जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012

व्यवसाय वृद्धि के लिए जन सुलभ उपाय..




अपनी दूकान या फर्म या कोई भी व्यवसाय में यदि आशाजनक लाभ नही मिल रहा है, अथवा कार्य तो ठीक चल रहा है लेकिन बिना कारण के धन का दुरूपयोग हो जाता है या हानि का सामना करना पडता है तो हमारे महापुरुषों ने और ज्योतिष शास्त्र में बहुत से उपाय सुझाए है, सबसे पहले ज्योतिष द्वारा उसे समाधान करें यदि फिर भी सफलता नहीं मिल रही है तो यह उपाय को श्रद्धा व् विशवास से करें तो आशातीत लाभ प्राप्त होगा..

 अपनी आमदनी बढ़ाने के लिए प्रत्येक मनुष्य बहुत कोशिश करता है, अधिक लाभ प्राप्त करना और अपने व्यवसाय का निरंतर विकास करना ही उसका प्रमुख उद्देश्य रहता है. अधिक से अधिक लाभ प्राप्त हो इसके लिए ही मनुष्य व्यापार करता है. और लाभ प्राप्त करने के लिए व्यापारी उपाय भी करते है आज कुछ उपाय जो कि सदियों से हमारे मध्य प्रचलित है उन्हें आपके सामने रख रहा हूँ..

सबसे पहले जब दूकान या व्यापार आरम्भ किया जाता है तो एक चांदी की कटोरी में धनियां रखकर उसमें चांदी के ही श्री लक्ष्मी जी और श्री गणेश जी को स्थापित करते है. तथा इसे दूकान या ऑफिस में पूर्व दिशा की ओर मुंह करके रखा जाता है. प्रतिदिन दूकान अथवा ऑफिस खोलते समय पांच अगरबत्तियां जलाने से व्यापार का लाभ बढने लगता हैA

 यदि दूकान आदि व्यवसाय क्षेत्र में ग्राहक नहीं आ रहे है तो आप मिटटी के चार पात्र (हंडिया) लेकर उनमे एक में जौ, दूसरे में काले तिल, तीसरे पात्र में साबुत हरे मूंग और चौथे पात्र में पीली सरसों भर कर रख दें ये चारों साल भर के लिए रखे जाते है फिर साल बाद उन्हें चलते पानी में विसर्जन कर दिया जाता है इस प्रकार करते रहने से ग्राहक आपकी दूकान के प्रति आकर्षित हो जायेंगेA

अपने व्यवसाय अथवा दूकान की वृद्धि के लिए एक लोहे के कील में, काले धागे में सात हरी अखंडित मिर्च और एक बेदाग़ नींबू प्रातः मंगलवार या शनिवार बांधा जाता है. ध्यान रहे यह हरी मिर्च और नींबू दुकानदार की पत्नी या बेटी के द्वारा ही बनाया जाये तो लाभदायक रहेगा, बना बनाया मिलने वाला कोई लाभ नहीं देता अथवा कुल पुरोहित भी बना सकता हैA

अपनी दूकान अथवा ऑफिस प्रतिष्ठित श्री यन्त्र और व्यापार वृद्धि यन्त्र तथा श्री कुबेर यन्त्र की शुभ मुहूर्त में विधिवत स्थापना करने से व्यापार में हानि नहीं होती है और लाभ की मात्रा में वृद्धि होने लगती हैA

यदि कोई शत्रु आपकी दूकान या ऑफिस में तांत्रिक क्रिया करके आपको हानि पहुचाने का प्रयास कर रहा है तो शनिवार प्रातः पांच पीपल के पत्ते और आठ पान के साबुत डंडीदार पत्ते लेकर ला धागे में पिरोकर दूकान एम् पूर्व की तरफ बाँध दें और प्रत्येक शनिवार करें तो तांत्रिक क्रिया बेअसर हो जायेगी तथा आपका लाभ बढ़ जाएगाA

शम्मी वृक्ष की लकड़ी को पान के पत्ते में लपेटकर पैसे वाली पति – गल्ले में रखने से भी तांत्रिक क्रिया बेअसर हो जाती हैA

आयात – निर्यात तथा दूसरे नगरों से सम्बंधित व्यापारियों को एक दक्षिणावर्ती शंख हमेशा लाल राग की थैली में बांधकर श्री लक्ष्मी जी की प्रतिमा के पास दूकान अथवा प्फ्फिस में रखनियो चाहिएA

यदि कोई आपके व्यवसाय का धन वापिस नहीं दे रहा है अथवा आपके ऊपर बैंक आदि का क़र्ज़ अधिक होने के कारण ब्याज बढ़ रहा है तो आप गाय के खुर की मिटटी, किसी भी मंदिर के द्वार की मिटटी, भगवान लक्ष्मी नारायण मंदिर के द्वार की मिटटी और अस्तबल अर्थात घुडसाल की मिटटी एक ताम्बे के लोटे में भरकर दूकान में रखे उस मिटटी में सात अगरबत्ती गिनकर प्रतिदिन लगाएं और घर जाते समय पांच अगरबत्ती गिनकर लगाएं तो ऐसा प्रतिदिन करने से व्यवसाय में वृद्धि होगी और क़र्ज़ उतरने लगेगाA


यदि स्थिति बहुत ही चिंताजनक है अर्थात व्यवसाय बिलकुल ही ठप्प सा हो गया है तो प्रतिदिन घर से निकलते समय निम्न उपाय करें..

रविवार को पान खाकर दूकान या ऑफिस खोलना चाहिए यदि आप पान नहीं खाते है तो एक पान का पत्ता साथ में ले जाना चहिये शाम को उसे किसी मंदिर में अर्पण कर देंA
सोमवार को घर से निकलते समय दर्पण अवश्य देख कर निकलेA
मंगलवार को गुड़ खा कर घर से निकलना चाहिएA
बुधवार को धनियां चबाते हुए जाना चाहियेंA
वृहस्पतिवार को जीरा खाकर घर से निकलना चाहिएA
शुक्रवार को दही खाकर दूकान खोलनी चाहिएA
शनिवार को अदरक खाकर घर से निकलना शुभ होता हैA
दूकान या ऑफिस में हमेशा दाहिने पैर से ही प्रवेश करें और घर आते समय बांये पैर से ही दूकान से चलना चाहिएA

इन उपायों के साथ ही अपने व्यवसायिक स्थल का वास्तु परिक्षण तथा ग्रहों का भी विचार करेंA

इस सब बातों का ध्यान श्रद्धा व् विशवास से करे तो निश्चित ही माँ लक्ष्मी की कृपा आप पर होगी तथा आपका व्यवसाय उन्नति के मार्ग में चलेगा सभी भौतिक सुखों की प्राप्ति होगीA

****ईश्वर लाभ प्रदान करेंAऐसी मेरी शुभकामना हैA****

शुभमस्तु!!!




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में