जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

मंगलवार, 21 सितंबर 2010

आपकी राशि और भाग्य रत्न..





हमारे जीवन में नौ रत्नों का बहुत महत्व है. इनको धारण करने से हम अपने भाग्य के रास्ते की बाधा को काफी हद तक दूर करने में सक्षम हो सकते है.हमारी जन्म राशि और लग्न, अपने अन्दर सभी तरह के गुण-दोषों को लिए हुये है, जैसे आयु से सम्बंधित, स्वास्थ्य से इसका गहरा संबंध है.धन का यह प्रतिनिधित्व करती है. यश प्राप्ति में सहायक व काम धंधे की परिचायक, हमारा आचार-व्यवहार तथा विचारों का आदान प्रदान, इन सभी व्यापक गुणों की दृष्टि में रखते हुये हमें राशि(लग्न) से सम्बंधित रत्न धारण करना चाहिए राशि से सम्बंधित रत्न को मुख्य रत्न कहते है. कुछ रत्न ऐसे है, जो हमारे कष्टों का निवारण करते है. और कुछ रत्न ऐसे है, जो हमे कष्ट पंहुचाते है. यह जान लेना अति आवश्यक है कि आप जिस रत्न को धारण करने जा रहे है, कंहीं वह आपके लिए कष्टकारी तो नहीं? हम आपको सभी बारह राशियों(लग्न) के रत्नों के बारे में जानकारी देंगे कि कौन व्यक्ति अपनी राशि व लग्न के अनुसार कौन कौन से रत्न धारण कर सकता है.


अब हम माणिक्य रत्न के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे......

मेष राशि :-- मेष राशि मंगल की राशि है. मेष राशि का व्यक्ति बुद्धि बल प्राप्त करने आत्मोन्नति, सन्तान सुख, प्रसिद्धि, राज्य कृपा के लिए माणिक्य धारण कर सकता है. सूर्य की महादशा में माणिक्य श्रेष्ठ फलदायक होता है.

वृष राशि :-- इस राशि के व्यक्ति को माणिक्य नहीं धारण करना चाहिए. क्योंकि यह रत्न वृष राशि के व्यक्ति के लिए सूर्य की महादशा, अंतर्दशा आदि गोचर में अशुभ फल देगा.

मिथुन राशि :-- मिथुन राशि के व्यक्ति को माणिक्य रत्न सिर्फ सूर्य की दशा में ही धारण करना चाहिए वैसे कभी भी धारण नहीं करना चाहिए.

कर्क राशि :- इस राशि के व्यक्ति को माणिक्य रत्न धारण करना चाहिए. यह धन के अभाव को दूर करने में सहायक होगा. तथा आंखों के कष्ट में भी लाभकारी होगा.

सिंह राशि :-- इस राशि के व्यक्ति को माणिक्य अवश्य धारण करना चाहिए. शुभ फलदायक होगा. इस राशि वाले को जीवन भर माणिक्य लाभ ही लाभ प्रदान करेगा. इसे धारण करने से शत्रुओ पर विजय भी मिलती है. व मानसिक संतुलन बना रहता है. शारीरिक स्वास्थ तथा आत्मबल मिलता है.

कन्या राशि :-- उस राशि वालो को माणिक्य सदैव हानिकारक व कष्टकारी होगा. भयंकर दुर्घटना व नेत्र विकार से पीड़ित होने की संभावना बनी रहेगी.

तुला राशि :-- इस राशि वाले को केवल सूर्य की दशा में ही माणिक्य धारण करना चाहिए, जो कि लाभ के लिए शुभ होगा.

वृश्चिक राशि :-- इस राशि के व्यक्ति को माणिक्य धारण करना चाहिए क्योंकि यह राशि मंगल की है अत: धारण करने से राज्य कृपा, प्रतिष्ठा, नौकरी में सफलता प्राप्त होगी.

धनु राशि :-- इस राशि वाले को माणिक्य धारण करना शुभ होगा यह भाग्य की वृद्धि में सहायक होगा.

मकर राशि :-- इस राशि वाले को भूल कर भी मानिक्या नहीं धारण करना चाहिए. क्योंकि यह उसे शारीरिक कष्ट, रोग दुर्घटना आदि परेशानी दे सकता है.

कुम्भ राशि :-- ऐसे व्यक्ति को माणिक्य पहनना तो क्या इससे दूर दूर रहना चाहिए. वरना भारी हानि करेगा. पति या पत्नी दोनों के लिए हानिकारक रहेगा.

मीन राशि :-- इस राशि के व्यक्ति माणिक्य अपनी दशा सूर्य की दशा में धारण कर सकते है. जो रोगों से छुटकारा दिलवाने में सहायक सिद्ध होगा .......


अब हम मोती रत्न के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे......

मेष राशि :-- इस राशि के व्यक्ति यदि मोती धारण करते है तो उन्हें मानसिक शान्ति, विद्या सुख, गृह सुख और मातृ सुख का भरपूर लाभ मिलता है. यदि मोती को मंगल के रत्न मूंगा के साथ धारण किया जाये तो विशेष धन का लाभ होने लगता है.

वृष राशि :-- इस राशि के व्यक्ति को मोती कभी भी धारण नहीं करना चाहिए. यह शुभ फलदायक नहीं है.

मिथुन राशि :-- इस राशि के व्यक्ति को विशेष परिस्थितियों में मोती धारण करना लाभदायक हो सकता है. चन्द्रमा की दशा में मोती धारण करे तो उन्हें आर्थिक लाभ हो सकता है. मिथुन के लिए चन्द्रमा अशुभ भी है. इसे किसी ज्योतिषी से परामर्श करके धारण करें.

कर्क राशि :- इस राशि के व्यक्ति के लिए मोती अति शुभ कारक रहेगा. मोती धारण करने से स्वास्थ्य तथा आर्थिक पहलू पर नियंत्रण रहेगा. इनके जीवन में विनम्रता बनाए रखने में सक्षम होगा. आर्थिक दृष्टिकोण से लाभकारी होगा.

सिंह राशि :-- इस राशि का व्यक्ति मोती धारण कर सकता है. आंखों के रोगों को दूर करेगा. रक्त सम्बंधित रोगों को दूर करेगा. धन में वृद्धि करेगा. पिता को मानसिक शान्ति प्रदान करेगा. नींद अच्छी आएगी. पुत्र को मृत्यु से बचायेगा.

कन्या राशि :-- इस राशि व्यक्ति यदि मोती धारण करे तो आर्थिक लाभ, यश प्राप्ति, सन्तान का सुख प्राप्त होगा. तथा कल्याणकारी साबित होगा.

तुला राशि :-- इस राशि के व्यक्ति के लिए मोती धारण करना शुभ्ताथा लाभकारी भी है. मोती धारण करने से राज्य कृपा, अचानक धन प्राप्त, यश, पद-प्रतिष्ठा तथा समाज का गौरव प्राप्त होगा.

वृश्चिक राशि :-- इस राशि वालो के लिए मोती धारण करना अति लाभकारी है. इसके प्रभाव से चमत्कारिक रूप से भाग्य में उन्नति, धार्मिक भावना प्रबल होगी. जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में वह सुख का अनुभव करेगा.

धनु राशि :-- मोती धारण करना इस राशि वालो के लिए अति अशुभ होगा. इसका कारण मोती चन्द्रमा के बल को बढ़ाएगा जी इस राशि वालो के लिए हानि कारक सिद्ध होगा.

मकर राशि :-- इस राशि वालो के लिए अपने जीवन काल में मोती कभी भी धारण नहीं करना चाहिए. स्वास्थ्य हानि तथा पति- पत्नी में वैमनस्यता बढ़ेगी.

कुम्भ राशि :-- इस राशि के लोगों को मोती धारण नहीं करना चाहिए क्योंकि यह धन, यश, संपत्ति को नष्ट करेगा. अचानक शत्रु बढ़ेगे.

मीन राशि :-- इस राशि के व्यक्ति को मोती अवश्य धारण करना चाहिए वह उसे सदैव यश प्रदान करेगा. बुद्धि लाभ, भाग्य उदय, विद्या की प्राप्ति, पुत्र के सुख की प्राप्ति व अन्य चमत्कारी लाभ देगा...............

अब हम मूंगा रत्न के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे......

मेष राशि :-- इस राशि वाले व्यक्तिओं के लिए मूंगा सदैव लाभकारी व शुभदायक है. क्योंकि मूंगा रत्न इस राशि का रत्न है. मंगल इस राशि का स्वामी भी है. इससे इनकी आयु में वृद्धि, स्वास्थ्य में उन्नति तथा यश की प्राप्ति होगी.

वृष राशि :-- इस राशि के लिए मूंगा रत्न कष्टकारी होगा. इस राशि वालो को इसको पहनने की कल्पना भी नहीं करनी चाहिए.

मिथुन राशि :-- इस राशि वालो को मूंगा कभी भी धारण नहीं करना चाहिए. क्योंकि इस राशि वालो को मूंगा रत्न रोगों की उत्पत्ति करेगा इसका प्रभाव उलटा पड़ेगा.

कर्क राशि :- इस राशि वालो को मूंगा धारण करना अत्यंत शुभ फलदायी होगा. यदि इस राशि वाले लोग मोती और मूंगा एक साथ धारण करे तो उन्हें सन्तान का सुख, यश, मान और प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी. सभी कुछ प्राप्त करेगा.

सिंह राशि :-- मूंगा इस राशि वाले व्यक्तियों के लिए अति उत्तम है. इसके धारण करने से मानसिक शान्ति, घर तथा भूमि लाभ, धन लाभ, यश की प्राप्ति होती है. उसका भाग्य उज्जवल होता है. शुभ राज योग कारक माना जाता है यदि मूंगा रत्न माणिक्य के साथ धारण करे तो आश्चर्यजनक लाभ प्राप्त होने लगता है. मंगल और सूर्य दशा में अत्यंत लाभकारी होता है..

कन्या राशि :-- इस राशि वालो को मूंगा रत्न बहुत अधिक हानिकारक है. दुर्घटनाये, कष्ट देगा. छोटे भाइयो को कष्ट देने में प्रबल होगा. मृत्यु का बुलावा होगा.

तुला राशि :-- इस राशि वालो को मूंगा कभी भी धारण नहीं करना चाहिए आयु को ख़तरा होने की संभावनाए बड सकती है. अचानक दुर्घटनाओं का सामना करना पड़ सकता है.

वृश्चिक राशि :-- इस राशि वाले व्यक्तियों के लिए मूंगा धारण करना सुख-समृद्धि कारक तथा कल्याणकारी है.इसको धारण करने से निश्चय ही व्यक्ति की आयु में वृद्धि, स्वास्थ्य में उन्नति, तथा यश की प्राप्ति होगी.आशा से भी अधिक सुखो को भोगेगा.

धनु राशि :-- इस राशि वाले मूंगा रत्न धारण करके सुख, यश, धन, समृद्धि, भाग्य में उन्नति तहा सामाजिक प्रतिष्ठा आदि की प्राप्ति गोगी. सन्तान सुख के लिए उत्तम रहेगा.

मकर राशि :-- यदि इस राशि का व्यक्ति मूंगा रत्न धारण करे तो उसे जमीन जायदाद, वाहन, घर, धन की प्राप्ति, तथा माता का विशेष सुख प्राप्त होगा.

कुम्भ राशि :-- इस राशि वालो को मूंगा रत्न धारण करना वर्जित अर्थात बिलकुल मना है. हानि कारक रहेगा.छोटे भाई एवं बहनों के लिए कष्टकारी तथा सन्तान के सुख में कमी करेगा. शारीरिक कष्ट भी हो सकते है.

