जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

गुरुवार, 2 सितंबर 2010

सर्वगुणाकार है श्री कृष्ण...

आप सभी को जय श्री कृष्ण



सभी को श्री कृष्ण जन्म की बधाई हो तथा हमारी शुभकामनाये है कि भगवान श्री कृष्ण आपको व आपके परिवार में सदभाव व प्रेम तत्व की वर्षा करें. भगवान श्री कृष्ण सर्वदा और सर्वत्र सर्व गुणों के प्रकाश से तेजस्वी थे. वह अपराजेय, अपराजित, विशुद्ध, प्रेममय, पुण्यमय, दयामय, धर्मात्मा, वेदग्य, नीतिज्ञ, धर्मज्ञ, लोकहितेषी, न्यायशील, क्षमाशील, निरपेक्ष,शास्ता, निरंकार, योगी एयर तपस्वी थे. वह मानुषी शक्ति से कार्य करते थे,

वह मनुष्य के रूप में साक्षात् सर्वगुण संपन्न ईश्वर थे...........


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में