की आहुति देने से यज्ञ के समान फल प्राप्त होता है.इस प्रयोग से घर में आरोग्य तथा लक्ष्मी प्राप्त होती है.



७ – घर के किसी भी भाग में हमेशा गोबर लेपन करने से लक्ष्मी उस घर में सतत बनी रहती है.















८ – गोबर के गणेश जी पर श्रृंगार कर उनका नित्य पूजन करने से धनाभाव नहीं रहता है.

९ – गाय का नित्य स्पर्श करना परम लाभकारी होता है.

१० – जिस गाय की पूँछ जमीन का स्पर्श करती हो ऐसी गाय को गुड़ और रोटी देने से सम्बंधित व्यक्ति पापों से मुक्त होता है.

११ – गाय को स्नान कराने वाले को कोटि-कोटि पुण्य प्राप्त होता है...


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में