मीन राशि :-- इस राशि के लोगों के लिए सदैव ही लाभकारी होगा. यदि मूंगा रत्न पुखराज रत्न के साथ धारण करे तो भाग्य में उन्नति, धन प्राप्ति, परिवार को सुख देगा..........


अब हम पन्ना, रत्न के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे......

मेष राशि :-- इस राशि के व्यक्ति को पन्ना रत्न कभी भी धारण नहीं करना चाहिए.यदि इस राशि का व्यक्ति पन्ना धारण करता है तो यह बुध ग्रह के बुरे प्रभाव को बढ़ा देगा, और अनेक प्रकार के कष्टों का सामना करना पड़ेगा.

वृष राशि :-- इस राशि के व्यक्ति पन्ना रत्न धारण कर सकते है.इसे धारण करने से सुख-समृद्धि, धन, ऐश्वर्य, प्रतिष्ठा तथा सन्तान सुख की प्राप्ति होती है.और विद्या के लिए अति शुभ है. भाग्य में उन्नति और लाभकारी फल देता है.

मिथुन राशि :-- इस राशि वालों को पन्ना रत्न धारण करना अति शुभ है. इसे धारण करने से मानसिक शान्ति, माता का सुख, शारीरिक सुख की प्राप्ति होती है. तथा वाहन आदि के सुख का भी द्योतक है. अत: यह लाभकारी तथा शुभ है. पन्ना पहनने से मिर्गी के दौरे भी नहीं पड़ते है.

कर्क राशि :- इस राशि वाले को पन्ना धारण करना अति अमंगलकारी है. पन्ना रत्न धारण करने से भाइयो के सुख में कमी, माता से कष्ट, निश्चय ही अशुभ फल की प्राप्ति होती है.

सिंह राशि :-- इस राशि वालो को पन्ना रत्न धारण करना अति कल्याणकारी सिद्ध होगा. यह इन्हें आर्थिक लाभ, व्यवसाय में लाभ व सफलता, सन्तान सुख और प्रतिष्ठा देगा.

कन्या राशि :-- इस राशि वाले लो पन्ना रत्न धारण करना चमत्कारी रूप से लाभकारी सिद्ध होगा. इसके धारण करने से आयु में वृद्धि, शारीरिक सुख, कर्म, व्यवसाय, राज्य कृपा, प्रतिष्ठा और पिता को सुख प्राप्त होगा. भाग्य में कई अवसर उन्नति के आते रहेंगे.

तुला राशि :-- इस राशि के व्यक्ति के लिए पन्ना रत्न धारण करना शुभ माना जाता है. इसे धारण करने से भाग्य में उंनती के अवसर बार बार मिलेंगे. धर्म के प्रति आस्था बढ़ती है. धन की प्राप्ति सरलता से होगी. यदि पन्ना को हीरे के साथ लगा कर इस राशि के लोग धारण करे तो चमत्कारी लाभ प्राप्त होगा.

वृश्चिक राशि :-- इस राशि के लोगो को पन्ना रत्न किसी विद्वान ज्योतिषी से परामर्श करके धारण करना चाहिए. पर बुध की सिर्फ महादशा में ही धारण कर सकते है. सोच समझ कर और कुण्डली को दिखा कर ही इसे धारण करे.

धनु राशि :-- इस राशि वालो को कभी भी पन्ना धारण नहीं करना चाहिए. क्योंकि पन्ना धारण करने से व्यक्ति में दुषिता आती है.जो कि कष्टकारी साबित होता है.

मकर राशि :-- इस राशि वालो को पन्ना धारण करना सदा ही लाभकारी सिद्ध होगा.पन्ना रत्न यदि नीलम के साथ या चाहे तो अकेला पन्ना रत्न भी धारण कर सकते है. इसे धारण करने से भाग्यवर्धक, यश, शारीरिक सुख की प्राप्ति होगी.

कुम्भ राशि :-- इस राशि के लोग पन्ना रत्न धारण कर सकते है. जो इनके लिए फलदायी होगा. पन्ना रत्न को हीरा या नीलम के साथ भी धारण कर सकते है.इससे शारीरिक सुख, आर्थिक लाभ तथा सन्तान के सुख की प्राप्ति होगी. मन में स्थिरता और शान्ति प्राप्त होगी.

मीन राशि :-- मीन राशि के व्यक्ति केवल बुध की दशा में ही पन्ना रत्न धारण कर सकते है. जो इन्हें आर्थिक दृष्टि से लाभ करेगा और माता के सुख का भी लाभ प्राप्त होगा.....

अब हम पुखराज, रत्न के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे......

मेष राशि :-- इस राशि के व्यक्ति को पुखराज रत्न धारण करना अति शुभ होगा. पुखराज धारण करने से भाग्य में वृद्धि होगी. बल, बुद्धि, विद्या तथा ज्ञान की प्राप्ति होगी. कल्याणकारी होगा. समृद्धि देने वाला होगा.

वृष राशि :-- इस राशि के लोगो के लिए पुखराज रत्न धारण करना अमंगलकारी है. इसे भूल कर भी ना पहने. परामर्श करके धारण करना चाहिए.

मिथुन राशि :-- इस राशि के व्यक्ति केवल वृहस्पति की दशा में ही पुखराज रत्न धारण कर सकते है. धारण करने से पहले किसी विद्वान ज्योतिषी से प्रानार्ष करना अनिवार्य है.

कर्क राशि :- इस राशि के लोगो के लिए पुखराज धारण करना अति उत्तम होगा. इसे धारण करने से आर्थिक लाभ तथा ज्ञान में प्रचुर वृद्धि होगी. पिता तथा सन्तान के सुख की प्राप्ति होती है. यदि मोती और पुखराज दोनों पहने तो चमत्कारी लाभ होगा.

सिंह राशि :-- इस राशि के लोगो के लिए पुखराज रत्न पहनना अति कल्याणकारी सिद्ध होगा. सन्तान का सुख प्राप्त होगा. विदेश में व्यापार से लाभ होगा.

कन्या राशि :-- इस राशि वालो को पुखराज रत्न धारण नहीं करना चाहिए. क्योंकि धारण करने से आर्थिक कष्ट उत्पन्न करेगा.

तुला राशि :-- इस राशि वालो के लोगो के लिए पुखराज रत्न अति अशुभ माना गया है. पुखराज धारण करने से रोग बढ़ेंगे. शत्रु हावी होंगे, भाई बहन के सुखो में कमी होगी तथा मानसिक चिंता परेशान करेगी.

वृश्चिक राशि :-- इस राशि वालो के लिए पुखराज रत्न शुभ अत्यंत समृद्धिदायक तथा खुशियाँ प्रदान करने वाला होगा. पुत्रों को उन्नति देगा. राज्य कृपा तथा प्रतिष्ठा में वृद्धि करेगा. पुत्रों को नाम, प्रतिष्ठा, यश प्राप्त होगा. इस राशि वालों को पुखराज जीवन भर धारण करना चाहिए.

धनु राशि :-- इस राशि वालों के लिए पुखराज रत्न सबसे श्रेष्ठ माना गया है. इसे धारण करने से शारीरिक सुख की प्राप्ति, वाहन सुख, माँ का सुख, तथा सभी प्रकार के आर्थिक लाभ प्राप्त होंगे. इस राशि वाले लोगो को पुखराज आजीवन धारण करना चाहिए. जो कि लाभकारी सिद्ध होगा.

मकर राशि :-- इस राशि के लोगो के लिए पुखराज रत्न अशुभ होगा कभी भी पुखराज ना धारण करे. इसके कारण शारीरिक कष्ट, पिता को कष्ट, तथा रोगों को बढ़ाएगा. जीवन में कभी भी धारण नहीं करना चाहिए.

कुम्भ राशि :-- इस राशि वालों लो पुखराज रत्न ज्योतिषी से परामर्श करके ही धारण करना चाहिए. कुछ रत्न विशेषज्ञ इस राशि वालों को पुखराज रत्न धन हेतु भी पहनाते है कई बार लाभ देता है किन्तु शारीरिक कष्ट की उत्पत्ति कर देगा.

मीन राशि :-- इस राशि वाले लोगो के लिए पुखराज रत्न आजीवन धारण करना चाहिए. इनके लिए शुभ तथा कल्याणकारी माना जाता है. धन-समृद्धि में वृद्धि करेगा. स्वास्थ्य ठीक रखेगा. विद्या बुद्धि में उन्नति देगा. पति या पत्नी के लिए शुभकारी होगा. राज्य कृपा प्राप्त होगी. उच्च पद प्राप्त होने की संभावना बड़ेगी. सभी मनोकामना पूर्ण होती है......

अब हम हीरा, रत्न के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे......

मेष राशि :-- इस राशि के व्यक्तिओं को हीरा कभी भी धारण नहीं करना चाहिए. क्योंकि इसे धारण करने से धन तथा साझेदारी के कार्यों में कष्टकारी तथा आयु की कमी होगी. पति – पत्नी में अलगाव पैदा करेगा तथा वाणी में विकार पैदा करेगा, व्यभिचारी बनायेगा.

वृष राशि :-- इस राशि वाले व्यक्ति को हीरा रत्न शुभकारी सिद्ध होगा. स्वास्थ्य की वृद्धि करेगा. आयु वृद्धि के लिए शुभ होगा. स्त्री या पति के स्वास्थ्य में सुधार होगा. ऋण को कम करने में सहायक होगा. शत्रु बाधा कम होगी. भोग विलास की सामग्री देगा. आंखों की बीमारीओं का शमन करेगा.

मिथुन राशि :-- इस राशि के लोगो को हीरा रत्न धारण करने से धन और भाग्य की वृद्धि होगी. बुद्धि में वृद्धि करेगा. भोग विलास, रति की प्राप्ति, पुत्र की वृद्धि करेगा. स्वास्थ्य में सुधार करेगा. समृद्धिदायक साबित होगा.

कर्क राशि :- इस राशि के लीगी को हीरा रत्न धारण नहीं करना चाहिए. इसे धारण करने से माता तथा पिता की आयु व स्वास्थ्य को क्षीण करेगा. खून से सम्बंधित रोग पैदा करेगा. पत्नी या पति से वैमनस्यता बढ़ाएगा. अपयश देगा.

सिंह राशि :-- इस राशि के लोगो को हीरा रत्न नहीं धारण करना चाहिए. इसे धारण करने से राज्य से सम्बंधित लोगो से अपमानित होना पड़ सकता है. बहनों के लिए कष्टकारी हो सकता है. स्त्रियों से वैमनस्यता बढ़ाएगा. स्वास्थ्य हानि करेगा.

कन्या राशि :-- इस राशि के लोगो को हीरा रत्न धारण करने से भाग्य में वृद्धि होगी. राज्य कृपा प्राप्त होगी. धन की विशेष वृद्धि देगा. गायन शक्ति में वृद्धि होगी. रोगों का शमन करेगा. विद्या में उन्नति प्राप्त होगी.

तुला राशि :-- इस राशि के लोगो के लिए हीरा रत्न अत्यंत कल्याणकारी सिद्ध होगा. आयु व स्वास्थ्य के लए अति शुभ होगा. धन सुख समृद्धि देगा. तथा बड़े लोगो से मित्रता प्राप्त होगी. मन में प्रसन्नता देगा.व्यक्तित्व में निखार लाएगा.

वृश्चिक राशि :-- इस राशि के लोगो को हीरा रत्न कदापि धारण नहीं करना चाहिए. क्योंकि पत्नी को शारीरिक कष्ट प्रदान करेगा. गुर्दे सम्बन्धी रोग प्रदान करेगा. व्यापार में घाटा तथा साझेदार से अनबन तथा क्लेश उत्पन्न होने की संभावना बड़ेगी.

धनु राशि :-- इस राशि के लोगो को शुक्र की दशा में हीरा रत्न धारण करने के लिए किसी विद्वान ज्योतिषी से परामर्श करना चाहिए.

