जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

रविवार, 4 जुलाई 2010

फेंग शुई में वस्तुओं का प्रभाव

जैसे-जैसे हमारी जिंदगी में तनाव बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे हम शांति सुकून पाने के उपायों को तलाशने में अपनी शक्ति का प्रयोग करने लगे हैं फिर चाहे वह वास्तु हो, फेंगशुई हो या फिर ध्यान क्रिया ही क्यों न हो। फेंग शुई द्वारा किया गया संशोधन व्‍यक्ति के भाग्‍य को समृद्ध करने का सबसे आसान तरीका है।
भाग्‍य तीन प्रकार का होता है -
1 - स्‍वर्ग से प्राप्‍त भाग्‍य -  सितारों, ग्रहों, नक्षत्रों तथा पूर्व जन्‍म के कर्मों के प्रतिफल के रुप में प्राप्‍त भाग्‍य, जो कि बदला नही जा सकता।
2 - मनुष्‍य द्वारा प्राप्‍त भाग्‍य -  कर्म के आधार पर प्राप्‍त भाग्‍य जिसे मनुष्‍य अपनी मेहनत के बल पर अर्जित करता है।3
3 - पृथ्‍वी द्वारा प्राप्‍त भाग्‍य -  इसे आप उन स्‍थानों से प्राप्‍त करते हैं, जहां आप रहते हैं अथवा जहां कार्य करते हैं जैसे - आपका घर, ऑफीस,
      दुकान तथा फैक्‍ट्री आदि। इस भाग्‍य को फेंगशुई  द्वारा संशोधित करके पूर्ण रुप से आपके पक्ष में मोड़ा जा सकता है।

फेंग शुई मुख्‍य वस्‍तुएँ
1 -  हँसते हुए बुद्ध ''लाफींग बुद्धा''  -  हँसते हुए बुद्ध की मूर्ति धन-दौलत एवं खुशी की प्रतीक मानी जाती है। इससे घर में सम्‍पन्‍नता, सफलता
       एवं समृद्धि आती है।
2 -  स्‍फटीक श्री यंत्र -  इसके द्वारा सुख, शान्ति, सौभाग्‍य एवं सुखद स्‍वास्‍थ्‍य प्राप्‍त होता है। इसे पूजा के स्‍थान पर रखा जाता है। यह यंत्र जहां
       भी रहता है, वहां माँ लक्ष्‍मी की अपार कृपा रहती है।
3 -  तीन टांगों वाला मेढक -  तीन टांगों वाला मेढक संपत्ति के लिए बहुत भाग्‍यशाली है। इसको घर के मुख्‍य द्वारा के आस पास इस प्रकार
       रखना चाहिए कि इसका मुँह घर की अन्‍दर की ओर रहे, जैसे कि उसने धन लेकर अभी अभी घर में प्रवेश किया है।
4 -  नौग्रह पिरामिड यंत्र -घर में सुख शांति, कारोबार में वृद्धि तथा सम्‍पूर्ण वास्‍तु दोषनाशक, नौग्रह पिरामिड यंत्र को घर, दुकान, दफ्‍तर में लावें।
5 -  एजुकेशन टावर 'पगोडा'  -   जिन बच्‍चों का पढ़ाई में मन न लगता हो उनकी स्‍टडी टेबल पर पगोडा रखने से लाभ होता है। परीक्षा में
       अच्‍छे अंक प्राप्‍त करने के लिए इसे स्‍टडी कमरे में रखा जाता है।
6 -  धातु का कछुआ -  कछुआ आयु को बढ़ाने वाला तथा प्रगति के अवसरों में वृद्धि करने वाला है। इसे घर या ऑफीस के उत्तरी दिशा में
       पानी के कटोरे में रखें। इसका मजबूत खोल बीमारियों एवं शत्रुओं से बचाव का प्रतीक है।
7 -  तीन भाग्‍यशाली सिक्‍के -  कभी खत्‍म न होने वाले संपत्ति का प्रतीक है। संपत्ति में वृद्धि के लिए तीन चीनी सिक्‍कों को लाल धागे अथवा
       रिबन में बांधकर अपनी जेब, पर्स, अलमीरा, लॉकर, कैश बॉक्‍सदुकान के गल्‍ले या बैंक लॉकर, जहाँ भी आप धन रखते हैं हर स्‍थान पर
       रखना चाहिए। इन सिक्‍कों को उपहार में देना भी अत्‍यंत शुभ मानते हैं।
8 -  डैगन के सिर वाला कछुआ -  यह लम्‍बी आयु और सौभाग्‍य का प्रतीक है। दोनो के मिलने से लम्‍बी आयु और संपत्ति आने को दर्शाता है।
       इसकी पीठ पर बैठा बच्‍चा वंश को पीढ़ी दर पीढ़ी आगे बढ़ने का संकेत है अर्थात संतान का सुख प्राप्‍त होता है।
9 -  मेंडरिन बत्तक -  विवाह के इच्‍छुक कुंवारे लड़के को शयन कक्ष में मेंडरिन डक का जोड़ा रखना चाहिए। यह प्रेम एवं रोमांस का प्रतीक है।
       इसे पति-पत्नि  भी अपने शयन कक्ष में रख सकते हैं।
10 -  क्रिस्‍टल माला -  क्रिस्‍टल माला पहनने से दिमाग शांत रहता है, सेहत अच्‍छी रहती है तथा आत्‍मविश्‍वास बढ़ता है। क्रिस्‍टल आपकी तथा
        आपके प्रति दूसरों की नकारात्‍मक सोच को सकारात्‍मक सोच में बदल देता है। क्रिस्‍टल माला पहनने से किसी प्रकार के जादू टोने का
        असर भी नही होता है।
11 -  व्‍यापार वृद्धि यंत्र -  इस यंत्र को व्‍यापार क्षेत्र में लगाने से आश्‍चर्यजनक सफलता मिलती है। यह यंत्र स्‍फटिक एवं अष्‍टधातु से बना हुआ
         है। इसे यंत्रराज भी कहते हैं।

 ध्यान करें.......
  • तीन या तीन से अधिक दरवाजे एक सीध में नही होने चाहिए।
  • बीम के नीचे सिर करके न सोयें। पति पत्नि एक ही तकिए में सोयें।
  • घर के मुख्‍य द्वार के सामने शौचघरबाथरुम नही होना चाहिए।
  • सीढ़ियाँ मुख्‍य द्वार के सामने या आस पास नहीं होनी चाहिए।
  • बीमारियों से बचाव के लिए उल्‍लू लॉकेट धारण करें।
  • वंश बढ़ाने के लिए कछुए के उपर कछुआ।
  • प्रगति के लिए चमत्‍कारी लक्‍की कार्ड।
  • भवन निर्माण में भारी धन खर्च करने के बावजूद भी सुख शांति नही।
  • भवन निर्माण के उत्तम भूमि चेक करवाएँ।
  • कक्षों के वास्‍तु के विपरीत स्थिति से आपके परिवार में कलह तो नहीं।
  • क्‍या आप बिना तोड़फोड़ किये भवन के वास्‍तु दोषों को दूर करना चाहते हैं।
  • क्‍या अपने शयन कक्ष और पूरे घर को फेंग शुई कराना चाहते हैं।
24  घंटा मंत्र गुंजन यंत्रइनमें गायत्री मंत्र, महामृत्‍युंजय मंत्र, गणपति मंत्र, ओम नमशिवाय मंत्र तथा दस मंत्र का गुजन यंत्र। इनके गुंजन से घर में पवित्रता आती है तथा यह सुख शांतिसमृद्धि का प्रतीक है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में