जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

सोमवार, 24 अक्तूबर 2011

दीपावली पर इन प्रयोगों से जीवन सुखी बनाएं....





दीपावली के शुभ मुहूर्त में कौडियों को केसर से रंग कर पीले कपड़े में बांधकर पूजा स्थल पर रखें, लक्ष्मी पूजन पूर्ण होने के बाद इन कौडियों को तिजोरी या अलमारी में रखने से उस घर में लक्ष्मी का स्थायी निवास हो जाता है. व्यापारिक स्थल में भी गल्ले अथवा तिजोरी में दीपावली के दिन लक्ष्मी पूजन के समय प्रयुक्त की गयी कौडियों को रखने से व्यापारिक उन्नति होने लगती है.

- दीपावली के दिन सात लक्ष्मीकारक कौडिय़ां रात्रि में अपने पूजन स्थान पर लक्ष्मीजी के चरणों में रखें। पूजन के बाद आधी रात को इन कौडिय़ों को घर के किसी कोने में गाड़ दें। इस प्रयोग से शीघ्र ही आर्थिक उन्नति होने लगेगी।

-
दीपावली के पूजन में पीली कौडिय़ां रखकर पूरे विधि-विधान से पूजा करने के बाद गल्ले में रखने से लक्ष्मी आकर्षित होती है।

-
पुराने चांदी के सिक्के और रुपयों के साथ कौड़ी रखकर उनका लक्ष्मी पूजन के समय केसर और हल्दी से पूजन करें। पूजा के बाद इन्हें तिजोरी में रख दें।

-
लक्ष्मी पूजा के दिन लक्ष्मी मंदिर में लक्ष्मीकारक कौडिय़ां चढ़ाएं।

कौडियां न केवल धन एवं समृद्धि की प्रतीक होती है बल्कि तंत्र मन्त्र आदि में भी इनके अनेक प्रयोग होते है. यंहा आज कौडियों से सम्बंधित कुछ ऐसे ही प्रयोगों के विषय में जानकारी प्राप्त करने जा रहे है जो कि दीपावली के पावन पर्व पर हमारे लिए अत्यंत उपयोगी सिद्ध हो सकती है और कौड़ी के द्वारा हम अपनी मनोकामनाये पूर्ण कर सकने में सक्षम होंगे.

बच्चो को नजर से बचाने के लिए तथा निर्जीव वस्तुओं जैसे घर, वाहनादि को भी बुरी नजर से बचाने के लिए कौडियों का प्रयोग किया जाता है. शास्त्रों में उल्लेख है कि कौड़ी धारण करने से किसी भी प्रकार का जादू टोना, तांत्रिक प्रयोग अभिजात कर्मादि नुक्सान नहीं पहुंचा सकते है. आज भी विवाह के समय वर-वधु के हाथों में कौडियों से बने रक्षासूत्र बाँधने की प्रथा प्रचलित है साथ ही नए वाहन आदि नए मकानों की रक्षा के लिए चौखट पर काले धागे में पिरोकर कौडियां बाँधी जाती है.लक्ष्मी की सहोदरा होने के कारण इसमें लक्ष्मी का निवास माना जाता है. इसलिए दीपावली ले समय लक्ष्मी पूजन के साथ साथ कौडियों का पूजन करने से मां लक्ष्मी शीघ्र प्रसन्न होती है.

यदि किसी व्यक्ति को नजर बहुत अधिक लगती है अथवा उसे अपने कार्य क्षेत्र में सफलता नहीं मिल रही हो तो ऐसे व्यक्ति को दीपावली के दिन लक्ष्मी के मन्त्रों से कौडियों को अभिमंत्रित कर पीले धागे में बाँध कर धारण कर लेना चाहिए. एक या दो कौड़ी धारण करे. गले या बाजू में धारण करे, इससे कार्य क्षेत्र में सफलता मिलती है तथा किसी प्रकार की नजर भी नहीं लगती है.

सामान्य रूप से भी दीपावली पूजन में प्रयोग लाई गयी कौडियों को पूजा स्थल में अवश्य रखना चाहिए. इससे घर में धन की कमी नहीं होती, और लक्ष्मी का सदा वास रहता है.

यदि व्यापार में किसी प्रकार की समस्या आ रही हो, तो दीपावली की रात्री को ग्यारह (११) कौडियों को हल्दी अथवा केसर से रंग कर श्री महालक्ष्मी के मन्त्र से पूजा कर व्यापार स्थल में स्थापित कर दें.इससे आपकी व्यापारिक समस्याए समाप्त हो जांएगी. यदि रोजगार प्राप्ति में बाधाएं आ रही हो अथवा नौकरी में उन्नति प्राप्त नहीं हो पा रही हो, तब भी इसी प्रकार का प्रयोग करना चाहिए.

