जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

गुरुवार, 16 जून 2011

जन्म-राशि और व्यक्तित्व (मीन राशि)...





मीन राशि के स्वामी देवगुरु वृहस्पतिजी माने जाते है.यह राशि जल तत्व प्रधान तथा सत्वगुणी है.इसका स्वरुप द्विस्वभाव तथा उत्तर दिशा का स्वामी है इस राशि के लोग मध्यम कद के गौर वर्ण, गोल चेहरा, बाल घुंघराले नाक ऊंची, इनके दांत छोटे तथा आँखे तीखी चमकदार होती है. कुल मिला कर व्यक्तित्व आकर्षक होता है.

इस राशि के लोग कूटनीति, रणनीति व षडयंत्रकारी मामलों में रूचि नहीं लेते है. इनका प्राकृतिक स्वभाव दयालु और दानशीलता का होता है. यह स्वस्थ्य और दर्शनीय होते है. सोम्यता इनके चेहरे पर विद्यमान रहती है.विद्वान और बुद्धिमान होते है. नवीन कार्यों में रूचि रखते है. इनके विचारों से लोग प्रभावित होते है.भौतिक सुख साधनों का उपयोग करने की प्रवृति होती है.


यह लोग चिंताओं से दूर रहते है.इंसानियत इनमे कूट कूट के भरी होती है. आवश्यकता से अधिक उदार होने पर नुकसान भी उठाते है.माता पिता के प्रति श्रद्धावान व सेवा करने में तत्पर रहते है. बाल्यावस्था में संघर्ष करना पड़ता है. परन्तु युवावस्था में सुख ऐश्वर्य एवं धन वैभव तथा भौतिक सुखो को प्राप्त करते है.

धर्म के प्रति आस्थावान व ईश्वरभक्त धर्मावलम्बी सामाजिक रूढ़ियों को मानने वाले धार्मिक क्रिया कलापों को विधिपूर्वक करके आत्मिक शांति प्राप्त करते है. मित्र वर्ग में प्रिय व आदरणीय होते है.यदि कोई दुर्व्यवहार भी करें तो तुरंत क्षमा भी करने वाले होते है.

इस राशि के लोग कोई भी व्यापार /व्यवसाय करे तो सफलता पा जाते है. लेकिन अपने व्यवसाय को बदलते भी रहते है. यदि यह तरल पदार्थ से बनी वस्तुओं का व्यापार करते है तो अधिक सफल हो जाते है.

आप जल से निकली हुई वस्तुओं नमक, हीरे, जवाहरात, आयात निर्यात, समुंद्र पार से सम्बन्धित कार्यों से धन लाभ करते है.और उच्च सफलता हासिल कर सकते है. इस राशि में शुक्र उच्च का होता है. यह सफल अभिनेता, संगीतकार, मंत्री, वैद्य चिकित्सक, कला विज्ञान व साहित्य में रह कर जीवन को आगे बढा सकते है. इसके अतिरिक्त नई वस्तुओ का उत्पादन आदि में भी रूचि रखते है. इन कार्यों से आप धन सुख समृद्धि पा सकते है.

इस राशि के लोगो को छाती से सम्बन्धित रोग, टी.बी., छुआ छूत, दमा, कफ, सर्दी आदि रोग लगे रहते है.

आपका वैवाहिक जीवन तभी सुखी होता है. जब आपका जीवन साथी आपके अस्थिर स्वभाव से समझोता कर ले. कभी कभी आपके दो विवाह का योग भी बन जाता है.

आपका भाग्य उदय:- 32वें वर्ष में शुरू हो जाता है. आपके जीवन के 41, 45, 48, 58, 65, 85वें वर्ष शुभफलदायक होते है.

मित्र राशियां:- कर्क, वृश्चिक.

शत्रु राशियां:- मेष, सिंह, धनु,

अनुकूल रत्न:- पुखराज.

अनुकूल रंग:- पीला, लाल, सफ़ेद.

शुभ दिन:- वृहस्पतिवार.

अनुकूल देवता:- भगवान विष्णु जी.

अनुकूल अंक:- 3.

अनुकूल तारीखें:- 3, 12, 21, 30.

व्यक्तित्व:- भावुक, अध्ययनशील, आध्यात्मिक.

सकारात्मक तथ्य:- विनम्रता, सज्जनशीलता.

नकारात्मक तथ्य:- लापरवाह.

नाम अक्षर:- दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची,

इस राशि के लोग पुखराज धारण करके जीवन शांतिप्रिय व सुखमय बना सकते है.

शुभमस्तु !!



5 टिप्‍पणियां:

  1. pandi ji Namsakr

    Mera naam Bhavna singh thakur DOB 14/06/1987
    time 02:40 ratri place Tikamgarh MP
    sir mere shadi ko 1 saal ho gya hai. ab hum log babey plan karna chate hai. garvdharn karne ke liye kon si thetya or samy dhan me rakhna chaheye. jisse ke tejswbi balak ya balika ka janm ho. or me kab tak maa banugi. plse help

    उत्तर देंहटाएं
  2. भावना जी, नमस्कार आप अपने पति की भी जन्म तिथि आदि भेजे और तारीख भी ठीक करे 13/14 है या 14/15 है इसके लिए मुझे मेल द्वारा सूचित करें anilgiastrologer@gmail.com धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. Mene aapko mail kiya par aapne koi jabab nahi diya av tak pandit G

    Bhavna singh

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावना जी, आपको मेल भेज दिया है. कृपया उत्तर प्राप्त कर लें.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेनामी3/08/2012 1:06 am

    my dob 09/01/65 time 7.30 pm place bilsi (UP) hai....jan 12 se problm se ghira hoon ye kab tak rahengi...uchit margdarshan de....mera id hai rikki4u1@yahoo.co.in

    उत्तर देंहटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में