जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

बुधवार, 15 फ़रवरी 2012

मोमबत्ती से अपना भविष्य देखें...




मनुष्य प्रारब्ध से ही आने वाले समय को लेकर उत्सुक रहा है. वह हमेशा इस बात को लेकर व्याकुल भी रहा है कि आने वाला समय उसके लिए या उसके परिवार के लिए कैसा रहेगा ? भविष्य में किस प्रकार के उतार चड़ाव आयेंगे ? 

वह सफल होगा या नहीं ? जिस मार्ग में वह चल रहा है क्या वह मार्ग सही है ? क्या उसे उसकी मंजिल मिलेगी ? आदि ऐसे बहुत से प्रश्न है 

जिनको लेकर मनुष्य उत्साहित व् व्याकुल रहा है फलस्वरूप ऐसे बहुत सी विधियां प्रचलित हुई जिनके माध्यम से उसने आने वाले समय की संभावनाओं को जाना, 

इसी क्रम में रमल शास्त्र, ज्योतिष शास्त्र, हस्त रेखा शास्त्र आदि बहुत सी विधियां प्रचलन में आयी ?

इनमे से ही एक अति प्राचीन भविष्य जानने की विधि है मोमबत्ती. आइये जाने किस प्रकार से एक मोमबत्ती के द्वारा भविष्य के संकेतों को जाना जा सकता है......

प्राचीन काल से ही मोमबत्ती भविष्य जानने का एक बहुत ही प्रभावशाली साधन मानी जाती है, मोमबत्ती मधुमक्खियों के मोम से बनाई जाती है

 मधुमक्खियाँ सृजनशीलता का प्रतीक है और भगवान का संदेशवाहक मानी जाती है 

इनके बनाए मोम से बनी मोमबत्तियाँ भी पवित्र मानी जाती है. इन मोमबत्तियों की ज्योति आपकी इच्छा और मनोकामनाएं भगवान तक पहुंचाती है 
साथ ही भगवान का आशीर्वाद भी आप तक पहुंचाने में सहायक होती है. जिससे आपकी मनोकामना पूर्ण होती है. इस तरह चाहे दीपक की ज्योति हो या मोमबत्ती की ज्योति, वह बहुत ही पवित्र और शक्तिशाली मानी जाती है.

किसी भी दिन शाम के समय स्नान करके शुद्ध हो जाइए, घर में कुछ धूप बत्तियाँ जला लीजिए और घर को नकारात्मक ऊर्जा से मुक्त करें बाद में एक गुलाबी रंग की मोमबत्ती जला लीजिए और उसके सामने आसन बिछा कर बैठ जाओ अपने ईष्टदेव का स्मरण करते हुए अपनी ईच्छा को अपने दिल में दृश्यमान करें. 

जलती हुई मोमबत्ती को शांत चित्त से कुछ पल तक देखें इस पवित्र ज्योति को अपने दिल में उतारने की कोशिश करें ज्यादा से ज्यादा समय इसी भाव में मग्न रहे ऐसा प्रतिदिन करने से एक नए उत्साह का आप अनुभव करेंगे..

अगर आपकी शादी नहीं हुई है तो आप अपने भावी जीवनसाथी के बारें में जानना चाहते है तो रात को सोने से पहले तेज (Bay Leaf) पत्ते के नौ साबुत पत्ते लीजिए उसे अपने तकिये के नीचे रख लीजिए अपने दाहिने हाथ की अनामिका उंगली में एक सोने की अंगूठी धारण करें, 

और भावी जीवन साथी के बारे में सोचते हुए सो जाइए आप सपने में अपने भावी जीवन साथी को अपने साथ पायेंगे और अपनी शादी का दिन भी जान सकेंगे लेकिन पहली शाम के समय मोमबत्ती पर ध्यान अवश्य करें हो सकता है कि एक या दो दिन में आपको सफलता ना मिले लेकिन प्रतिदिन अभ्यास करेंगे तो अवश्य भविष्य बिलकुल साफ़ देख पायेंगे.