अगर आपकी संतान को बार बार नजर लगती है, तो उसे दीपावली की पूजित कौडियां काले धागे में पिरो कर गले में धारण करवाएं.इससे उसका स्वास्थ तो उत्तम होगा ही साथ ही नजर दोष से भी बचाव होगा.

यदि आप कोई नया वाहन खरीद रहे है तो तीन कौडियों को काले धागे में पिरो कर वाहन में लगाने से किसी भी प्रकार की दुर्घटना की आशंका नहीं रहती है. तथा वह वाहन भी व्यक्ति के लिए शुभफलदायक बना रहता है.

घर बनाने से पूर्व नीव खुदाई के समय उत्तर एवं ईशान दिशा में 21, 21 कौडियां महालक्ष्मी एवं वास्तु देव के मन्त्रों से अभ्मंत्रित कर नींव में डाले तो उस घर में रहने वाले सभी सदस्यों को कभी धन का अभाव नहीं रहता है. तथा वे सभी प्रकार के दोषों से मुक्त रहते है.

दीपावली के दिन पीपल को प्रणाम करके एक पत्ता तोड़ लाएं और इसे पूजा स्थान पर रखें। इसके बाद जब शनिवार आए तो वह पत्ता पुन: पीपल को अर्पित कर दें और दूसरा पत्ता ले आएं। यह प्रक्रिया हर शनिवार को करें। इससे घर में लक्ष्मी की स्थाई निवास रहेगा और शनिदेव की प्रसन्न होंगे।

दीपावली पर मां लक्ष्मी को घर में बनी खीर या सफेद मिठाई को भोग लगाएं तो शुभ फल प्राप्त होता है।

दीपावली की रात 21 लाल हकीक पत्थर अपने धन स्थान(तिजोरी, लॉकर, अलमारी) पर से ऊसारकर घर के मध्य(ब्रह्म स्थान) पर गाढ़ दें।

दीपावली के दिन घर के पश्चिम में खुले स्थान पर पितरों के नाम से चौदह दीपक लगाएं।


इस प्रकार से कौड़ी का हमारे धार्मिक, समाजिक, सांस्कृतिक जीवन में पूर्ण रूप से सम्बन्ध है. कौडियां न केवल आपके आर्थिक जीवन में उन्नति प्रदान करती है, बल्कि स्वास्थ्य की रक्षा भी करती है.

इसलिए दीपावली पर लक्ष्मी पूजन के साथ साथ कौडियों का पूजन भी अवश्य करें तो आपके जीवन में सदा बहार तथा धन वैभव की कमी नहीं रहेगी.

शुभमस्तु !!

12 टिप्‍पणियां:

  1. धन्यवाद... नागपाल आपको भी बहुत बहुत शुभकामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  2. श्री विनीत नागपाल जी और श्री संदीप पंवार (जाट देवता) जी को बहुत बहुत शुभकामनाएं....धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेनामी11/08/2011 11:26 am

    panditji yours detailed post are extremely valuable.please keep the good work going.thanks.kindly send your mobile no to communicate u directly=

    deepakbabuji@yahoo.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामी12/01/2011 1:33 pm

    bahut dino se koi new post nahi dali sir aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  5. नयी पोस्ट के लिए बहुत दिन इसलिए हुए है..मै आवश्यक कार्य हेतु सहारनपुर से बाहर हूँ....संभवतः 4 दिसंबर को पहुंचूंगा...तभी नयी पोस्ट डालने का प्रयास करूँगा...याद दिलाने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेनामी12/04/2011 11:09 am

    panditji i have given u mail regarding kundali analysis but received no reply.kindly tell me the procedure for kundali analysis from you.

    thanks

    deepak

    deepakbabuji@yahoo.com

    उत्तर देंहटाएं
  7. मै आवश्यक कार्य हेतु सहारनपुर से बाहर हूँ....संभवतः 8 दिसंबर को पहुंचूंगा..तभी सभी को उत्तर देने का प्रयास करूँगा ...नमस्कार

    उत्तर देंहटाएं
  8. Pt. Anil Ji.......Maine Aapko Post Kya tha.......Kya Aapko Mila ???????

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज्ञानेश जी मेने उत्तर दे दिया है

    उत्तर देंहटाएं
  10. मै एक आवश्यक कार्य के लिए सहारनपुर से बाहर हूँ सहारनपुर पहुंचकर ही आप सभी के प्रश्नों के उत्तर देने का यथासंभव प्रयास करूँगा...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में