मकर राशि :-- इस राशि के लोगो के लिए हीरा रत्न धारण करना राज योग कारक है. शुक्र सुख शान्ति में वृद्धि करेगा.पदोन्नति तथा धन लाभ दिलाएगा.माँ प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी. रति विलास में रूचि करेगा. पिता के धन की वृद्धि करेगा. यदि हीरा नीलम के साथ धारण करे तो अति उत्तम फ; की प्राप्ति होगी.

कुम्भ राशि :-- इस राशि वालो के लिए हीरा रत्न शुभ योग कारक होगा. धन तथा लक्ष्मी देगा. भाग्य में वृद्धि करेगा. वाहनादि का विशेष सुख देगा. माता की आयु और धन देगा. पिता को सुख और धन व स्वास्थ्य प्रदान करेगा. अचानक धन की प्राप्ति के योग बनेंगे. राज्य की ओर से सहायता को बढ़ाएगा.

मीन राशि :-- इस राशि के लोगो को हीरा रत्न कभी भी धारण नहीं करना चाहिए. स्वास्थ्य में हानि करेगा. शरीर में बीमारियाँ उत्पन्न होंगी. बहन के स्वास्थ्य को खराब करेगा या संबंध में खटास उत्पन्न होगी.......

अब हम नीलम, रत्न के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे......

मेष राशि :-- इस राशि के लोग शनि की दशा में नीलम रत्न धारण कर सकते है. इस राशि के लिए शनि लाभदायक हो सकता है. अपनी दशा में.. इसका रत्न धारण करने से लाभ में वृद्धि होगी. राज्य से सम्बंधित लोगो से मेलजोल लाभकारी सिद्ध होगा. भवन तथा जमीन का लाभ देगा. वायु सम्बंधित रोगों से बचायेगा.टांगो को बल देगा.

वृष राशि :-- इस राशि वालो को शनि रत्न नीलम शुभ फलदायक होगा.यह रत्न धारण करने से धन मान और भाग्य की वृद्धि होगी.छोटे भाई की आयु में वृद्धि करेगा. पिता की आयु और स्वास्थ्य में वृद्धि करेगा. आपके स्नायुओं को मजबूत करेगा. राज्य से कृपा प्रदान होगी. उच्चाधिकारियों से लाभ प्रदान करवाएगा. इस राशि वाले इसे हीरा के साथ भी धारण कर सकते है अति लाभदायक सिद्ध होगा.

मिथुन राशि :-- इस राशि के लोग भी नीलम रत्न धारण कर सकते है. वो भी शनि की दशा में.. धन और भाग्य में वृद्धि करेगा. तथा धर्म में रूचि उत्पन्न करेगा.

कर्क राशि :- इस राशि वालो के लिए शनि अशुभ ग्रह है. इसका रत्न कदापि धारण नहीं करना चाहिए. आयु को क्षीण करेगा. धन के क्षेत्र में कष्ट तथा हानि देगा. साझेदारी के कार्यों में दुखदायी होगा.पति पत्नी में अलगाव पैदा करेगा. पति या पत्नी के लिए कष्टकारी भी सिद्ध होगा.

सिंह राशि :-- इस राशि के लोगो को नीलम रत्न नहीं धारण करना चाहिए. क्योंकि इस धारण करने से शत्रु सिर उठाएँगे. धन की कमी रहेगी. पति या पत्नी की आयु के लिए कष्टकारी होगा. पेट तथा अंतड़ियों से सम्बंधित रोग उत्पन्न होंगे.

कन्या राशि :-- इस राशि वालो को नीलम रत्न धारण करने के लिए ज्योतिषी से परामर्श लेना अति आवश्यक है. यदि नीलम रत्न धारण करेंगे तो स्वास्थ्य की हानि करेगा. और बच्चो से वैमनस्यता रहेगी.शत्रु हावी होने लगते है. पेट से सम्बंधित रोग देगा.

तुला राशि :-- इस राशि वालो के लिए शनि राजयोगकारक है. नीलम रत्न धारण करने से धन, पदवी,सुख सभी में वृद्धि करेगा. निम्न स्तर के लोगो से प्यार प्राप्त होगा. आयु तथा स्वास्थ्य में वृद्धि करेगा. माता को धनादि की प्राप्ति होगी. और पिता का स्वास्थ्य व धन ठीक रखेगा.

वृश्चिक राशि :-- इस राशि के लोग शनि की दशा में परामर्श के द्वारा नीलम रत्न धारण कर सकते है. परन्तु नीलम धन की विशेष वृद्धि नहीं करेगा. लेकिन भूमि में वृद्धि होगी. मित्रों से लाभ हो सकता है. छोटी बहनों और भाइयों को सुख तथा धन प्राप्त हो सकता है.

धनु राशि :-- इस राशि के लोगो को नीलम रत्न धारण करना शुभकर नहीं होगा. बहन-भाइयों की आयु को क्षीण करेगा. तथा शत्रु अधिक पैदा होंगे.

मकर राशि :-- इस राशि के लोगो के लिए नीलम रत्न धारण करना अत्यंत शुभ होगा.इनके स्वास्थ्य, धन, आयु, विद्या में वृद्धि करेगा. वाणी में सुधार होगा. टांगो के रोगों का शमन होगा. वायु से उत्पन्न रोगों को दूर परेगा.

कुम्भ राशि :-- इस राशि के लोग नीलम धारण कर लाभ उठा सकते है. धन में वृद्धि करेगा. आंखों के दोषों का शमन करेगा. व्यय को कम करेगा. स्नायुओं को बल देगा. टांगो तथा पांवों को भी बल देगा. पुत्र की आयु में वृद्धि करेगा. पुत्र का भाग्य बढ़ाएगा.

मीन राशि :-- इस राशि के लोगो को नीलम रत्न नहीं धारण करना चाहिए. आंखों के रोगों को बढ़ाएगा. धन लाभ में कठिनाइयां उत्पन्न करेगा. स्वास्थ्य में भी हानि करेगा...

गोमेद और लहसुनिया (राहू एवं केतु रत्न)

गोमेद और लहसुनिया के रत्न को अपनी कुण्डली किसी विद्वान ज्योतिषी को दिखा कर परामर्श लेकर धारण करना अनिवार्य होता है. या इनकी दशाएँ आने पर परामर्श से पहन सकते है. क्योंकि यह दोनों छाया ग्रह के रूप में माने जाते है. वैसे राहू का गोमेद है तथा केतु का रत्न लहसुनियां है राहू ग्रह शनि की प्रवृति रखता है. और केतु ग्रह मंगल की प्रवृति के समान होता है. यह जरूरी नहीं कि यह दोनों कष्टकारी फल दें, शुभ फल भी प्राप्त हो सकते है. यह दोनों रत्न कोई भी और किसी भी राशि का व्यक्ति परामर्श कर के धारण कर सकता है. और उसे लाभ भी होगा.............




312 टिप्‍पणियां:

  1. bahut badhiya ..agar humaapse kuch janna chahein to kya aapko mail kar sakte hain ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका बहुत बहुत धन्यवाद, जी हां आप मेल अवश्य भेज सकते है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. लेकिन पंडितजी कई लोग कहते हैं कि कन्या राशि वाले भी पुखराज धारण कर सकते हैं अगर उनका वृहस्पति उच्चा का है तो। ऐसा इसलिए की उच्च के वृहस्पति को पुखराज और मजबूत बना सकता है। कृपया मार्गदर्शन करें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुशांत जी, कन्या राशि या कन्या लग्न वालों को कभी पुखराज नहीं धारण करना चाहिए, क्योंकि राशि और लग्न स्वामी बुध है, तथा पुखराज वृहस्पति से सम्बन्धित रत्न होता है, सर्व विदित है कि बुध और वृहस्पति देव में आपस में शत्रुता का सम्बन्ध है. कन्या राशि तथा कन्या लग्न में वृहस्पतिदेव चतुर्थ तथा सप्तम (मारक और बाधकेश)का स्वामी होकर बाधा उत्पन्न करेगा. किसी भी प्रकार से शुभ फल नहीं प्राप्त होगा. यह जरूर है कि कन्या राशि या कन्या लग्न वालों को वृहस्पति से सम्बन्धित दान-पूजा आदि करके लाभ उठाना चाहिए.धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेनामी7/04/2011 6:19 pm

    name-vishnu kumar tripathi
    d.o.b.-04-03-1974
    place-faridabad (haryana)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. AJAY KUMAR-(D.O.B-28.09.1988)
      PLACE- HIMACHAL PRADESH

      हटाएं
    2. ajay kumar (d.o.b 28.09.1988)
      himachal pradesh

      हटाएं
  6. बेनामी जी, नमस्कार.. अपना नाम और प्रश्न अवश्य लिखें. धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेनामी7/14/2011 6:44 pm

    pandit ji
    mera jamn 8th june 1989 h
    rashi kark

    kaunsa rashi ratan dharan karna chahie ??


    Thanks,
    Shilpa Budhiraja

    उत्तर देंहटाएं
  8. शिल्पा जी, आपने अपना जन्म समय और जन्म स्थान नहीं लिखा.कृपया आप अपना जन्म समय और जन्म स्था अवश्य लिखे,उसी के आधार पर रत्न धारण करना उचित और श्रेष्ठ रहता है. नमस्कार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेनामी7/15/2011 11:24 am

    shat shat dhanywad pandit ji,

    Mera jan samy : 9 se 10 bje k bich mein.
    janm sathann : Gurgaon
    Date of Birth : 08th June,1989.

    Rashi ratan bataiyega jaroor.




    Thanks,
    Shilpa Budhiraja

    उत्तर देंहटाएं
  10. शिल्पा जी . जन्म समय सुबह का है ? या रात का ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेनामी7/15/2011 2:21 pm

    pandit ji,
    subeh ka.



    regards,
    shilpa budhiraja

    उत्तर देंहटाएं
  12. शिल्पा जी, आपकी जन्मकुंडली के अनुसार आपकी कर्क राशि और कर्क लग्न में जन्म हुआ है. तथा शुक्र की महादशा चल रही है.07/08/2014,तक शुक्र की ही अंतर्दशा रहेगी. यह समय अत्यंत महत्वपूर्ण रहेगा.आप मोती, मूंगा, और पुखराज रत्न पहन सकते है. और सूर्यास्त के बाद सफेद वस्तुओं का प्रयोग ना करें. तो ठीक रहेगा.नमस्कार

    उत्तर देंहटाएं
  13. शिल्पा जी, आप गंडमूल नक्षत्र में पैदा हुई है, तथा मांगलिक भी है, विवाह के समय मिलान अनिवार्य रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेनामी7/15/2011 6:53 pm

    bahut bahut dhnayawad pandit ji,
    kya apki email id mil sakti hain ?
    or kya hum aapse aage kuchh bhi jan sakte hain ?


    thanks,
    Shilpa Budhiraja

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेनामी7/15/2011 6:55 pm

    Shukr ki mahadasha k effects kya hain ?
    kya ye khraab hain ?
    kuchh upay ?

    bht bht dhnayawad pandit ji,
    Namaskaar.

    उत्तर देंहटाएं
  16. उत्तर
    1. गुरूजी मेरा जन्म यूपी के hardoi में दिनाक 25 मार्च 1980 को रात के 9;30 पर हुआ था
      जन्म की राशि कर्क हे और नाम के हिसाब से तुला है रत्न को धारण करने के लिए किस राशि को माना जाए
      इस समय दशा और महादशा कौन सी चल रही है
      मेल आइडी ram.jagran24@gmail.com
      राम मिश्र
      शाहजहांपुर यूपी

      हटाएं
  17. बेनामी7/16/2011 11:28 am

    Namaskaar Pandit Ji,
    E mail Id k lie Thank You.
    kya aap bata sakte hain ki ye 3 ratn jo aapne bataye hain wo kis dhatu mtlb sone ki ring main ya chandi ki ring m dharan karna hain
    kis din dharan karna hain or kaun si ring mein dharan karna h
    kripya bataye......



