जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

बुधवार, 25 मई 2011

जन्म-राशि और व्यक्तित्व (मकर राशि)...



मकर राशि का स्वामी शनि देव है. इस राशि का तत्व पृथ्वी तथा स्वरुप चर (चलायमान) होता है. इसकी दिशा दक्षिण होती है. मकर राशि सौम्य स्वभाव व वात प्रकृति की होती है. मकर राशि वाले शनि के गुणों से प्रभावित होते है. ज्योतिष जगत में शनि मृत्यु और मोक्ष का कारक भी माना जाता है.


इसका रंग सांवला और काला होता है.इनकी नाक चपटी, पैनी आँखे,अधिक बालों से युक्त भौहें, शरीर से पतले तथा लंबे कद के होते है. इनका स्वभाव यदा-कदा उग्र भी होने लगता है.स्वभाव में उत्साह के साथ साथ झगड़ालु भी होते है. इस राशि वालों का क्रोध भी धीरे धीरे बड़ने लगता है और शांत भी जल्दी नहीं होते है. जहां ये अपना पक्ष कमजोर देखते है, वहीं कमजोर हो जाते है.


यह उन व्यक्तियों में से है, जो अपना भाग्य खुद बनाते है. बहुत परिश्रमशील उद्यमी व्यक्ति होते है. हिम्मत हारना, निराश होना सीखा नहीं है.यह हर बात को व्यावहारिक दृष्टि से देखने वाले होते है. सोच विचार कर किसी विषय पर निर्णय लेते है.सहनशक्ति अधिक होती है. परन्तु वह आशावादी नहीं होते है. कभी कभी उदासीनता के भाव की भी उत्पत्ति होती है.सुख-दुःख में समान भाव की अनुभूति करते है.त्यागमय जीवन भी व्यतीत करते है.


इस राशि के लोग अधिकतर धार्मिक प्रवृति के भी होता है. आपका गृहस्थ जीवन सामान्य रूप से अच्छा नहीं होता है.तनाव का भी सामना करना पड़ता है.पति पत्नी एक साथ एक छत के नीचे रहे, परन्तु दाम्पत्य जीवन सुखमय नहीं कहा जा सकता है. दोनों के विचारों में साम्य नहीं रहता है.मनोमालिन्य ही बना रहता है. पिटा के प्रति आपके मन में सेवा आदर का भाव रहता है. हर समय आर्तिक अभाव की संभावना बनी रहती है.मकर राशि के लोग बहुपयोगी व विषय वासना में आसक्त भी रहने वाले होते है.


आपको राजनैतिक क्षेत्र में सफलता कम मिलती है.यदि आप व्यापार में संलग्न है तो असफलता का मुंह देखना पडेगा.जिसके कारण आप में हीन भावना पैदा हो सकती है. यदि कोई दोष बता दे तो आपे से बाहर हो जाते है. आपके लिए उपयुक्त सरकारी नौकरी , व्यापारिक संस्थानों की नौकरी,खदानों तथा तेलों के संस्थानों में काम करने के लिए उपयुक्त होते है.

आप अच्छे इंजीनियर व वैज्ञानिक भी बन सकते है. आप धन का महत्व जीवन में सर्वाधिक समझते है.आपके जीवन में भावुकता व संवेदनशीलता का कोई महत्व नहीं होता है. भोग विलास, ऐश्वर्य, सैर सपाटा में डूबे रहते है.धनसंग्रह में प्रवीण होते है. दान व त्याग वाली बात से आपका कोई रिश्ता नहीं होता है.

आपका व्यक्तित्व लचीला माना जाता है. यदि राशि पर अशुभ ग्रह का प्रभाव हो तो आप बेईमान, स्वार्थी, लालची व कंजूस व्यक्तियों की संगति में विश्वास कर जाते है. कभी कभी आलसी निराशावादी भी हो जाते है. युवावस्था में संघर्षशील, परन्तु वृद्धावस्था में सुख एवं शान्ति प्राप्त करते है.

आपका भाग्य उदय :- 36वें वर्ष के बाद, 37, 46, 55, 64, 73 v82वें वर्ष शुभदायक होते है.

मित्र राशियां :- कुम्भ,

शत्रु राशियाँ :- सिंह और धनु,

अनुकूल रत्न :- नीलम,

अनुकूल रंग :- नीला, काला और आसमानी,

शुभ दिन :- शनिवार,

अनुकूल देवता :- शिव, शनि देव,

व्रत उपवास :- शनिवार,

अनुकूल अंक :- 8,

अनुकूल तारीखें :- 8, 17, 26,

व्यक्तित्व :- परोपकारी दया का अवतार, प्रशासक,

सकारात्मक तथ्य :- धरातल पर चलने वाला, कठोर परिश्रमी,

नकारात्मक तथ्य :- संदेहास्पद प्रवृति, कठिनता से मानने वाला,

नाम अक्षर :- भो, जा, जी, जू, जे, जो, खा, खी, खू, खे, खो, गा, गी,

आपका अनुकूल रत्न नीलम है,यह रत्न आपके जीवन में सुख समृद्धि लाने के लिए उपयुक्त एयर सर्व श्रेष्ठ है.

शुभमस्तु...


3 टिप्‍पणियां:

  1. बेनामी5/26/2011 3:48 pm

    bhumi ke andar pani hai ya nahi es baat ki jankari kese parpt hoti hai koi jyotishi upay hai kay. pandit ji

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपसे कैसे भेट हो सकता है मै अमेरिका से हूँ कृपया मुझे आपका मोबाइल नोम्बेर या इ मेल एड्रेस ते सकते हैं ?प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में