जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

बुधवार, 22 दिसंबर 2010

जन्म-राशि और व्यक्तित्व (वृष-राशि)..





वृष का अर्थ होता है बैल, इस लग्न के लोग गोरे रंग के सुंदर तथा आकर्षक दिखने वाले होते है.पुष्ट शरीर, बैल के समान वेग, मस्त चाल, स्वाभिमानी एवं स्वछन्द विचरण करने वाले होते है.इनका शीतल स्वभाव होता है.होंठ मोटे, कान एवं गर्दन कुछ लंबी होती है. इस राशि का स्वामी शुक्र ग्रह है. यह पृथ्वी तत्व के होते है. ऐसे व्यक्ति उदार तथा सहिष्णु स्वभाव के होते है. इनकी वाणी में मधुरता का भाव विद्यमान रहता है.


ऐसे व्यक्ति मेहनती, स्थिर विचार वाले सांसारिक सज्जन एवं धीर और शांत होते है. सभी लोग इनसे प्रभावित होते है. अपनी वाक् पटुता से शुभ और महत्वपूर्ण सांसारिक कार्यों को सिद्ध करने में भी सफल रहते है.अपने परिश्रम एवं लग्न से प्रतिष्ठित स्थान प्राप्त कर लेते है. इनमे सहनशीलता अधिक होती है.यदि इनको बेवजह छेड़ा जाए तो सरलता से काबू में नहीं आते है.यह अपनी शक्ति का व्यर्थ में नाश नहीं करते है. यह पुराने विचारों को भी मान लेते है. इच्छा शक्ति के यह धनी होते है.यह आवेश में कोई भी कार्य नहीं कर सकते है. यह हमेशा ताक में रहते है फिर सही समय आने पर अवसर का लाभ उठा जाते है.


वृष राशि वाले अच्छा और स्वादिष्ट भोजन पसंद करते है. धनार्जन इनके जीवन का मुख्य उद्देश्य होता है.सांसारिक सुखो के प्रति रूचि रखते है. सब प्रकार के आनंदों का उपभोग करने में विशवास रखते है. ऐसे व्यक्ति कला, संगीत, नृत्य, सिनेमा, गायन इन गतिविधियों में विशेष झुकाव रखते है.

धर्म के प्रति श्रद्धावान होते है. अवसरानुकूल धार्मिक अनुष्ठानो तथा क्रियाकलापों को संपन्न करते है. धार्मिक क्षेत्र में सफलता अर्जित करते है. इनमे दानशीलता का भाव भी विद्यमान रहता है.धर्म के मामलो में दिखावा पसंद और नाटकीय कलापों में भी संलग्न रहते है.

प्रेम के मामले में विपरीत लिंगी के प्रति शीघ्र ही आकर्षित हो जाते है. सेक्स के मामले में लचीले स्वभाव के तथा मन पर नियंत्रण नहीं रख पाते है. काफी हद तक सफलता भी पा जाते है.

यौवन काल में भविष्य सुधारने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ता है. इनकी प्रकृति स्वार्थी भी हो जाती है. यह कोरी भावनाओं में बहने वाले व्यक्ति नहीं होते है. सामाजिक और राजनीति क्षेत्र में शीघ्र सफलता अर्जित करते है.आपको बहुमूल्य जायदाद भी प्राप्त हो सकती है.


आपकी व्यापार में ज्यादा रूचि रहती है. वृष राशि के अधिकतर कुशल व्यापारी देखे गए है. यदि आप श्रृंगार, कपड़ो, इत्र, आभूषण, कला इनसे सम्बन्धित कार्यों से व्यापार करे तो जीवन में आर्थिक उन्नति सम्भव है. एश्वर्य प्रधान वस्तुओं का व्यापार आपके अनुकूल कहा जा सकता है.

इनमे धन जमा करने की प्रवृति होती है. खर्च बहुत ही सोच समझ कर करने वाले होते है. कभी कभी कंजूसी भी दिखाने वाले बन जाते है. यह धन कमाने में ख़तरा मोल नहीं लेते है.इनके जीवन में एक लक्ष्य होता है और यह उसी लक्ष्य पर हो कार्य करते है. अपने जन्म स्थान से लगाव रखने वाले होते है.