    Regards,
    Shilpa Budhiraja

    उत्तर देंहटाएं
  18. शिल्पा जी, मोती रत्न आप चांदी की अंगूठी में शुक्ल पक्ष के प्रथम सोमवार को प्रातः अपने सीधे हाथ की सबसे छोटी उंगली कनिष्ठा में धारण करें..

    उत्तर देंहटाएं
  19. मूंगा रत्न शुक्ल पक्ष के मंगलवार प्रातः सीधे दांए हाथ की अनामिका उंगली में तांबे या सोने में बनवा कर धारण कर सकते है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. पुखराज रत्न वृहस्पतिवार प्रातः शुक्ल पक्ष में प्रथम वृहस्पतिवार को सोने की अंगूठी बनवा कर दांए हाथ की प्रथम उंगली तर्जनी index fingar में धारण करे.

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपको ई-मेल द्वारा भी विधि भेज रहा हूँ. नमस्कार

    उत्तर देंहटाएं
  22. बेनामी8/24/2011 2:31 pm

    Mera naam shubham chaturvedi mera janum 15.11.1991 ko pratah lagbhag5.00 ke aaspaas huaa tha mere liye konsa ratan labhdayak or uchit rahega

    उत्तर देंहटाएं
  23. बेनामी8/24/2011 2:35 pm

    mera naam shubham chaturvedi he me bhut parshaan rahtha hu or jin logo se mera madhur sambhand (Ristha) rahtha he un loga se meri duriya bad jathi he jyothishya ke ansar muje kya karna chahiye

    उत्तर देंहटाएं
  24. शुभम चतुर्वेदी जी आप अपना जन्म स्थान भी लिखे........

    उत्तर देंहटाएं
  25. बेनामी10/29/2011 7:48 pm

    MERA DATE OF BIRTH 05/11/1969 4.45 P.M.HAI OR SANI LAGNA ME HAI,KAYA HAME NEELAM OR PUKHRAJ DHARAN KARNA CHAIYE........

    उत्तर देंहटाएं
  26. बेनामी10/29/2011 7:49 pm

    MERI MAIL ID HAI suveen1969@yahoo.co.in hai

    उत्तर देंहटाएं
  27. ji mrea naam manisha hai.mujhe pukhraj pahanane bola gaya hai. kya yah mere liye sahi rahega.mera birth day 1-8-1985 hai or time 6:35pm place bilaspur (c.g.)hai.

    उत्तर देंहटाएं
  28. मनीषा जी, आपकी जन्म कुंडली के अनुसार आपका जन्म लग्न और जन्म राशि मकर है, इसलिए "पुखराज" रत्न आपको अनुकूल नहीं होगा, जन्म कुंडली के अनुसार आपको नीलम, पन्ना और हीरा रत्न ही अनुकूल होंगे....आपका वृहस्पति नीच राशि का होकर लग्न में स्थित है, अतः आप वृहस्पति का दान करे तो लाभ होगा.....पुखराज रत्न किसी भी प्रकार से ना पहने...

    उत्तर देंहटाएं
  29. बेनामी1/02/2012 2:11 pm

    विरेन्द्र जाखङ 2/4/1987 शाम 3.00 बजे सांवली,सीकर,राजस्थान मुझे राशि रत्न बताये

    उत्तर देंहटाएं
  30. बेनामी1/03/2012 6:21 pm

    Mera nam Pankaj Kalbande hai birth date 9/3/1980 and birthplace is Selu kya aap bata sakte hai mai konsa ratna dharan kar sakta hun

    उत्तर देंहटाएं
  31. बेनामी1/03/2012 6:36 pm

    Birth time hai 12 AM and mail ID pankajkalbande@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  32. mahendr kumar goyal d.o.b.-19-march-1982 and time 7:50pm and city bikaner rajasthan. mera rashi ratna kya hoga?

    उत्तर देंहटाएं
  33. महेंद्र कुमार गोयल जी आपकी जन्मकुंडली के अनुसार राहू की महादशा चल रही है जो कि 18/12/2006 से 17/12/2024 तक है..आप गोमेद रत्न भी धारण कर सकते है जन्मकुंडली अनुसार आप पन्ना, नीलम और हीरा रत्न धारण कर सकते है...अगर गोमेद पहनना है तो उसके साथ उपरोक्त कोई रत्न ना धारण करें अर्थात गोमेद अकेला ही पहने.....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. kya mein neelam dharan kar sakta hun, aur sone mein ya chandi mein, aur konsi ungli mein?

      हटाएं
  34. नन्द किशोर2/01/2012 4:58 pm

    पंडित जी प्रणाम, मेरा नाम नन्द किशोर है, मेरा जन्म २१ और २२ जुलाई १९७२ की रात्रि तीन बजकर २५ मिनट ( ०३.२५सुबह) कानपुर शहर में हुआ था। मेरा मन बेहद अशांत रहता है और कारोबार भी उन्नति नहीं कर रहा। क्या पन्ना पहनना ठीक रहेगा और क्या उसके साथ नीलम भी पहनना ठीक रहेगा?
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  35. gopal singh rajpot, D.O.B.28-11-1976, Time-11:00pm, Dist. Harda State-M.P., mera rashi ratna kya hoga?

    उत्तर देंहटाएं
  36. नन्द किशोर जी, आप पन्ना के साथ नीलम भी धारण कर सकते है इसके साथ साथ शनिवार प्रातः पीपल वृक्ष में जल भी अर्पण करें तो लाभ होगा और मानसिक शान्ति प्राप्त होगी....

    उत्तर देंहटाएं
  37. गोपाल जी, आपकी जन्मकुंडली के अनुसार आप मोती, मूंगा और पुथ्राज रत्न ही धारण कर सकते है इस समय शनि की महादशा चल रही है जो कि अप्रैल 2018 तक है अतः आप श्री हनुमान जी की उपासना करके लाभ उठायें

    उत्तर देंहटाएं
  38. pandit ji, mein neelam ya gomed dono mein se konsa ratna pahnu.

    उत्तर देंहटाएं
  39. बेनामी4/27/2012 12:57 pm

    pandit ji mera naam Santosh kumar hai yeh mera mujhe dob 27/031978
    hai mujhe koun se ratan dharan karna chihiye mere zindigi is time bikhar chuki hain main bahut pareshan hu kirpiya marg darshan kijiye

    उत्तर देंहटाएं
  40. पंडित जी मेरा नाम दिनेश चन्द्र है, मुझे नौकरी मैं बहुत कष्ट मिल रहे क्या मैं अपना कोई काम कर सकता हूँ? मेरी जन्म तिथि "१५ अगस्त १९८४ रात के ११:२५ पर है" कृपया कोई उपाय बताइए....
    dinesh.chander15@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  41. पंडित जी मेरा नाम दिनेश चन्द्र है, मुझे नौकरी मैं बहुत कष्ट मिल रहे क्या मैं अपना कोई काम कर सकता हूँ? मेरी जन्म तिथि "१५ अगस्त १९८४ रात के ११:२५ पर है" कृपया कोई उपाय बताइए....
    dinesh.chander15@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  42. बेनामी8/23/2012 8:47 am

    गुरुदेव प्रणाम
    मेरा नाम अरविन्द है जन्म तिथि १९ जून १९८२ जन्म समय १२.०२ रात्रि और स्थान पटना के समीप है..मैं पिछले चार वर्षों से लीवर की भयंकर बीमारी से पीड़ित हूँ..अब जीवन से परेशान हूँ...मन में जीवन खत्म करने के भी विछार आते हैं...महामृतुन्जय का भी प्रभाव नहीं हुआ है...परिवार में कलह है...और अब धार्मिक कार्यों से भी विश्वाश उठ रहा है की जब सबकुछ पूर्वनियत हा तो..सभी ज्योतिषी अलग बताते है...आपका विद्वात्पूर्ण लेख पढ़ के आस जगी है.. मार्ग सुझाएँ...आजीवन आभारी रहूँगा...

    उत्तर देंहटाएं
  43. Namaskar Pandit ji
    my dob is 23-10-1987
    time : 11:05 pm
    bithplace : Narendranagar , Uttarakhand
    which gemstone should I wear?





    AMIT RAWAT

    उत्तर देंहटाएं
  44. Namaaskar Pandit ji

    dob: 23-10-1987
    time: 11:05 pm
    birthplace: narendranagar, uttrakhand

    mujhe kounsa ratna pehnna chahiye
    kripya uchit raaye dein

    aapka abhaari
    Amit

    उत्तर देंहटाएं
  45. prabhu ji mera naam lalit srivastava hai men agra men rehta hun negetive anergi se grast hun mera marg darshan kijiye ..................plz.......... jai maha kaal

    उत्तर देंहटाएं
  46. प्रभु जी जय श्री कृष्णा में नेगेटिव एनेर्गी से ग्रस्त हूँ क्रप्या सही रास्ता बताएं ..धन्यबाद

    उत्तर देंहटाएं
  47. Naskaar guru g...
    mai ankit gupta
    kanpur se..

    guru g meri samsya yah hai ki,,,,meri life me sb kuch mil ke chhut jaata hai...koi kaam ka result positive hote hote negetive me badal jaata hai.....
    or guru g...ek problum yah hai ki ...meri Lagna sine LEO hai or raasi(in kudali) me CAPRICON hai...so mai kaun sa ratna dharan karu...

    उत्तर देंहटाएं
  48. Nmaskaar guru g
    mera naam Ankit gupta hai...
    mera janm 10/4/1988
    time 15;10 min
    ko hua tha Firozabad(u.p) me..


    meri life me kaafi problum aa rhi hai...mera kaam suruaat to aache se krte hai par beech me hi aisa paasa palataa hai ki...wo dubaara kabhi nhi bante..
    or guru g meri kudali ke anusaar ...meri Rasshi "Capricon" hai..or Lagna "LEO" hai

    so jo ratna leo use kr skta hai wo capricon nhi or jo LEo use kr sakta hai..wo Capricon nhi...so plz mere ki ucchit marg darsan kere..
    meri to kuch samajh me nhi aaa rha hai..

    उत्तर देंहटाएं
  49. Namskar Sir mera naam mamta h mujhse apne bhai ke liye puchhna chahti hu
    name PRAVEEN CHAUHAN DOB 21th Dec 1990 TIME: 1:30PM (birth place DELHI)
    h uske liye konsa ratna theek rahega jisse wo achhe se apna software engineering ka cource kar sake achhi job ghar mai sukh santi smridhi uska apne course mai man hi nahi lagta hum uski poori fee de chuke h aur wo hi akela h ghar pr kamane wala vese wo abhhi ese hi part time job kar raha h

    उत्तर देंहटाएं
  50. Sorry Sir Mai janna jahati thi konsa ratan uske liye theek rahega aur kitni ratti ka aur uske rashi ka naam KH se Nikla tha pr humne uska naaam praveen hi rakha h

    उत्तर देंहटाएं
  51. मेरे पुत्र विनय कुमार, दिनाक १२-०१-१९८७ समय १२.४५ सुबह देहली के safdarjung अस्पताल में पैदा हुआ / उषाका रतन क्या होगा

    उत्तर देंहटाएं
  52. मेरे पुत्र विनय कुमार, दिनाक १२-०१-१९८७ समय १२.४५ सुबह देहली के safdarjung अस्पताल में पैदा हुआ / उषाका रतन क्या होगा

    उत्तर देंहटाएं
  53. Pandit ji
    mera nama jitendra he our share log mujhe jitu ke nama se bulathe he
    mujhe mera janam tarikha nahi maluma he lekin mere share pahachan ptr pe ik hi tarikha he va he 01/01/1988 me mumbai me janamaa me yaha janna chata hu ki mera jivan kesha rahega our
    mujhe komsha rtan dharnd karna chahi ye
    paz mujha bathaye mera i mail id he jitusihote@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  54. Pandit ji namshkaar
    Mera naam RITESH hai, meri DOB: 22/06/1991,Time: 12.05am h
    plz mujhe bataye ki mujhe konsa ratan dharan karna chahiye...
    Dhanyawaad!!!!
    a

    उत्तर देंहटाएं
  55. Pandit ji namshkaar
    Mera naam RITESH hai, meri DOB: 22/06/1991,Time: 12.05am h
    plz mujhe bataye ki mujhe konsa ratan dharan karna chahiye...
    Dhanyawaad!!!!
    a

    उत्तर देंहटाएं
  56. Pandit ji pranam
    Mera naam RITESH h Mera DOB: 22nd June 1991, Time: 12:05am, Place: Bhopal(m.p) hai.
    plz mujhe bataye mujhe konsa ratan dharan karna chahiye...
    dhanyawaad!!

