जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

बुधवार, 21 मार्च 2012

जीवन में स्वप्न और उनका फल...




स्वप्न मनुष्य के लिए बड़े ही आकर्षक लुभावने और रहस्यमय होते है. डरावने और बुरे स्वप्न जहां उसे भयभीत करते है. वहीं दिलचस्प, मनोहारी और अच्छे स्वप्न उसे आत्मविभोर कर देते है.

 रात्री में सुप्त अवस्था में देखे गए स्वप्नों के स्वप्न जाल में घिरा वह सारा दिन एक अजीब सी खुशी का अनुभव करता है.एक अजीब सी ऊर्जा उसके भीतर प्रवाहित होती रहती है. मनुष्य स्वभाव ही ऐसा है, जो बुरे स्वप्न के फल को भी जानना चाहता है.और अच्छे स्वप्न के फल को भी जानने के लिए उत्सुक रहता है. 

आखिर स्वप्न क्या है, जो सदियों से मनुष्य को अपने शुभ अशुभ संकेतों द्वारा सचेत करता रहा है. असल में स्वप्न व्यक्ति के व्यक्तित्व का एक ऐसा भाग्य सूचक है. 

जो वह सब कुछ उसको निन्द्रावस्था में बता जाता है. जो उसके जीवन में शुभ अशुभ घटने वाला होता है. ऐसी सूक्ष्म और प्रामाणिक जानकारी मनुष्य को किसी भी पद्धति से नहीं मिल सकती है.

कुछ स्वप्न बड़े ही विचित्र और आश्चर्यजनक होते है. व्यक्ति उन्हें देख कर अवाक रह जाता है. कि वह स्वप्न में कैसे आसमान में उड़ रहा था. कुछ स्वप्न ऐसे भी होते है. 

जो भविष्य में घटने वाली शुभ अशुभ घटनाओं का बोध कराते है. और कुछ स्वप्न बिलकुल ही मानव जीवन की सच्चाइयो से जुड़े होते है.

आप अगर रात के प्रथम पहर में कोई स्वप्न देखते है तो उस स्वप्न का शुभ या अशुभ फल आपको साल भर में मिलने की संभावना रहती है. 

रात के दूसरे पहर में आप कोई स्वप्न देखते है.उसका शुभ या अशुभ फल मिलने का समय आठ महीने का होता है. 

रात के तीसरे पहर में आप कोई स्वप्न देखते है तो तीन महीने में उसका शुभ अशुभ फल मिलता है. 

रात के चौथे पहर के स्वप्न के फल प्राप्ति का समय एक माह होता है. और जो स्वप्न सुबह भोर काल में देखे जाते है उसका फल शीघ्र ही आपको मिल जाता है. 

दिन निकलने के बाद देखे जाने वाले स्वप्नों का फल आधे माह के भीतर ही मिल जाते है. जीवन में बहुत प्रकार के स्वप्न दिखाई देते है और विभिन्न विषयों पर स्वप्न दृश्यमान होते है, 

उन सभी चयन करना असंभव है फिर भी अधिकतर स्वप्न का फल बताने का प्रयास किया जा रहा है जो कि शब्दों के क्रमवार से लिखने का प्रयास कर रहा हूँ.....

