जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

बुधवार, 28 जुलाई 2010

जब भोलेनाथ कचहरी जा कर वकील बनें..

दुनियाभर में स्थापित शिवलिंगों की संख्या लगभग अंसख्य है। इनमें से शिव के 12 ज्योतिर्लिंग सर्वप्रधान हैं। शास्त्रों के अनुसार, इन ज्योतिर्लिंगों के दर्शन का अलग-अलग फल मिलता है। इन 12 ज्योतिर्लिंगों के विषय में शिवपुराण में कहा गया है –

'सौरो सोमनाथं च श्रीशैल मल्लिकाजुर्नम। उज्जयिन्यां महाकालमोडकांरममलेश्वरम्।। केदारं हिमवत्पृडाकिन्यां भीमशंकरम्। वाराणस्यां च विश्वेशं त्रयम्बकं गौतमीतटे।। वैद्यनाथं चिताभूमौ नागेशं दारुकावने। सेतुबन्धे च रामेशं घुश्मेशं च शिवालये।। द्वादशैतानि नामानि प्रातरुत्शाय य: पठेत्। सर्वपापविनिर्मुक्त: सर्वसिद्घफलो भवेत्।।' 


झारखंड के देवघर वैद्यनाथ धाम स्थित ज्योतिर्लिंग के दर्शन और पूजा करने के लिए प्रतिदिन हजारों लोग आते हैं। परंतु सावन माह प्रारंभ होते ही यहां शिव भक्तों की संख्या लाखों में पहुंच जाती है। सावन प्रारंभ होते ही सुल्तानगंज (बिहार) की उत्तरवाहिणी गंगा से जल भर कांवरिया बोलबमके उद्घोष के साथ 105 किलोमीटर दूर पैदल देवघर की ओर  चल पड़ते हैं। उत्तरवाहिणी गंगा होने के कारण यहां की गंगा का महत्व और बढ़ जाता है। देश के विभिन्न भागों तथा पड़ोसी देश नेपाल व मॉरीशस के शिव भक्त यहां प्रतिवर्ष बड़ी तादाद में पहुंचते हैं।