    उत्तर देंहटाएं
  57. PANDIT JI PRANAM MERA NAM UDAY PRATAP SINGH (DEEPAK SINGH) MERA DOB 10/5/1980 H PLZ
    MUJHE BATAYE MUJHE KONSA RATAN DHARAN KARNA CHAHIYE

    उत्तर देंहटाएं

  58. नवग्रहों के वर्जित दान एवं कार्य :-

    जो ग्रह जन्मकुंडली में उच्च राशि या अपनी स्वयं की राशि में स्थित हों, उनसे सम्बन्धित वस्तुओं का दान व्यक्ति को कभी भूलकर भी नहीं करना चाहिए.
    सूर्य मेष राशि में होने पर उच्च तथा सिँह राशि में होने पर अपनी स्वराशि का होता है. अत: आपकी जन्मकुंडली में उक्त किसी राशि में हो तो:-
    * लाल या गुलाबी रंग के पदार्थों का दान न करें.
    * गुड, आटा, गेहूँ, ताँबा आदि किसी को न दें.
    * खानपान में नमक का सेवन कम करें. मीठे पदार्थों का अधिक सेवन करना चाहिए.
    चन्द्र वृष राशि में उच्च तथा कर्क राशि में स्वगृही होता है. यदि आपकी जन्मकुंडली में ऎसी स्थिति में हो तो :-
    * दूध, चावल, चाँदी, मोती एवं अन्य जलीय पदार्थों का दान कभी नहीं करें.
    * माता अथवा मातातुल्य किसी स्त्री का कभी भूल से भी दिल न दुखायें अन्यथा मानसिक तनाव, अनिद्रा एवं किसी मिथ्या आरोप का भाजन बनना पडेगा.
    * किसी नल, टयूबवेल, कुआँ, तालाब अथवा प्याऊ निर्माण में कभी आर्थिक रूप से सहयोग न करें.
    मंगल मेष या वृश्चिक राशि में हो तो स्वराशि का तथा मकर राशि में होने पर उच्चता को प्राप्त होता है. ऎसी स्थिति में:--
    * मसूर की दाल, मिष्ठान अथवा अन्य किसी मीठे खाद्य पदार्थ का दान नहीं करना चाहिए.
    * घर आये किसी मेहमान को कभी सौंफ खाने को न दें अन्यथा वह व्यक्ति कभी किसी अवसर पर आपके खिलाफ ही कडुवे वचनों का प्रयोग करेगा.
    * किसी भी प्रकार का बासी भोजन( अधिक समय पूर्व पकाया हुआ) न तो स्वयं खायें और न ही किसी अन्य को खाने के लिए दें.
    बुध मिथुन राशि में तो स्वगृही तथा कन्या राशि में होने पर उच्चता को प्राप्त होता है. यदि आपकी जन्मपत्रिका में बुध उपरोक्त वर्णित किसी स्थिति में है तो :--
    * हरे रंग के पदार्थ और वस्तुओं का दान नहीं करना चाहिए.
    * साबुत मूँग, पैन-पैन्सिल, पुस्तकें, मिट्टी का घडा, मशरूम आदि का दान न करें अन्यथा सदैव रोजगार और धन सम्बन्धी समस्यायें बनी रहेंगी.
    * न तो घर में मछलियाँ पालें और न ही मछलियों को कभी दाना डालें.
    बृहस्पति जब धनु या मीन राशि में हो तो स्वगृही तथा कर्क राशि में होने पर उच्चता को प्राप्त होता है. ऎसी स्थिति में :--
    * पीले रंग के पदार्थों का दान वर्जित है.
    * सोना, पीतल, केसर, धार्मिक साहित्य या वस्तुएं आदि का दान नहीं करना चाहिए. अन्यथा "घर का जोगी जोगडा, आन गाँव का सिद्ध" जैसी हालात होने लगेगी अर्थात मान-सम्मान में कमी रहेगी.
    * घर में कभी कोई लतादार पौधा न लगायें.
    शुक्र जब जन्मपत्रिका में वृष या तुला राशि में हो स्वराशि तथा मीन राशि में हो तो उच्च भाव का होता है. अत ऎसी स्थिति में:--
    * ऎसे व्यक्ति को श्वेत रंग के सुगन्धित पदार्थों का दान नहीं करना चाहिए अन्यथा व्यक्ति के भौतिक सुखों में न्यूनता पैदा होने लगती है.
    * नवीन वस्त्र, फैशनेबल वस्तुएं, कास्मेटिक या अन्य सौन्दर्य वर्धक सामग्री, सुगन्धित द्रव्य, दही, मिश्री, मक्खन, शुद्ध घी, इलायची आदि का दान न करें अन्यथा अकस्मात हानि का सामना करना पडता है.
    शनि यदि मकर या कुम्भ राशि में हो तो स्वगृही होता है तथा तुलाराशि में होने पर उच्चता को प्राप्त होता है. ऎसी दशा में :-
    * काले रंग के पदार्थों का दान न करें.
    * लोहा, लकडी और फर्नीचर, तेल या तैलीय सामग्री, बिल्डिंग मैटीरियल आदि का दान/त्याग न करें.
    * भैंस अथवा काले रंग की गाय, काला कुत्ता आदि न पालें-
    राहु यदि कन्या राशि में हो तो स्वराशि का तथा वृष(ब्राह्मण/वैश्य लग्न में) एवं मिथुन(क्षत्रिय/शूद्र लग्न में) राशि में होने पर उच्चता को प्राप्त होता है. ऎसी स्थिति में:-
    * नीले, भूरे रंग के पदार्थों का दान नहीं करना चाहिए.-
    * मोरपंख, नीले वस्त्र, कोयला, जौं अथवा जौं से निर्मित पदार्थ आदि का दान किसी को न करें अन्यथा ऋण का भार चढने लगेगा.-
    * अन्न का कभी भूल से भी अनादर न करें और न ही भोजन करने के पश्चात थाली में झूठन छोडें.-
    केतु यदि मीन राशि में हो तो स्वगृही तथा वृश्चिक(ब्राह्मण/वैश्य लग्न में) एवं धनु (क्षत्रिय/शूद्र लग्न में) राशि में होने पर उच्चता को प्राप्त होता है. यदि आपकी जन्मपत्रिका में केतु उपरोक्त स्थिति में है तो :-
    * घर में कभी पक्षी न पालें अन्यथा धन व्यर्थ के कामों में बर्बाद होता रहेगा.
    * भूरे, चित्र-विचित्र रंग के वस्त्र, कम्बल, तिल या तिल से निर्मित पदार्थ आदि का दान नहीं करना चाहिए.
    * नंगी आँखों से कभी सूर्य/चन्द्रग्रहण न देंखें अन्यथा नेत्र ज्योति मंद पड जाएगी अथवा अन्य किसी प्रकार का नेत्र सम्बन्धी विकार उत्पन होने लगेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  59. अनिल जी,
    नमस्कार
    मेरा नाम नसीमा खातून हैं मेरा जन्म तिथि -१४,०१,१९८० समय १०;३०
    जनम स्थान -सीतामढ़ी ,बिहार
    सवाल -
    अचानक से जेसे सारे काम रुक से गई है अब कर्ज की भयानक स्थिति का सामना करना पड़ रहा हैं
    कई उपाय बताये
    नसीमा खातून
    मोबाइल -०९४६०७०६१७०

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका जन्म समय सुबह है या रात का ...कृपया स्पष्ट करें

      हटाएं
  60. मैं किसी भी प्रतियोगी (नौकरी ) परीक्षा में असफल हो जा रहा हूँ क्या करू जिससे मुझे प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता मिले ? २२-०२-१९७९ सिकंदराबाद bulandshar up १२:४५ मिन० ५२ सेक०

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप शनि की पूजा करें और शिव जी की पूजा करें लाभ होगा

      हटाएं
  61. मैं किसी भी प्रतियोगी (नौकरी ) परीक्षा में असफल हो जा रहा हूँ क्या करू जिससे मुझे प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता मिले ? २२-०२-१९७९ सिकंदराबाद bulandshar up १२:४५ मिन० ५२ सेक०

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आशा है आपको उत्तर मिल गया होगा

      हटाएं
  62. मैं किसी भी प्रतियोगी (नौकरी ) परीक्षा में असफल हो जा रहा हूँ क्या करू जिससे मुझे प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता मिले ? २२-०२-१९७९ सिकंदराबाद bulandshar up १२:४५ मिन० ५२ सेक०

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आशा है आपको उत्तर मिल गया होगा

      हटाएं
  63. Pandit Ji mera name ajay mittal hai mera birth 19/10/1988 ko Jind (haryana) Main Hua Hai Raat ko Karib 09:00 PM baje. mere rojgaar ke liye exams ko pass ho jate hai parantu rojgaar nahi mil paa rha. kripa krke mujhe meri rashi tatha uske liye behtar ratan ka sujhav kre tatha mere rojgar na milne ki samasya ka smadhan kre...

    Dhanyawad

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप जन्म कुंडली अनुसार मूंगा और मोती धारण कर सकते है

      हटाएं
  64. pandit ji namaskaar.mera naam GAURAV hai,DOB 30-11-1982,TIME 01:35 AM,PLACE ORAI (UP),kripya mujhe koi ratna batane ka kasht kare jis se main vyaapaar me safalta prapt kar saku,abhi main readymade garments ka vyaapaar kar raha hoon jisme main safal nahi ho pa raha hoon,kripya jaldi jawab dene ka kasht kare, dhanyavaad

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप नीलम, पन्ना और हीरा धारण कर लाभ उठा सकते है

      हटाएं
  65. Pandit ji namsate
    Mera naam rajkumar hi
    Mera jenm nasieerghan rata saturday 4am huu ta
    Mughi un nahi pata
    Me apne job me prashni hoti hi
    Eske leia me khya kura

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आशा है आपको उत्तर मिल गया होगा

      हटाएं
  66. Pandit ji namsate
    Mera naam rajkumar hi
    Mera jenm nasieerghan rata saturday 4am huu ta
    Mughi un nahi pata
    Me apne job me prashni hoti hi
    Eske leia me khya kura

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आशा है आपको उत्तर मिल गया होगा

      हटाएं
  67. Pandit ji nameste
    Mera naam rajkumar hi
    Mera jenm nasirgunj reta me hu tha
    Saturday 4-10-1986
    Morning-4am hu tha
    Me electronic line me kaam karta hu
    Me kaya upay karu. Ki mera kaam aacha ho seke .

