श्री कृष्ण शरणम ममः

श्री कृष्ण शरणम ममः
ॐ चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥

दीपावली में गोमती चक्र का चमत्कार..




गोमती चक्र समुन्द्र से प्राप्त एक दुर्लभ और चमत्कारी तंत्रोक्त वास्तु है जो कि मनुष्य के जीवन में आने वाली हर कठिनाई को दूर करने में सक्षम है. और जिसका उपयोग धन समृद्धि से सम्बंधित साधनाओ में अक्सर किया जाता है. दीपावली एवं अन्य शुभ मुहूर्तों में किये जा सकने वाले लाभकारी गोमती चक्र प्रयोगों में से कुछ प्रयोगों का वर्णन प्रस्तुत लेख में कर रहा हूं.


१:- दीपावली के दिन ग्यारह गोमती चक्रों को लक्ष्मी पूजन के बाद जिस जल से लक्ष्मी जी का पूजन किया है उसी जल में दो दिन के लिए डुबो कर रखे, दो दिन अर्थात दौज वाले दिन दोपहर के समय ११:३० से १२:३० के मध्य उन पर सिंदूर लगा कर किसी लाल कपड़े में बांधकर अपनी दूकान, शौरूम, ऑफिस, फेक्ट्री अथवा व्यवसाय स्थल या घर के मुख्य द्वार के पास किसी गुप्त स्थान (जो किसी को दिखाई ना दे) पर बाँध दे. ऐसा करने से व्यापार में अभूतपूर्व वृद्धि होती है.


२:- शत्रुओं से परेशानी का अनुभव कर रहे हो तो दीपावली की रात्री १२ बजे के बाद छह गोमती चक्र लेकर शत्रु का नाम लेते हुए उस पर लाल सिंदूर लगाए और किसी एकांत स्थान पर उसी समय जाकर गाड़ दे गाड़ना ऐसे चाहिए कि वे पुनः निकलें नहीं. ऐसा करने से शत्रु बाधा में शीघ्र कमी होती जायेगी.

३:- यदि आप गृह क्लेश से पीड़ित है और आपकी सुख शान्ति दूर हो गयी हो तो आपको दीपावली के दिन महालक्ष्मी पूजन के पश्चात दो गोमती चक्र लेकर एक डिब्बी में पहले सिन्दूर रख कर उसके ऊपर रख देना चाहिए और उस डिब्बी को किसी एकांत स्थान पर रख देना चाहिए यह प्रयोग घर के किसी अन्य सदस्य को भी नहीं बताएं, ऐसा करने से शीघ्र ही आपकी मनोकामना पूर्ण होगी.


४:- यदि बीमार व्यक्ति ठीक नहीं हो पा रहा हो या दवाइयां नहीं लग रही हों तो, उसके सिरहाने पांच गोमती चक्र ॐ जूं स: मन्त्र से अभिमंत्रित करके रखे ऐसा करने से रोगी को शीघ्र ही स्वास्थ लाभ होना आरम्भ हो जाएगा.


५:- गोमती चक्र को लाल कपड़े में बाँध कर यदि दूकान की चौखट पर बाँध दिया जाय तो इससे व्यवसाय में वृद्धि होगी, साथ ही व्यवसाय में बाधा के लिए किये गए नजर आदि दोष, अभिचार कर्म भी सफल नहीं होते है.


६:- यदि गोमती चक्र को लकड़ी की डिब्बी में पीले सिंदूर के साथ रख दिया जाय तो ऐसे व्यक्ति को

जीवन में सफलता मिलने लगती है. यदि धन आगमन के सभी मार्ग बंद हो गए हो तो इसको करने से शीघ्र हो धन लाभ का मार्ग खुल जाता है.


७:- यदि किसी व्यक्ति से कोई कार्य सिद्ध करवाना है तो उस व्यक्ति के ऊपर से गोमती चक्र पांच बार घुमा कर बहते हुए जल में डाल दे वह आपका कार्य शीघ्र करने के लिए आतुर रहेगा.


८:- यदि किसी व्यक्ति का मन उखडा उखडा सा रहता है, किसी काम में मन नहीं लगता हो, बच्चो की पडाई में मन मनाही लगता हो तो गोमती चक्र को सात बार अपने सर से फिरा कर खुद ही अपने पीछे फेंक देना चाहिए यह प्रयोग एकांत स्थान पर करना चाहिए, तथा प्रयोग के बाद किसी से इसका जिक्र नहीं करना चाहिए तो लाभ होता है.


९:- यदि किसी व्यक्ति को धन दिया वापस नहीं मिल रहा हो, तो उस व्यक्ति का नाम लेकर मन ही मन धन प्राप्ति की कामना करते हुए गोमती चक्र को एक हाथ गहरी भूमि खोद कर गाड़ दें. इस प्रयोग से धन वापसी का मार्ग खुल जाता है अर्थात वह धन वापस करने के लिए उत्सुक हो जाता है.

शुभमस्तु !!






1 टिप्पणी:

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में