एक दूसरा प्रयोग है अपने आने वाले प्यार के बारें में जानने के लिए, रात को अपनी चारपाई के चारों पायों पर हरी सौंफ के गुच्छे बाँध दीजिए और सोने से पहले एक सेब खा लें. और अपने आने वाले प्यार के बारे में सोचते हुए सो जाइए. रात को सपने में आपका सच्चा प्यार आपको जरुर दिखाई देगा.

मोमबत्ती से भविष्य जानने के लिए चार मोमबत्तियों की आवश्यकता है,

आप अपने प्रशन के अनुसार रंगीन मोमबत्ती चुन सकते है..

सफ़ेद:- नए साहस और रिश्ते सम्बंधित प्रशन के लिए,

लाल :- सृजनशक्ति, यौन और बचाव सम्बंधित प्रशन के लिए,

केसरी :- स्वास्थ्य, आत्मविश्वास और आत्मनिर्भरता सम्बंधित प्रशन के लिए,

पीली :- पैसा और रचनात्मक परियोजना सम्बंधित प्रशन के लिए,

हरी :- प्यार, दोस्ती, परिवार और बच्चे सम्बंधित प्रशन के लिए,

नीली :- सफर, परीक्षा और अध्ययन सम्बंधित प्रशन के लिए,

जामुनी :- मन की शान्ति,और अतीन्द्रिय अनुभव सम्बंधित प्रशन के लिए,

गुलाबी ;- मन की शान्ति, गहरी नींद और समझोता सम्बंधित प्रशन के लिए,

बादामी या कत्थई :- घर और घर के स्थान्नान्तरण सम्बंधित प्रशन के लिए,

सिल्वर :- गूढ़ विद्या और गोपनीय स्वप्न सम्बंधित प्रशन के लिए,

गोल्ड :- महत्वकांक्षी योजनाएं और उच्च ध्येय सम्बंधित प्रशन के लिए,

सबसे पहले अपने प्रश्न के अनुसार चुनी हुई तीन मोमबत्तियाँ समभुज त्रिकोण अकार में लगाइए, चौथी मोमबत्ती कुच्छ दूर लगाएं अपने दिमाग को शांत और स्थिर करके अपने इष्टदेव का स्मरण करें फिर अपने प्रश्न पर अपना पूरा ध्यान केंद्रित करें, माचिस की एक ही तीली से त्रिकोणाकार राखी तीनो मोमबत्तियाँ जला ले, 

अब चौथी मोमबत्ती भी जला लें. कमरे की सारी लाइटें बन्द कर देवें, अब त्रिकोणाकार राखी तीनो मोमबत्तियों की ज्योत से अपने प्रश्न का उत्तर जानने की कोशिश करें...

१:- एक ओर से दूसरी ओर हिलती हुई ज्योत मुसाफरी सूचित करती है.

२:- दूसरी ज्योति की तुलना में एक ज्योति का अधिक तेज प्रज्जवलित होना सम्पूर्ण सफलता दर्शाती है.

३:- बत्ती के शिखर पर अदभुत तेजोमय प्रकाश आने वाली समृद्धि के बारे में बताता है.

४:- लहरदार और कुण्डलों में उठती हुई ज्योति शत्रुओं की कोई चाल से सावधान करती है.

५:- छोटी छोटी चिंगारियां सावधानी बरतने की सुचना देती है.

६:- उठती और गिरती हुई ज्योति संकट या खतरे की निशानी है.

७:- अस्थिर और हिलती हुई ज्योति आने वाली निराशा का संकेत देती है.

८:- अचानक ही ज्योति का बुझ जाना भयंकर विपत्ति का परिचायक है.

इस प्रकार से आप किसी भी समस्या का हल या भविष्य जान सकते है, करने से पूर्व अभ्यास अवश्य करें और अपने इष्टदेव पर पूरी आस्था और विश्वास का होना अत्यंत आवश्यक है.


शुभमस्तु !!

1 टिप्पणी:

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में