    उत्तर देंहटाएं
  68. Pandit ji nameste
    Mera naam rajkumar hi
    Mera jenm nasirgunj reta me
    Saturday 4-10-1986me
    Morning 4am huaa tha
    Me electronic line me kaam karta hu
    Kaam me bhut preshni hoti hi
    Mera kaam thiak ho jae
    Eske liya kaya upaya karu

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप एक चांदी का चौकोर पीस 1 बाई 1 inch चौड़ा 8 ग्राम के वजन का लेकर हमेशा अपने पास रखें तथा आपका भाग्य का स्वामी मंगल है इसलिए श्री हनुमान चालीसा का पाठ रोज़ करें ..लाभ होगा

      हटाएं
  69. Pandit ji namaste mera nam Prashant he Meri Birth Date 12 June 1985 , Birth time- 12:05 PM he, Birth Place- Tahsil Niphad, District- Nashik (Maharashtra). mujhe kisine Ruby gemstone dharan karne ke liye kaha he kya ye sahi rahega ?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका जन्म लग्न सिंह है अतः माणिक्य (रूबी) धारण कर सकते हो

      हटाएं
  70. Namaste Pandit ji meri birth date 12 june 1985 he, birth time-12:05 PM, Birth place- Tahsil-Niphad, District-Nashik (maharashtra)
    mujhe ruby gemstone dharan karne ko bola gaya he kya meri kundali ki hisab se ye sahi rahega ?

    उत्तर देंहटाएं
  71. namaste Panditji,
    Muze aapse ek sahyoug chahiye ki stone/ratn hame neeche likhe hue kounse 2 baaton se dharan karna chahiye?
    1)-hamare naam se.
    2)-hamare janm tarikh.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रत्न हमेशा जन्म कुंडली के अनुसार ही धारण करना उचित रहता है

      हटाएं
  72. namaste Panditji,
    Muze aapse ek sahyoug chahiye ki stone/ratn hame neeche likhe hue kounse 2 baaton se dharan karna chahiye?
    1)-hamare naam se.
    2)-hamare janm tarikh.

    उत्तर देंहटाएं
  73. pandit ji,

    mera naam - Sandeep hai or mera janam 09.09.1984 ko village DINOD me hua tha m kon sa ratn dharn kar saktu hu

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने जन्म समय का विवरण नही दिया है ..लिखें

      हटाएं
  74. Pandit JI,

    Mera naam- SANDEEP
    JANAM- DINOD (VILLAGE)
    DATE: 09.09.1984
    KO HUA THA M KON SA RATAN DHARAN KAR SAKTA HU?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने जन्म समय का विवरण नही दिया है ..लिखें

      हटाएं
  75. prnam pg,anshul upadhyay 14.01.1982 ratri 1.10 mandla(mp)do imp problems 1. barbar accidents ka hote rahna 2. manchahe kam kbhi na hona or kisi b kam ka ak bar me nahi hona chahe chota ho ya bada.islye jevan jeene me bhot pareshani hori h.pukhraj loha manik panna pehna he abi dedh sal se.plz satik upay btaye.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली अनुसार राहू भाग्य स्था पर स्थित होने से भाग्य में बाधा उत्पन्न हो रही है और शनि + मंगल तथा सूर्य + केतु की युति भी हानिप्रद है पुखराज उतार दें पन्ना पहने रहें तथा प्रत्येक शनिवार पीपल के पेड़ पर जल में काले टिल मिलाकर चड़ायें और शाम के टाइम कुत्तों को मीठे बिस्कुट खिलाएं व अमावस्या को किसी ब्राह्मण को घर में आमंत्रित कर भोजन खिलाएं तो शीघ्र ही सब ठीक होने लगेगा

      हटाएं
  76. Pandit Ji..!!
    Pranam,
    Mera Nam- Ratneshwar Vitthal Giri Hai..!
    Meri Janm Tarikh :- 13/09/1980,
    Samay Subahha:- 6:20 am
    Janm Thikan :- Dhanori, Osmanabad, Maharashtra

    Pandit Ji Krupa Karake Muze Jivan Ratna Aur Bhagya Ratna Ke Bare Me Salahha Dijiye..!!

    Aapaka Aagyakari..!!
    R.V.Giri

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली के अनुसार आपका जीवन रत्न माणिक्य है तथा भाग्य रत्न मूंगा हैं

      हटाएं
  77. Pranam Pandit Ji..!!
    Mera Nam Ratneshwar Vitthal Giri Hai..!!
    Meri Janm Tithi Ganesh Chaturthi, Date: 13/09/1980, Time: Morning 6 : 20 am. Var Shanivar, Janm Thikan: Dhanori, Osmanabad, Maharashtra Hai.!!
    Pandit Ji,
    Kripaya Muze Mere Jivan Ratna Aur Bhagya Ratna Ke Bare Me Salahha Dijiye..!!

    Aapka Agyakaree
    R.V.Giri

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली के अनुसार आपका जीवन रत्न माणिक्य हैं तथा भाग्य रत्न मूंगा हैं

      हटाएं
  78. Name: Ratneshwar Vitthal Giri
    Date: 13/09/1980
    Time: Morning 06:20 AM
    Day: Saturday
    Place: Dhanori, Osmanabad, Maharashtra

    Pandit Ji, Kripaya Muze Mere Jivan Ratna Aur Bhagya Ratna Ke Bare Me Salahha Dijiye..!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली के अनुसार आपका जीवन रत्न माणिक्य हैं तथा भाग्य रत्न मूंगा हैं

      हटाएं
  79. Pranaam pandit G
    Mera naam Abhinav Mishra hai
    29/12/1992
    03:10 AM
    Place-Gonda
    Kripya mujhe batae mai kon kon se ratan pehnu.
    Bhavishya me mail kya karu nokri ya business.
    Yadi nokri to sarkri hai ya kon si hai mere lie.
    Dhanyawaad.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अभिनव आप की जन्म कुण्डली अनुसार हीरा, पन्ना और नीलम धारण कर सकते है..इससे लाभ होगा

      हटाएं
    2. NAMASTE PANDIT JEE
      MERA NAM MOHAMMAD NAUSHAD ANSARI HAI
      DATE OF BIRTH 5TH JANUARY 1984 HAI TIME 02:15AM
      PLACE- JAGDISHPUR,DIST-BHOJPUR(ARRAH), STATE-BIHAR
      KIRPYA MUJHE BATAYIYE KI MAI KAUN SA RATAN PAHNU KITNI RATI KA AUR KIS DHATU ME
      DHANYWAD

      हटाएं
    3. NAMASTE PANDIT JEE
      MERA NAM MOHAMMAD NAUSHAD ANSARI HAI
      DATE OF BIRTH 5TH JANUARY 1984 HAI TIME 02:15AM
      PLACE- JAGDISHPUR,DIST-BHOJPUR(ARRAH), STATE-BIHAR
      KIRPYA MUJHE BATAYIYE KI MAI KAUN SA RATAN PAHNU KITNI RATI KA AUR KIS DHATU ME
      DHANYWAD

      हटाएं
    4. आपकी जन्म कुण्डली के अनुसार राहू की महादशा चल रही है लग्न अनुसार आप नीलम और पन्ना धारण करें ..पन्ना सोने की अंगूठी में तथा 5 कैरट का हो, इसे बुधवार सुबह सीधे हाथ की कनिष्ठा (सबसे छोटी ऊँगली) में पहनें

      हटाएं
  80. NAMASTE PANDIT JEE
    MERA NANM MOHAMMAD NAUSHAD ANSARI HAI
    DATE OF BIRTH 5TH JANUARY 1984, TIME 02:15 AM
    PLACE- JAGDISHPUR, DIST-BHOJPUR(ARRAH), STATE-BIHAR
    KIRPYA PANDIT JEE BATAYE KI MAI KAUN SA RATAN PAHNU, KITNI RATI KA AUR KIS DHATU ME
    DHANYAWAD PANDIT JEE

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली के अनुसार राहू की महादशा चल रही है लग्न अनुसार आप नीलम और पन्ना धारण करें ..पन्ना सोने की अंगूठी में तथा 5 कैरट का हो, इसे बुधवार सुबह सीधे हाथ की कनिष्ठा (सबसे छोटी ऊँगली) में पहनें

      हटाएं
  81. Pandit ji Namaskar,

    Mera naam Guddu hai.
    Janam: 5 feb. 1980, 8:25 PM Jabalpur.
    Kuch bhi theek nahi chal raha hai Panditji.
    Na naukri, na santaan sukh.
    Kya upaaye karun? Koi ratan dharan karne se laabh hoga?
    Kripya maargdarshan karein.
    Dhanyawad.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली अनुसार आपको राहू की 18 वर्ष की महादशा चल रही है जो कि 16/10/2013 तक है इसके बाद समय अनुकूल होता जाएगा आप पुखराज और मूंगा धारण करें लाभ होगा

      हटाएं
    2. Dhanyawaad Panditji. Kitne ratti ke pukhraj aur moonga pehnu. kis din, Kis ungli me, kis dhaatu me dhaaaran karun?

      हटाएं
    3. दोनों रत्न सवा सात रत्ती के अलग अलग सीधे हाथ में धारण करने है पुखराज सोने की अंगूठी में तर्जनी ऊँगली में वृहस्पति वार सुबह तथा मूंगा मंगलवार सोने में या ताम्बें में भी धारण कर सकते है अनामिका उंगली में शुक्ल पक्ष में ही धारण करना उचित है

      हटाएं
  82. Anil Sharma Ji Good Evening Guru Ji Meri kundli mai Kya -Kya Dosh hai? Mai Kon Se Ratn Phenu Jisse Mujhe Fayeda Ho? Mai Koi Bhi Kam Karta Hun Wo Kbhi Bhi Pura Nhi Hota Hai Ayesa Kuyn Hota Hai Plz Meri Madat Krane Ki Kiripa Kren Thanks
    Nitin Srivastava
    27-10-1981
    05:10 am
    Lucknow

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नमस्कार,

      आपकी जन्म कुंडली अनुसार आपकी तुला राशि है और गौचर अनुसार साड़े सती चल रही है और काल सर्प दोष के कारण भी आपकी समस्याएं है आप शनि की पूजा व दान आदि करें तथा अपने विद्वान पंडित जी से संपर्क करें इन दोषों की शान्ति करवाएं तो लाभ होगा तथा आप पन्ना और हीरा धारण कर भी लाभ उठा सकते है

      हटाएं
  83. Namaste Pandit ji , Mera Janm tareek 10th April 1987 hai time fix nhi par subah ya ratri k 10 baje ka hai ,sthaan Sangod ( Rajasthan ) ka hai . kya mai manglik hu agar hu tto meri ek shadi pahle ho chuki hai wo tut gayi thi kisi karan vash abhi mujhe dusra vivah karna hai please mujhe bataye ki kya mujhe koi upay karna chahiye jissey meri dusri shadi sahi se chale aur koi kundlai mai dosh ho tto wo aur uska upay bataye . kyunki iss shdai mai bhut sari problems hai . aage mujhe sab thik chhaiye aur mai khush rahu . koi ratn ho tto wo bhi bataye .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली के अनुसार आप का जन्म समय सुबह या रात का कोई भी हो आप पूर्णतया मांगलिक ही है...आप मंगलवार 125 gm. गुड किसी बैल या सांड को खिलाये तथा प्रत्येक मंगलवार बताशे मंदिर में दान दें इससे लाभ होगा तथा अपना जन्म समय ठीक करवाएं ताकि विवाह के समय सही कुंडली का मिलान हो सके...