**अ**
अखरोट देखना भरपुर भोजन मिले तथा धन वृद्धि हो
अनाज देखना -चिंता मिले
अनार खाना (मीठा ) धन मिले
अजनबी मिलना अनिष्ट की पूर्व सूचना
अजवैन खाना स्वस्थ्य लाभ
अध्यापक देखना सफलता मिले
अँधेरा देखना विपत्ति आये
अँधा देखना कार्य में रूकावट आये
अप्सरा देखना धन और मान सम्मान की प्राप्ति
अर्थी देखना धन लाभ हो
अमरुद खाना धन मिले
अनानास खाना पहले परेशानी फिर राहत मिले
अदरक खाना मान सम्मान बढे
अनार के पत्ते खाना शादी शीघ्र हो
अमलतास के फूल पीलिया या कोढ़ का रोग होना
अरहर देखना शुभ
अरहर खाना पेट में दर्द
अरबी देखना सर दर्द या पेट दर्द
अलमारी बंद देखना धन प्राप्ति हो
अलमारी खुली देखना धन हानि हो
अंगूर खाना स्वस्थ्य लाभ
अंग रक्षक देखना चोट लगने का खतरा
अपने को आकाश में उड़ते देखना सफलता प्राप्त हो
अपने पर दूसरौ का हमला देखना लम्बी उम्र
अंग कटे देखना स्वास्थ्य लाभ
अंग दान करना उज्जवल भविष्य , पुरस्कार
अंगुली काटना परिवार में कलेश
अंगूठा चूसना पारवारिक सम्पति में विवाद
अन्तेस्ति देखना परिवार में मांगलिक कार्य
अस्थि देखना संकट टलना
अंजन देखना नेत्र रोग
अपने आप को अकेला देखना लम्बी यात्रा
अख़बार पढ़ना, खरीदना वाद विवाद
अचार खाना , बनाना सिर दर्द, पेट दर्द
अट्हास करना दुखद समाचार मिले
अध्यक्ष बनना मान हानि
अध्यन करना -असफलता मिले
अपहरण देखना लम्बी उम्र
अभिमान करना अपमानित होना
अध्र्चन्द्र देखना औरत से सहयोग मिले
अमावस्या होना दुःख संकट से छुटकारा
अगरबत्ती देखना धार्मिक अनुष्ठान हो
अगरबत्ती जलती देखना दुर्घटना हो
अगरबत्ती अर्पित करना शुभ
अपठनीय अक्षर पढना दुखद समाचार मिले
अंगीठी जलती देखना अशुभ
अंगीठी बुझी देखना शुभ
अजीब वस्तु देखना प्रियजन के आने की सूचना
अजगर देखना शुभ
अस्त्र देखना संकट से रक्षा
अंगारों पर चलना शारीरिक कष्ट
अंक देखना सम अशुभ
अंक देखना विषम शुभ
अस्त्र से स्वयं को कटा देखना शीघ्र कष्ट मिले
अपने दांत गिरते देखना बंधू बांधव को कष्ट हो
आंसू देखना परिवार में मंगल कार्य हो
आवाज सुनना अछा समय आने वाला है
आंधी देखना संकट से छुटकारा
आंधी में गिरना सफलता मिलेगी
***आ***
आइना देखना इच्छा पूरण हो , अछा दोस्त मिले
आइना में अपना मुहं देखना नौकरी में परेशानी , पत्नी में परेशानी
आसमान देखना ऊचा पद प्राप्त हो
आसमान में स्वयं को देखना अच्छी यात्रा का संकेत
आसमान में स्वयं को गिरते देखना व्यापार में हानि
आग देखना गलत तरीके से धन की प्राप्ति हो
आग जला कर भोजन बनाना धन लाभ , नौकरी में तरक्की
आग से कपडा जलना अनेक दुख मिले , आँखों का रोग
आजाद होते देखना अनेक चिन्ताओ से मुक्ति
आलू देखना भरपूर भोजन मिले
आंवला देखना मनोकामना पूर्ण न होना
आंवला खाते देखना मनोकामना पूर्ण होना
आरू देखना प्रसनता की प्राप्ति
आक देखना शारारिक कष्ट
आम खाते देखना धन और संतान का सुख
आलिंगन देखना पुरुष का औरत से काम सुख की प्राप्ति
आलिंगन देखना औरत का पुरुष से पति से बेवफाई की सूचना
आलिंगन देखना पुरुष का पुरुष से- शत्रुता बढ़ना
आलिंगन देखना औरत का औरत से धन प्राप्ति का संकेत
आत्महत्या करना या देखना लम्बी आयु
आवारागर्दी करना धन लाभ हो नौकरी मिले
आँचल देखना प्रतियोगिता में विजय
आँचल से आंसू पोछना अछा समय आने वाला है
आँचल में मुँह छिपाना मान समान की प्राप्ति
आरा चलता हुआ देखना संकट शीघ्र समाप्त होगे
आरा रूका हुआ देखना- नए संकट आने का संकेत
आवेदन करना या लिखना लम्बी यात्रा हो
आश्रम देखना व्यापार में घाटा
आट्टा देखना कार्य पूरा हो
आइसक्रीम खाना सुख शांति मिले
***इ***
इमली खाते देखना औरत के लिए शुभ ,पुरुष के लिए अशुभ
इडली साम्भर खाते देखना सभी से सहयोग मिले
इष्ट देव की मूर्ति चोरी होना मृत्युतुल्य कष्ट आये
इश्तहार पढना धोखा मिले, चोरी हो
इत्र लगाना अछे फल की प्राप्ति, मान सम्मान बढेगा
इमारत देखना मान सम्मान बढे, धन लाभ हो
ईंट देखना कष्ट मिलेगा
इंजन चलता देखना यात्रा हो , शत्रु से सावधान
इन्द्रधनुष देखना संकट बढे , धन हानि हो
इक्का देखना हुकम का दुःख व् निराशा मिले
इक्का देखना ईंट का -कष्टकारक स्तिथि
इक्का देखना पान का -पारवारिक क्लेश
इक्का देखना चिड़ी का गृह क्लेश ,अतिथि आने की सूचना
***उ***
उजाड़ देखना दूर स्थान की यात्रा हो
उस्तरा प्रयोग करना यात्रा में धन लाभ हो
उपवन देखना बीमारी की पूर्व सूचना
उदघाटन देखना अशुभ संकेत
उदास देखना शुभ समाचार मिले
उधार लेना या देना धन लाभ का संकेत
स्वयं को उड़ते देखना गंभीर दुर्घटना की पूर्व सूचना
उछलते देखना -दुखद समाचार मिलने का संकेत
उल्लू देखना -दुखों का संकेत
उबासी लेना दुःख मिले
उल्टे कपडे पहनना अपमान हो
उजाला देखना भविष्य में सफलता का संकेत
उजले कपडे देखना -इज्जत बढे , विवाह हो
उठना और गिरना संघर्ष बढेगा
उलझे बाल या धागे देखना परेशानिया बढेगी
उस्तरा देखना धन हानि , चोरी का भय
***ऊ***
ऊंघना धन हानि , चोरी का भय
ऊंचाई पर अपने को देखना अपमानित होना
ऊन देखना धन लाभ हो
ऊंचे पहाड़ देखना काफी मेहनत के बाद कार्य सिद्ध होना
ऊंचे वृक्ष देखना मनोकामना पूरी होने में समय लगना
***औ***
औषधी देखना गलत संगति देखना
***ऐ***
ऐनक लगते देखना विद्या मिले, ख़ुशी इज्जत मिले

शेष अगले भाग मै...........

शुभमस्तु !!



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में