वृष राशि का भाग्य उदय:- 20 से 22 वर्ष के मध्य अक्सर हो जाता है. इनके जीवन के महत्वपूर्ण वर्ष 29, 30, 47, 56, 65, 74 व 83वां वर्ष अत्यंत महत्वपूर्ण होता है.

राशि प्रकृति व स्वभाव:- सौम्य स्वभाव वाले अक्सर होते है.

अनुकूल रत्न:- हीरा,

शुभ दिवस:- शुक्रवार, शनिवार तथा बुधवार,

अनुकूल देवता:- श्री लक्ष्मी जी और श्री सरस्वती देवी जी,

व्रत उपवास:- शुक्रवार,

नाम अक्षर:- ई, उ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो,

अनुकूल अंक:- 6,

अनुकूल तारीखें:- 6, 15, 24,

व्यक्तित्व:- गुरु-भक्त, कृतग्य, दयालु,

नकारात्मक तथ्य:- दुराग्रही, कानो का कच्चा, आलसी,

मित्र राशियां:- कुम्भ तथा मकर,

शत्रु राशियां:- सिंह, धनु और मीन,

दिशा:- दक्षिण,

अनुकूल रंग:- श्वेत और नीला,

अपनी मित्र राशियों से सदभावना व प्रेम का तालमेल रख कर अपना शुभ रत्न हीरा धारण करके अपने जीवन में उन्नति का मार्ग अपना सकते है...

शुभमस्तु !!

10 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय पंडित अनिल शर्मा जी,

    वृष राशि के बारे में आपका विश्लेषण एकदम सटीक किस्म है यह बात मै इसलिए भी कह सकता हूँ कि चूंकि मेरी भी जन्म राशि वृष ही है सो आपने जो भी बातें बताई है उनमे से अधिकांश मुझ पर सही बैठती है। शोधपरक लेखन के साधुवाद।

    पोस्ट में संभवत: जल्दबाजी मे सकारात्मक पक्ष के कालम मे नकारात्मक पक्ष की बातें प्रकाशित हो गई है यदि आपको उचित लगे तो भूल सुधार लीजिएगा।

    सादर
    हाँ, एक बात और मै आपकी मेल की प्रतिक्षा मे हूँ कृपया यथासंभव शीघ्र मेल के माध्यम से मेरा मार्गदर्शन करने की कृपा करें मै आपका बहुत आभारी रहूंगा।

    डा.अजीत तोमर,हरिद्वार

    उत्तर देंहटाएं
  2. डा० अजीत जी, आपका सुझाव देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद. भूल सुधार कर ली गयी है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेनामी12/17/2011 5:26 pm

    Pandit ji mai padai me bahut weak hoti ja rahi hu, mera padai me man nahi tikta, mera padne ka bahut man karta hai plz kuch suggest kijiye plz reply jarur kijiye,,,,,,,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामी जी ..आप अपनी जन्मतिथि लिखें......

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेनामी2/28/2012 12:49 pm

    18 march 2004 time 11.15 a.m. rashi

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेनामी2/28/2012 12:50 pm

    18 march 2004 time 11.15 a.m. what is the rashi

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेनामी जी 18/03/2004 को 11:15 AM के अनुसार कुम्भ राशि है....

    उत्तर देंहटाएं
  8. पंडित जी,
    प्रणाम स्वीकार करे. प्रभु मेरी जन्मतिथि ०२/०३/१९७३ समय ११:४०, स्थान नई दिल्ली है. मान्यवर मेरा लगन वृषभ लग्नेश शुक्र राशि मकर राशि स्वामी शनि है.
    पंडित जी मेरा कोई काम नहीं बन रहा है, कई-२ दिन धर से बाहर नहीं निकलता अन्जाना सा भय रहता है. कृप्या मार्गदर्शन करें. मेरी ईमेल :- rakeshvaid2373@gmail.com है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. namaskaar panditji
    name : shweta tayal
    d.o.b. :22 august 1983
    t.o.b. : 7:50am
    pls panditji merey barey mein kuch detail mein bataey
    mein bhaut pareshan hu merey husband ki death ho gayi hai
    app merey question ka answer merey email address per hi send karey pls pls pls
    email address : tayal_shweta@yahoo.in

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप अपने प्रश्न का विवरण anilgiastrologer@gmail.com में लिख कर भेजे

      हटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में