      हटाएं
  84. Pandit ji Pranam , janam time pata nhi but subah ya ratri 10 baje ke aas pass hai , jagah Sangod ( Rajasthan ) , 10 April 1987 hai. abhi hone wale pati ka birth date 24 April 1983 time 23.17 PM , Gujarat hai . App kripa karke check karke mujhe batyae taki aage inke sath sahi jivan ho iske liye mujhe kya -2 karna hoga . Kyunki shadi 11 july ko fix hai . Agar ye manglik nhi hai tto bhi aap koi tareeka bataye , shadi inhi k sath honi fix hai .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको ऊपर वाले कोमेंट्स में बता दिया है उसे ध्यान से देखें आपके होने वाले पति मांगलिक नही है कृपया अपने विद्वान पंडित जी से संपर्क करें वो इसका उपाय करवा देंगे

      हटाएं
  85. Pandit ji Pranam , janam time pata nhi but subah ya ratri 10 baje ke aas pass hai , jagah Sangod ( Rajasthan ) , 10 April 1987 hai. abhi hone wale pati ka birth date 24 April 1983 time 23.17 PM , Gujarat hai . App kripa karke check karke mujhe batyae taki aage inke sath sahi jivan ho iske liye mujhe kya -2 karna hoga . Kyunki shadi 11 july ko fix hai . Agar ye manglik nhi hai tto bhi aap koi tareeka bataye , shadi inhi k sath honi fix hai .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको ऊपर वाले कोमेंट्स में बता दिया है उसे ध्यान से देखें आपके होने वाले पति मांगलिक नही है कृपया अपने विद्वान पंडित जी से संपर्क करें वो इसका उपाय करवा देंगे

      हटाएं
  86. Namaste pandit ji mera nam suraj hai mera janam maharastra puna me hua hai janam tarek 23-10-1984, subah 6 baje ka me konsa ratan dharan kar sakta hu

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली अनुसार आप पन्ना, हीरा तथा नीलम धारण कर सकते है लेकिन पहले राहू का शान्ति पाठ अपने पंडित जी से अवश्य कराएं

      हटाएं
  87. Namaste pandut ji mera nam suraj hai mera janam Maharashtra puna me hua hai janam tarek 23-10-1984, subah 6 baje hua hai me konsa ratan dharan karu

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली अनुसार आप पन्ना, हीरा तथा नीलम धारण कर सकते है लेकिन पहले राहू का शान्ति पाठ अपने पंडित जी से अवश्य कराएं

      हटाएं

    2. पंडित जी नमस्कार , मेरा नाम त्रिलोक : जन्म तिथि 19/10/1982 समय सुबह 07:42 मिनट - जन्म स्थान दिल्ली मैं यह जानना चाहता हूँ के मैं कौन सा रतन धारण करूँ , किस दिन और उसको धारण करने की क्या विधि है ,हां आपको बता दूँ की मैंने पहले से ही नीली पहनी हुई है इसको पहनना कितना उचित है यह भी बताये

      हटाएं
    3. आपकी जन्म कुण्डली अनुसार आपको हीरा, नीलम और पाना धारण करने चाहिए लेकिन वर्तमान में आप को बुध की महादशा चल रही है और बुध आपके भाग्य स्थान का स्वामी भी है इसलिए सवा सात रत्ती का पन्ना सोने की अंगूठी में शुक्ल पक्ष के प्रथम बुधवार को प्रातः 6 से 7 के बीच सीधे हाथ की सबसे छोटी कनिष्ठा उंगली में धारण करें तथा एमेथिस्ट नग 5 कैरट का चांदी की अंगूठी में शनिवार मध्यमा उंगली सबसे बड़ी उंगली में सुबह सूर्योदय के समय धारण करेंगे तो लाभ होगा

      हटाएं

  88. पंडित जी नमस्कार , मेरा नाम त्रिलोक : जन्म तिथि १९/१०/१९८२ समय सुबह ०७:४२ मिनट - जन्म स्थान दिल्ली मैं यह जानना चाहता हूँ के मैं कौन सा रतन धारण करूँ , किस दिन और उसको
    धारण करने की क्या विधि है ,हां आपको बता दूँ की मैंने पहले से ही नीली पहनी हुई है इसको पहनना कितना उचित है यह भी बताये

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली अनुसार आपको हीरा, नीलम और पाना धारण करने चाहिए लेकिन वर्तमान में आप को बुध की महादशा चल रही है और बुध आपके भाग्य स्थान का स्वामी भी है इसलिए सवा सात रत्ती का पन्ना सोने की अंगूठी में शुक्ल पक्ष के प्रथम बुधवार को प्रातः 6 से 7 के बीच सीधे हाथ की सबसे छोटी कनिष्ठा उंगली में धारण करें तथा एमेथिस्ट नग 5 कैरट का चांदी की अंगूठी में शनिवार मध्यमा उंगली सबसे बड़ी उंगली में सुबह सूर्योदय के समय धारण करेंगे तो लाभ होगा

      हटाएं
  89. पंडित जी कुछ समझ नहीं आ रहा है की यह पोस्ट क्यों नहीं आ रहा है क्या आपको मेरा प्रशन प्राप्त हो रहे है अगर प्राप्त हो रहे है तो ,बार बार भेजने के लिए माफ़ी चाहता हूँ
    पंडित जी नमस्कार , मेरा नाम त्रिलोक : जन्म तिथि १९/१०/१९८२ समय सुबह ०७:४२ मिनट - जन्म स्थान दिल्ली मैं यह जानना चाहता हूँ के मैं कौन सा रतन धारण करूँ , किस दिन और उसको
    धारण करने की क्या विधि है ,हां आपको बता दूँ की मैंने पहले से ही नीली पहनी हुई है इसको पहनना कितना उचित है यह भी बताये
    --

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली अनुसार आपको हीरा, नीलम और पाना धारण करने चाहिए लेकिन वर्तमान में आप को बुध की महादशा चल रही है और बुध आपके भाग्य स्थान का स्वामी भी है इसलिए सवा सात रत्ती का पन्ना सोने की अंगूठी में शुक्ल पक्ष के प्रथम बुधवार को प्रातः 6 से 7 के बीच सीधे हाथ की सबसे छोटी कनिष्ठा उंगली में धारण करें तथा एमेथिस्ट नग 5 कैरट का चांदी की अंगूठी में शनिवार मध्यमा उंगली सबसे बड़ी उंगली में सुबह सूर्योदय के समय धारण करेंगे तो लाभ होगा ...एमेथिस्ट ही पहने

      हटाएं
  90. Guru जी प्रणाम गुरूजी किसी कारन वस् मेरा उत्तर Mujhe प्राप्त नहीं हो paa रहा है, स्क्रीन पर कही दिखाई नहीं दे रहा है, अगर एक बार फिर से उत्तर देंगे तो मैं आपका sada आभारी रहूँगा.
    मेरा नाम अमित श्रीवास्तव है जनम १८/०५/१९७९ , १०:५० सुबह गोरखपुर san 2009 से मेरी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है कोई व्यापर भी नहीं चल pa रहा है, कृपया uchit मार्ग दर्शन करे, बड़ी ही कृपा hogi.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली के अनुसार तो आपको बिजनेस नही करना चाहिए आप जॉब ही कर सकते है या कोई शिक्षण संस्थान खोल सकते है इसके आलावा कमीशन एजेंट के रूप में भी कार्य करें तो लाभ होगा तथा किसी पार्टनरशिप में बिलकुल ना करें तो हानि का योग है ..शनि + राहू की युति आपकी कुंडली में धन भाव में है अतः आर्थिक समस्या का कारण यही है उपाय के लिए आप प्रतिदिन सूर्यास्त के बाद श्री हनुमान चालीसा + श्री हनुमानाष्टक जी के 9 - 9 पाठ सरसों के तेल का मिटटी का दीपक जलाकर करें तथा सामने कोई भी मीठी वस्तु भोग के लिए रखे पाठ के बाद प्रशाद लें यह 40 दिन लगातार करें घर का कोई भी सदस्य कर सकता है ...पीले रंग के चौकोर कपडें में एक चम्मच भर कच्चे चावल बांधकर हमेशा अपनी जेब में रखें ...ऐसा करने से कुछ दिनों में ही भाग्य की बृद्धि होगी ...लाभ होगा

      हटाएं
  91. पंडित जी नमस्कार यह पीला वस्त्र कौन से दिन , और किस समय रखना है कृप्या बताये !!!! आपने बतया की शनि + राहु दशा है इसमें सुधार करने के लिए के लिए कोई पूजा का विधान है तो वो भी बताये की कौन सी पूजा करवानी उचित है !!! और आपसे अंतिम प्रसन और पूछना चाहूँगा की मेरा कोई मकान का योग बनता है नहीं

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी हां आपके मकान का योग है प्रतीक्षा करें 2014 आपके लिए भाग्यशाली रहेगा

      हटाएं
  92. गुरु जी प्रणाम,
    मैं आपका बहुत ही आभारी हु की अपने अपना बहुमूल्य samay दोबारा मेरे लिये निकालकर मेरा मार्गदर्शन किया, गुरु जी मैं आपके उत्तर से बहुत ही संतुस्ट हु और अब मेरे पास एक निश्चित dishaa में जाने का adhaar भी है, maine २००1 में कंप्यूटर सेण्टर चलाया बहुत सक्सेस रहा, २००३ से मैंने बैंकिंग मे जोब किया, सेल्स executive से सेल्स मेनेजर तक पहुचा, २००९ में मुझे अपने पारिवारिक कारणों की वजह से job chodna पड़ा और वापस आना पड़ा, bahut उतार और चदाव देखा है मैंने अब मैंने एक स्कूल kholaa है जिसकी प्रबंधक मेरी पत्नी है, और मैं प्रबंद निदेशक, स्कूल का दूसरा वर्ष है पर स्थिति अच्छी नहीं हो paa रही है, मेरी पत्नी और मेरा प्रेम विवाह है उनका नाम प्रीती श्रीवास्तव जन्मतिथि १४/०५/१९८२ शाम 3:०० बस्ती उ.P है, कृपया मार्गदर्शन करे आभारी होऊंगा कृपया उचित रत्न और उपाय भी बताये, इश्वर आपकी रक्षा करे.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जन्म कुंडली अनुसार स्कूल का कार्य फरवरी 2014 से अच्छा चलेगा अभी मंगल व केतु के कारण बाधा है आप फरवरी 2014 में उपाय करें इसके लिए तभी मुझसे संपर्क करना ठीक रहेगा

      हटाएं
  93. गुरु जी,
    आपके द्वारा दिए गए मार्गदर्शन के लिए sada आभारी रहूँगा, और आपके कथनअनुसार फरवरी 2014 में sampark करूँगा..
    आपका सुभचिन्तक Amit

    उत्तर देंहटाएं
  94. गुरु जी mafi चाहता हूँ, abhi मुझे पता चला है की मेरी पत्नी की जनम तिथि १४/५/१९८१, शाम ३ बजे बस्ती है.
    kripya एक बार और कस्त के लिए माफ़ी चाहता हु.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जन्म कुण्डली अनुसार राहू की महादशा अगस्त २०१६ तक चल रही है तथा केतु स्कूल के लाभ में बाधा उत्पन्न कर रहा है स्कूल में शिक्षा के साथ साथ अलग प्रकार के कोर्सेज भी शुरू कर दें तथा व्यवसायिक कोर्स आरम्भ करेंगे तो अत्यंत लाभ होगा

      हटाएं
  95. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली अनुसार आप नीलम तथा पन्ना धारण कर के अपनी कामनाओं कू पूर्ण कर सकते हो...इससे भाग्य की बृद्धि होगी

      हटाएं
  96. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली अनुसार आप नीलम तथा पन्ना धारण कर के अपनी कामनाओं कू पूर्ण कर सकते हो...इससे भाग्य की बृद्धि होगी

      हटाएं
  97. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली अनुसार आप नीलम तथा पन्ना धारण कर के अपनी कामनाओं कू पूर्ण कर सकते हो...इससे भाग्य की बृद्धि होगी

