जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

रविवार, 17 अक्तूबर 2010

विजय दशमी की बधाई.....









आप सभी को विजयादशमी के शुभ पावन पर्व पर बहुत बहुत बधाई हो.......


सत्‌युग!!!! …..

सत्य ही सत्य!!!!!


त्रेता!!!!? …..

असत्य पर सत्य की विजय!!!!!

शानदार विजय हुई।

द्वापर!!!?? …..

असत्य पर सत्य की विजय!!!??

विजय हुई किन्तु असत्य की सहायता से।

कैसे?”

युधिष्ठिर उवाच् – ‘अश्वत्थामा हतो …’ “

कलियुग????? …..

असत्य पर सत्य की विजय?????


अरे होती है भई!

कहाँ?”

विजयादशमी के दिन

और

हमारे राष्ट्रीय नारे में

॥सत्यमेव जयते॥






1 टिप्पणी:

  1. विजय-दशमी पर्व की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    सादर

    समीर लाल

    उत्तर देंहटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में