आज इस श्रावण मास् के शुभ अवसर पर एक प्रसंग याद आ रहा है मेरी इच्छा है कि उस प्रसंग को जो कि आज भी देवघर धाम में सभी बड़ी श्रद्धा के साथ स्मरण करते है. ईश्वर की माया अनन्त है। जब भक्त सच्चे मन से ईश्वर की आराधना करता है, तो ईश्वर भी किसी न किसी रूप में आकर अपने भक्त की सहायता अवश्य ही करते हैं। इस कलियुग में भी ईश्वर अपने भक्त की सहायता करने के लिए आते हैं, यह इस सच्ची घटना से प्रमाणित हो जाता है। लदौर के जाने-माने वकील भवनाथ झा भगवान् वैद्यनाथ (रावणेश्वर) महादेव के परमभक्त थे। ब्रह्म-मुहूर्त्त में उठकर नहाना तथा प्रतिदिन अपने घर में ही बाबा वैद्यनाथ की तस्वीर के सामने बैठकर घंटों पूजा करने के बाद ही भोजनादि करना उनकी दिनचर्या बन गयी थी। इसके बाद वे न्यायालय जाते और अपने काम में लग जाते।
1931 ई . की यह घटना है, जिसे आज भी लदौर वाले बड़े ही मनोयोग से सुनाते हैं। गुरुवार का दिन  था। वकील भवनाथ नित्यक्रिया से निपट कर बाबा वैद्यनाथ के चित्र के समक्ष बैठकर पूजा में मग्न हो गए। उन्हें इस बात का ध्यान ही नहीं रहा कि आज कोर्ट में एक महत्वपूर्ण मुकदमे की बहस (पैरवी) भी करनी है। उसी दिन उनकी बहस सुनने के बाद न्यायाधीश अपना फैसला भी सुनाने वाले थे।पूजा-पाठ समाप्त करने के बाद भवनाथ को अचानक याद आया कि उन्हें तो आज बड़े ही महत्वपूर्ण मुकदमे के सिलसिले में कोर्ट में ठीक समय पर जाना था। अब तो बहुत देर हो चुकी है। वे अफसोस करने लगे कि कहीं उनकी अनुपस्थिति की वजह से उनके मुवक्किल को सज़ा न हो जाये। वकील साहब परेशान होकर वैद्यनाथ से बोले, ``हे प्रभु! अब क्या होगा?  वे दौड़ते-दौड़ते कोर्ट पहुंच जाना चाहते थे, किन्तु उनकी पत्नी ने कहा, ``भोजन करके निश्चिन्त होकर जाइये।'
'आज एक बहुत जरूरी मुकदमे की पैरवी करनी है। अगर समय पर नहीं पहुंचा तो गजब हो जाएगा।'' वकील साहब चिन्तित मुद्रा में बोले। अरे, सब ठीक ही होगा। बाबा वैद्यनाथ पर विश्वास रखिए। वे अपने भक्त का कभी अनिष्ट नहीं करते।'' पत्नी ने निश्चिन्त भाव से कहा था। झटपट भोजन करके भवनाथ झा सीधे कोर्ट पहुंचे। कोर्ट के मुंशी ने फैसले की फाइल में एक घंटा पहले किये गये उनके हस्ताक्षर उन्हें दिखाये। वकील साहब दंग थे। मुंशी ने मजाक करते हुए कहा, ``सर! लगता है आज आपने बाबा का प्रसाद अर्थात भांग थोड़ी-सी पी ली है।''वकील साहब अवाक् खड़े थे। उनके साथी वकील आज की बहस पर और जीत पर उन्हें बधाई दे रहे थे। उनका मुवक्किल बाइज्जत बरी हो गया था। वकील साहब मन ही मन बाबा वैद्यनाथ को धन्यवाद दे रहे थे।
उन्हें विश्वास था कि यह चमत्कार सिर्फ वही कर सकते हैं। हुआ यह था कि उनके मुवक्किल के केस की सुनवाई के समय स्वयं बाबा वैद्यनाथ महादेव वकील के रूप में वहां उपस्थित हो गये थे। उन्होंने ही पूरे मुकदमे की पैरवी की और उसे जीता था।

वकील भगवान झा भोलेनाथ की कृपा पर न्यौछावर हो गये। उन्हें आत्मज्ञान भी हो गया। इस चमत्कारिक घटना से अभिभूत होकर उन्होंने वकालत छोड़ दी और वैद्यनाथ धाम आकर भजन-भाव में जुट गये। वे सुबह-शाम बाबा के मन्दिर में आते और घण्टों ध्यानमग्न रहते। बाबा वैद्यनाथ के चमत्कार की अनेक कथाएं प्रचलित हैं।
झारखण्ड राज्य में स्थित वैद्यनाथ धाम में रावणेश्वर महादेव के नाम से प्रसिद्ध बाबा के दर्शन के लिए प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में देश-विदेश से भक्तगण पहुंचते हैं और मनोवांछित फल प्राप्त करते हैं। यूं तो साल भर इस तीर्थ स्थान पर भक्तों की भीड़ लगी रहती है, किन्तु सावन के महीने में कांवर लेकर पहुंचने वाले भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ता है। आबाल, वृद्ध, नारी बाबा धाम पहुंचकर बाबा वैद्यनाथ की कृपा प्राप्त करते हैं। यह अद्भुत चमत्कारी कथा पूर्णत सत्य है।

3 टिप्‍पणियां:

  1. जय बाबा वैद्यनाथ की. पिछले बरस ही दर्शन करके आये हैं देवघर से.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी पोस्ट सही से नहीं देख पा रहा हूँ, आपसे अनुराध है कि ब्लॉग कि सैटिंग सही करें.

    उत्तर देंहटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में