      हटाएं
  98. Namste pandit ji,
    name-pradeep sharma
    dob-06.02.1994
    place-pratapghad,up
    time-01:10 pm.
    Pandit ji mai ek student hu pune se, mujhe har shetra mai puri koshish ke bad bhi asfata mill rahi hai, mera confident lavel kam ho rha hai, mai jindgi mai ek safal aur adarsh nagrik banana cahta hu toh krupya pandit ji meri madat kijiye, aur shubh rantno ki bhi jankari dijiye !dhanyawad !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुण्डली अनुसार आप नीलम तथा पन्ना धारण कर के अपनी कामनाओं कू पूर्ण कर सकते हो...इससे भाग्य की बृद्धि होगी

      हटाएं
  99. Jankari batane ke liye Dhanyawaad Panditji.
    Kitne ratti ke nilam,
    aur panna pehnu. kis
    din, Kis ungli me, kis
    dhaatu me dhaaaran
    karun? Aur mai ek student hu aur mai bank mai kam bhi karta hu ! Mai apka shukrgujar rahunga ! Dhanyawad

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नीलम सवा सात रत्ती का पंचधातु या चांदी में शनिवार प्रातः सीधे हाथ की मध्यमा ऊँगली में धारण करे तथा पन्ना भी सवासात रत्ती का लेकर सोने की अंगूठी में बुधवार सीधे हाथ की सबसे छोटी उंगली में धारण करें अवश्य लाभ होगा

      हटाएं
    2. namastey pandit ji

      muzey konsa stone dharan kar na cha hi hey ?? please bta do?

      vikas kokil
      dob -12/11/1972
      place- sangli ( maharastra )
      time - 13.40 pm

      हटाएं
    3. namastey pandit ji

      muzey konsa stone dharan kar na cha hi hey ?? please bta do?

      vikas kokil
      dob -12/11/1972
      place- sangli ( maharastra )
      time - 13.40 pm

      हटाएं
    4. kolil vikas जी आपकी जन्म कुंडली अनुसार आपका जन्म कुम्भ लगन में हुआ है तथा जन्म की राखी मकर है कुंडली के ग्रह योग अनुसार आप नीलम सवा सात रत्ती का तथा पन्ना सवा पांच रत्ती का धारण करें लाभ होगा

      हटाएं
  100. pandit ji namaskar

    name rohit narang dob- 06-01-1981 time - 2:14 am place kashipur uttarakhand

    birth rashi - dhanu or western rashi - makar

    mujhe kon sa ratan kis rashi ke hisab me pehanna chahiye

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप अपनी धनु राशि के अनुसार ही चलें तथा भाग्य रत्न आपका पन्ना है तथा जीवन रत्न आपका हीरा है अतः आप दोनों ही रत्न धारण कर लाभ उठा सकते है

      हटाएं
  101. pandit ji namaskar

    name- rohit narang
    dob- 06-01-1981
    place- kashipur uttrakhand
    time - 02:14 am

    mujhe kon sa ratan pehnanna chahiye janam rashi dhanu ya western rashi makar kis rakhi ke hisab se konsa

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप अपनी धनु राशि के अनुसार ही चलें तथा भाग्य रत्न आपका पन्ना है तथा जीवन रत्न आपका हीरा है अतः आप दोनों ही रत्न धारण कर लाभ उठा सकते है रत्न हमेशा जन्म कुंडली के अनुसार ही पहने जाते है किसी राशि के अनुसार नही धारण करना चाहिए

      हटाएं
  102. Pandit jii,
    Take nomoskar.This is amit from bangladesh.one astrologer recommend me to wear GOMEDH gemstone on right hand middle finger,and Ruby on ring finger.but i felt same problem again.i am always worried and shy due to any reason.also there may be loss in business and sell you land and problem with seniours.also break ups my education several times.now i am operating a shop related with household,and sellinng computer and mobile.please recomend me correct gemstone.

    name:amit kumar paul
    dob:07-01-1987
    Time:04.20PM
    District:bagerhat
    country:bangladesh

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप गोमेद और रूबी (माणिक्य ) तुरंत उतार दें यह सूर्य + राहू का योग बन गया है लाभ के स्थान में यह हानि देगा तथा परिवार में भी तनाव की स्थिति ला सकता है जन्मकुंडली अनुसार आपका भाग्य रत्न नीलम तथा पन्ना है इसे ही धारण करें लाभ मिलेगा

      हटाएं
  103. Pandit jii,
    Take nomoskar.This is amit from bangladesh.one astrologer recommend me to wear GOMEDH gemstone on right hand middle finger,and Ruby on ring finger.but i felt same problem again.i am always worried and shy due to any reason.also there may be loss in business and sell you land and problem with seniours.also break ups my education several times.now i am operating a shop related with household,and sellinng computer and mobile.please recomend me correct gemstone.
    name:amit kumar paul
    dob:07-01-1987
    Time:04.20PM
    District:bagerhat
    country:bangladesh

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप गोमेद और रूबी (माणिक्य ) तुरंत उतार दें यह सूर्य + राहू का योग बन गया है लाभ के स्थान में यह हानि देगा तथा परिवार में भी तनाव की स्थिति ला सकता है जन्मकुंडली अनुसार आपका भाग्य रत्न नीलम तथा पन्ना है इसे ही धारण करें लाभ मिले

      हटाएं
  104. namastey pandit ji

    muzey konsa stone dharan kar na cha hi hey ?? please bta do?

    vikas kokil
    dob -12/11/1972
    place- sangli ( maharastra )
    time - 13.40 pm

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. kolil vikas जी आपकी जन्म कुंडली अनुसार आपका जन्म कुम्भ लगन में हुआ है तथा जन्म की राखी मकर है कुंडली के ग्रह योग अनुसार आप नीलम सवा सात रत्ती का तथा पन्ना सवा पांच रत्ती का धारण करें लाभ होगा

      हटाएं
  105. namastey pandit ji

    muzey konsa stone dharan kar na cha hi hey ?? please bta do?

    vikas kokil
    dob -12/11/1972
    place- sangli ( maharastra )
    time - 13.40 pm

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. kolil vikas जी आपकी जन्म कुंडली अनुसार आपका जन्म कुम्भ लगन में हुआ है तथा जन्म की राखी मकर है कुंडली के ग्रह योग अनुसार आप नीलम सवा सात रत्ती का तथा पन्ना सवा पांच रत्ती का धारण करें लाभ होगा

      हटाएं
  106. namastey pandit ji

    muzey konsa stone dharan kar na cha hi hey ?? please bta do?

    vikas kokil
    dob -12/11/1972
    place- sangli ( maharastra )
    time - 13.40 pm

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. kolil vikas जी आपकी जन्म कुंडली अनुसार आपका जन्म कुम्भ लगन में हुआ है तथा जन्म की राखी मकर है कुंडली के ग्रह योग अनुसार आप नीलम सवा सात रत्ती का तथा पन्ना सवा पांच रत्ती का धारण करें लाभ होगा

      हटाएं
  107. namastey pandit ji

    muzey konsa stone dharan kar na cha hi hey ?? please bta do?

    vikas kokil
    dob -12/11/1972
    place- sangli ( maharastra )
    time - 13.40 pm

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. kolil vikas जी आपकी जन्म कुंडली अनुसार आपका जन्म कुम्भ लगन में हुआ है तथा जन्म की राखी मकर है कुंडली के ग्रह योग अनुसार आप नीलम सवा सात रत्ती का तथा पन्ना सवा पांच रत्ती का धारण करें लाभ होगा

      हटाएं
  108. namastey pandit ji

    muzey konsa stone dharan kar na cha hi hey ?? please bta do?

    vikas kokil
    dob -12/11/1972
    place- sangli ( maharastra )
    time - 13.40 pm

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. kolil vikas जी आपकी जन्म कुंडली अनुसार आपका जन्म कुम्भ लगन में हुआ है तथा जन्म की राखी मकर है कुंडली के ग्रह योग अनुसार आप नीलम सवा सात रत्ती का तथा पन्ना सवा पांच रत्ती का धारण करें लाभ होगा

      हटाएं
  109. Panjit jii,nomoskar.my date of birth is here-
    Name:amit kumar paul
    Dob:07-01-1987
    Time:04-20pm
    District:bagerhat
    Country:bangladesh
    Kripa korke hume bataiye ki hum koun ratna or kis rotti me kon ungutha pe pehenu.mental worried ki bojay keya he?hume 2or tin gemstone bataiye.apka mobile number dijiye jaise hum contact kor saku.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप सवा सात रत्ती का नीलम पंचधातु में सीधे हाथ की मध्यमा (सबसे बड़ी उंगली) में शनिवार प्रातः तथा पन्ना सवा पांच रत्ती का सोने की अंगूठी में बनवाकर बुधवार प्रातः सीधे हाथ की ही सबसे छोटी उंगली में धारण करें तो लाभ होगा

      हटाएं
    2. आप सवा सात रत्ती का नीलम पंचधातु में सीधे हाथ की मध्यमा (सबसे बड़ी उंगली) में शनिवार प्रातः तथा पन्ना सवा पांच रत्ती का सोने की अंगूठी में बनवाकर बुधवार प्रातः सीधे हाथ की ही सबसे छोटी उंगली में धारण करें तो लाभ होगा

      हटाएं
  110. पंडितजी

    नमस्कार मे अमिशी कोकिल

    २५/१२/१९७६ टाइम १०.४५ ऍम
    प्लेस .बोरीवली

    स्टोन कोनसा धारण करू

    धवाद
    अमिशी kokil

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली अनुसार आप हीरा 31 cent का तथा नीलम 5 रत्ती का धारण कर लाभ उठा सकती है

      हटाएं
  111. Pandit Ji,

    Namaskar !

    Name:-Ravi Kumar
    DOB:- 20/12/86, 4:00AM
    Place:- Hodal, Haryana

    Hame upyogi jankari de.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कृपया अपना प्रश्न लिखें ...

      हटाएं
  112. Pandit Ji,

    Namaskar !

    Name:-Ravi Kumar
    DOB:- 20/12/86, 4:00AM
    Place:- Hodal, Haryana


    Mere liye koun sa ratan subh rahega aur meri unnati nahi ho rahi hai.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली अनुसार आप पन्ना सवा सात रत्ती का सोने की अंगूठी में सबसे छोटी उंगली में बुधवार प्रातः धारण करें तथा प्रतिदिन कुत्तों को रोटी आदि कुछ खाने के लिए डाले केतु की महादशा भी चल रही है इससे लाभ होगा और भाग्य खुलेगा

      हटाएं
  113. Pandit ji namaskar
    Name-Dheerendra Gautam
    Date of birth- 12/04/1978
    Place-Rewa (m.p.)
    Time- 4.00 a.m.
    Kripya kar ke bataye ki kaun sa ratna wear karna mere liye subh hoga......

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका भाग्येश शुक्र है अतः हीरा धारण करना लाभदायक रहेगा आप ओपल भी पहन सकते है तथा नीलम व पन्ना भी आपकी जन्म कुंडली अनुसार शुभ है

      हटाएं
  114. Log bolte hai ki mera mangal bahut bhari hai khya yeh sahi aur agar hai to kripaya sujhaw de......

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कुंडली अनुसार मंगल छठे भाव में नीच राशि का है छठे भाव में मंगल के कारण व्यापार को बार- बार शत्रुओं की पीडा सहनी पड़ती है या शत्रु पक्ष से हानि होती है । साथ ही विरोधियों का सामना करने के कारण व्यापार को आगे बढाने में अत्यधिक श्रम साध्य कार्य करना पडता है ।..इसे उपाय तथा श्री हनुमान जी की पूजा से ठीक किया जा सकता है

      हटाएं
  115. नमस्ते सर
    अपनी समस्या के समाधान हेतु आप के जि मेल पर मैंने मेल किया है, कृपया मेरी समस्या का समदन करने का कष्ट मेल के जरिए करें। धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में