जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

बुधवार, 9 जून 2010

शनि राहू ग्रस्त मकान से वास्तु अपना कर छुटकारा पाए...





घर से बाहर आदमी ठीक ठाक रहता है लेकिन जब घर में घुसता है तो मन परेशान सा रहने लगता है बिना बात के क्लेश उत्पन्न होना तथा तबियत खराब होना घर में छोटी बड़ी बातों से विवाद होना एवं घर के बच्चे बड़ों का अपमान करते हों तो यह मत समझना कि आपका दोष है यह आपका नहीं उन तरंगों का दोष हें जो कि आपके घर में कुण्डली के ग्रहों की तरह वास कर रही है वास्तु शास्त्र के अनुसार यह तरंगे शनि और राहू की होती है जो कि इकट्ठी होकर नकारात्मक तरंगे फैलाती है जिसके कारण घर परिवार में सभी उखड़े उखड़े से रहने लगते है किसी का भी किसी कार्य में मन नहीं लगता तथा स्वभाव में चिडचिडापन आने लगता है.


इन शनि राहू की तरंगों के कारण घर का ही सदस्य चोरी करने लगता है यंहा तक कि वह अपने ही घर का सामान चोरी कर के बाहर बेच आने लगता है शनि राहू के प्रकोप  के कारण भाई भाई में विवाद का जन्म होने लगता है छोटे बच्चों की वजह से भी स्थति खराब होने लगती है कभी कभी तो शनि राहू का असर इतना भयावह होता है कि जिसे हम ओपरा या उपरी हवा का नाम भी देने लगते है फिर किसी ओझा तांत्रिक की शरण में जा कर अपने धन व समय दोनों खराब करने लगते है घर में नाना प्रकार के वहम उत्पन्न होते है 


लेकिन सच्चाई कुछ और होती है इन सबका कारण वास्तु शास्त्र में बिलकुल साफ़ बताया गया है कि घर / भवन में सीडीओं के नीचे यदि शौचालय होगा तो ऐसी घटनाएं जन्म लेंगी यदि घर में ईशानकोण में सीडी जीना होगा तथा उसके सीडीओं के नीचे बोरिंग या टॉयलेट की शीत या सीवर का गड्ढा हों तो घर में उपरोक्त उपद्रव होते है



इन घटनाओं की रोक थाम के लिए घर में हमेशा पूजा पाठ के समय चन्दन आदि खुशबू की सुगंध बहनी चाहिए .तथा संध्या काल में परिवार सहित घर के मंदिर में आरती दीपक जला कर करे एवं मिष्ठान का भोग अवश्य लगा कर पुए परिवार को देने से भी शनि राहू का दोष समाप्त होने लगता है
घर भवन में तुलसी के पौधे पूर्व दिशा उत्तर दिशा तथा दक्षिण पूर्व में लगाना भी इस दोष को दूर करता है . घर से लोहे का फर्नीचर हटा दे  इससे भी घर में शनि का भार बड़ता है तथा घर में रबर की वस्तुओं का प्रयोग कम से कम करे  इससे राहू का दोष समाप्त होता है .
घर में राई राजमा उडद लौंग का इस्तेमाल कम से कम करे महीने में एक बार व्रत उपवास करे  मछलियों कि सेवा करें

घर में आए हुए मेहमानों के साथ बच्चों को मिठाई अनिवार्य रूप से खिलाइये इसके करने से घर में अनिष्ट नहीं होगा.

शुभमस्तु !!


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में