जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

बुधवार, 9 जून 2010

फेंगशुई की हमारे जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका


फेंगशुई अनुसार भवन के बाहर नेमप्लेट तथा मकान का नम्बर लगाने से शुभत्व की प्राप्ति होती है इससे भवन में रहने वालों को आर्थिक अभाव नहीं सहना पड़ता है तथा घर के मुखिया या कमाऊ सदस्य का नाम मुख्य दरवाजे के बांयीं और तथा भवन का नम्बर दायी ओर हो तथा रात्री में उस पर प्रकाश पड़ता हो तो यह सोने में सुहागे का काम करता है ऐसा करने से उन्हें रोज़गार मै नए नए अवसर मिलते है फेंगशुई में परेशानियों का रोना लेकर बैठे रहना अशुभ माना जाता है जैसे घर में यह कभी भी ना कहे कि अमुक चीज खत्म हो गयी है बल्कि यह कहे कि अमुक वस्तु ओर लाओ ऐसा न करने से घर में नकारात्मक उर्जा घर में उत्पन्न हो कर परेशानियो को ओर बड़ा देती है तथा घर में उपयोगी प्रत्येक सामान व्यवस्थित रखना चाहिए इधर उधर बिखरे रहने से भी हमारा भाग्य बिखरने लगता है

खराब और अनावश्यक उपकरण सामान आदि घर में बिलकुल ना रखे टूटा हुआ कोई भी सामान तो घर में नहीं रखना चाहिए इस के कारण घर के सदस्यों में अलगाव की भावना जाग्रत होने लगती है एक विशेष नियम यह है की दिन के समय डबल बैड पर सोना तो अपने भाग्य को सुलाने जैसा होता है ध्यान रखे कभी यदि तबियत ठीक ना हो तो भी डबल बैड में नहीं सोना चाहिए इसका प्रयोग केवल रात्री में ही करना चाहिए फेंगशुई क्या हमारें महापुरुष भी इस बात को कहते थे कि घर के अन्दर कोई भी टूटा फूटा बर्तन ना हो ओर न ही टूटे फूटे बर्तन का प्रयोग खाने पीने के लिए करें शास्त्रों के अनुसार यदि टूटे हुए बर्तनों का प्रयोग घर में होता है तो घर मानसिक क्लेश तथा अनावश्यक धन हानि के योग बनते है
फेंगशुई के अनुसार अपने निवास की छत हमेशा साफ़ रखे टूटी चारपाई सोफा पलंग बांस बोतल आदि बेकार का सामान को छत पर या घर के ईशान कोण में रखना दुखदायी बन जाता है इसलिए बेकार सामान तुरंत बाहर फेंक दे या कबाड़ीवाले को बेच दे जितना घर साफ़ सुथरा रहेगा उतनी घर में बरकत बड़ेगी तथा समाज में इज्जत कि वृद्धि होगी.
भवन का मुख्य द्वार भी फेंगशुई में महत्वपूर्ण स्थान रखता है मुख्य द्वार के आस पास जूते चप्पल अआदी न रखे तथा भगवान गणेश जी की बड़ी मूर्ती वहां रखे साथ ही फूलों के गमले या गुलदस्ते आदि रख कर मुख्य द्वार की शोभा बड़ा कर समाज में अपनी तथा अपने परिवार कि शोभा बदाये
प्रत्येक सोमवार तथा वृहस्पतिवार को गौमूत्र का पीले फूल के साथ पूरे घर में छिडकाव करने से आपके घर में लक्ष्मी का स्थायी वास बन जाता है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में