जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

बुधवार, 8 सितंबर 2010

आपका भाग्य अंक ६ और भविष्य..


आप सोच रहें होंगे, कोई अंक अच्छे या बुरे भी होंगे. नहीं, आप विश्वास कीजिये, कोई भी अंक अच्छा या बुरा नहीं होता . जिस प्रकार कोई भी ग्रह शुभ या अशुभ नहीं होता. हर व्यक्ति के जीवन पर उनका भिन्न भिन्न प्रभाव रहता है.उसी प्रकार अंको का भी हमारे जीवन शैली पर है. अंको की एक सुनिश्चित गति है, स्पष्ट लक्षण है, स्पष्ट अर्थ है. एक क्रम व योजना है. उसे भली प्रकार समझ लें तो मानव जीवन को समझना सरल हो जाता है.

भाग्यांक के लिए जन्म तारीख, जन्म मास्, जन्म वर्ष की आवश्यकता रहती है. सवाल यह है कि भाग्यांक कैसे बनाया जाये ? उदाहरण:- माना किसी की जन्म तिथि २७-०६-१९६२ है तो तारीख को जोड़ा २+७=९, मास् का योग किया तो ०+६= ६, जन्म वर्ष को जोड़ा तो १+९+६+२= १८, अब इन तीनों का जोड़ करेंगे ९+६+१८= ३३ आया इसका फिर एक अंक में परिवर्तन करने के लिए जोड़ेंगे तो ३+३= ६ अंक हमारे सामने आ रहा है बस यही भाग्यांक का अंक है अर्थात उपरोक्त जन्म तिथि के अनुसार हम कह सकते है कि भाग्यांक ६ है. अब भाग्यांक के फल पर भी विचार करते है.



आपका भाग्यांक ६ है तो:-- अंक ६ शुक्र ग्रह का परिचायक है. ६ अंक वाले व्यक्ति अधिक मोहने वाले होते है. दूसरे लोग खुद ही आकर्षित हो जाते है. इनके अधीनस्थ लोग इनको प्रेम करते है. और अकसर इनके उपासक होते है. अपने योजनाओं के प्रति दृढ़ निश्चयी होते है. यह हठी व न दबने वाले होते है. यदि किसी से प्यार करने लगे तो उसके दास तक बन जाते है. इनमें वासना से ज्यादा वात्सल्य होता है. प्रेम के मामले में रूमानी और आदर्शवादी होते है. सुन्दर चीजों से प्यार करते है. इनके घर सुंदरता और कलात्मकता से पूर्ण होते है. गहरे रंगों, चित्रों तथा संगीत के प्रेमी होते है. धनवान होने पर कला तथा कलाकारों के प्रति बहुत उदार हो जाते है.

आप व्यवशील है. अतिथियों की आवभगत में अधिक खर्च करते है. खर्च अधिक करने पर अर्थाभाव का सामना करना पड़ता है. आप आगे-पीछे नहीं सोचते है. तथा ऋण लेने की नौबत आ जाती है. चुकाने के समय नीचा देखना पड़ता है. आपको इस आदत पर नियंत्रण रखना चाहिए. आप मतभेद तथा इर्ष्या को भूल नहीं सकते है. आपकी पूर्ण सफलता का रहस्य सौम्य चेहरा, उन्मुक्त हंसी, आकर्षक देह होती है. पति पत्नी में निरन्तर कटुता बनी रहरी है. आप असफल ग्रहस्थ माने जा सकते है. संदेह का वातावरण बना रहता है.

व्यापार की शुभ तारीखें:-- ६, १५, ३, ९, १२, १८, २१, २७, ३०, २४, श्रेष्ठ व शुभ तारीखे है. यदि इस दिन शुक्रवार, मंगलवार, गुरूवार, बुधवार हो तो अत्यंत शुभ होता है.

व्यवसाय:-- होटल, शिल्पकर्म, डिजाइनर, वस्त्र व्यवसाय, श्रृंगार प्रसाधन सामग्री, वस्त्राभूषण, रेशमी, ऊनी वस्त्र मिष्ठान कार्य, नृत्य विनय काव्य, साहित्योपार्जन , नात्यकारिता, संगीत वाद्य, उपन्यासकार, इत्र, तेल व सुगन्धित वस्तुए यह कार्य आप अपना सकते है.इनमे अधि लाभ होने की संभावना रहेगी..

प्रेम व मित्रता के अंक:-- ६, ३, ९, व्यवसाय में पार्टनरशिप या प्रेम के मामले में शुभ अंक है.

सर्वश्रेष्ठ वर्ष:-- ६, ३, ९, १२, १५, १८, २१, २४, २७, ३०, ३४, ३६, ३९, ४२, ४८, ५१, ५४, ५७, ६०, ६३, ६९, ७२ जीवन के श्रेष्ठ वर्ष रहेंगे.

शुभ दिशा:-- उत्तर-पश्चिम, उत्तर-पूर्व तथा दक्षिण-पूर्व दिशाए आपके लिए अति शुभ फलदायक है.

शुभ रंग:-- हल्का नीला, गहरा नीला, काला, गुलाबी रंग, चॉकलेटी रंग सौभाग्यवर्धक रहेंगे..

......जारी........शेष भाग....................
 






2 टिप्‍पणियां:

  1. I was born on 22.01.1972. Am I a number 6 person.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी हां आपका भाग्यांक ६ है. २+२+०+१+१+९+७+२=२४ (२+४)= ६ हुआ. भाग्यांक ६ है किन्तु जीवन में चन्द्रमा और राहू का प्रभाव अधिक रहेगा. राहू जीवन में विभिन्न प्रकार की बाधाय उत्पन्न कर रहा है.

    उत्तर देंहटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में