जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

गुरुवार, 5 जुलाई 2012

राशि अनुसार श्रावण में शिव पूजन द्वारा लाभ उठायें...




शिव पुराण में उल्लेख हैं की महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग की उत्पत्ति हुई थी, शिववरात्रि के दिन शिव 


पूजन, व्रत और उपवास से व्यक्ति को अनंत फल की प्राप्ति होती हैं।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार व्यक्ति अपनी राशि के अनुसा भगवान शिव की आराधना और पूजन कर विशेष 


लाभ प्राप्त कर सकते हैं ।

मेष : जल या दूध के साथ में गुड़, शहद (मधु, महु, मध) लाल चंदन, लाल कनेर के फूल सब मिला कर 



या किसी भी एक वस्तु को जल/ दूध के साथ मिला कर अभिषेक करने से विशेष लाभ मिलता हैं।

वृषभ : जल या दही के साथ में शक्कर(मिश्री), अक्षत(चांवल), सफेद तिल, सफेद चंदन, श्वेत आक फूल 



सब मिला कर या किसी भी एक वस्तु को जल या दही के साथ मिला कर अभिषेक करने से विशेष लाभ 


मिलता हैं।

मिथुन: गंगा जल या दूध के साथ में दूब, जौ, बेल पत्र सब मिला कर या किसी भी एक वस्तु को गंगा 



जल या दूध के साथ मिला कर अभिषेक करने से विशेष लाभ मिलता हैं।


कर्क


दूध या जल के साथ में शुद्ध घी, सफेद तिल, सफेद 


चंदन, सफेद आक सब मिला कर या किसी भी एक 


वस्तु को दूध या जल के साथ मिला कर अभिषेक 


करने से विशेष लाभ प्राप्त होता हैं।

सिंह: 



जल या दूध के साथ में शुद्ध घी, गुड़, शहद (मधु


महु, मध) लाल चंदन सब मिला कर या किसी भी 


एक वस्तु को जल या दूध के साथ मिला कर 


अभिषेक करने से विशेष लाभ प्राप्त होता हैं।

कन्या : 



गंगा जल या दूध के साथ में दूब, जौ, बेल पत्र सब मिला कर या किसी भी एक वस्तु को गंगा जल या 


दूध के साथ मिला कर अभिषेक करने से विशेष लाभ मिलता हैं।

तुला : 



गंगा जल या दही के साथ में शक्कर(मिश्री), अक्षत(चांवल), सफेद तिल, सफेद चंदन, श्वेत आक फूल


सुगंधित इत्र सब मिला कर या किसी भी एक वस्तु को जल या दही के साथ मिला कर अभिषेक करने 


से विशेष लाभ मिलता हैं।

वृश्चिक : 



जल या दूध के साथ में घी, गुड़, शहद (मधु, महु, मध) लाल चंदन, लाल रंग के फूल सब मिला कर या 


किसी भी एक वस्तु को जल/ दूध के साथ मिला कर अभिषेक करने से विशेष लाभ मिलता हैं।

धनु : 



जल या दूध के साथ में हल्दी , केसर, चावल, घी, शहद, पीले फुल, पीली सरसों, नागकेसर सब मिला कर 


या किसी भी एक वस्तु को जल/ दूध के साथ मिला कर अभिषेक करने से विशेष लाभ प्राप्त होता हैं।

मकर : 



गंगा जल या दही के साथ में काले तिल, सफेद चंदन, शक्कर(मिश्री), अक्षत(चांवल),सब मिला कर या 


किसी भी एक वस्तु को अभिषेक गंगा जल या दही के साथ मिला कर अभिषेक करने से विशेष लाभ 


प्राप्त होता हैं।

कुंभ : 



गंगा जल या दही के साथ में काले तिल, सफेद चंदन, शक्कर(मिश्री), अक्षत(चांवल),सब मिला कर या 


किसी भी एक वस्तु को अभिषेक गंगा जल या दही के साथ मिला कर अभिषेक करने से विशेष लाभ 


प्राप्त होता हैं।

मीन : 



जल या दूध के साथ में हल्दी , केसर, चावल, घी, शहद, पीले फुल, पीली सरसों, नागकेसर सब मिला कर 


या किसी भी एक वस्तु को जल/ दूध के साथ मिला कर अभिषेक करने से विशेष लाभ प्राप्त होता हैं।

महाशिव रात्रि के दिन कोइ भी व्यक्ति जिसे अपनी राशि पता नहीं हैं वह व्यक्ति से शिवलिंग का अभिषेक 



कर सकते हैं ।


शुभमस्तु !!



4 टिप्‍पणियां:

  1. बेनामी7/06/2012 12:44 pm

    pati patni kon se rashi se abishek kar sakte hai

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पति की राशि अनुसार ही अभिषेक करे यदि धर्मपत्नी भी व्यवसाय या सर्विस करती हो तो उन्हें अलग से अपनी राशि के अनुसार करना चाहिए अन्यथा पति के अनुसार ही उचित रहेगा...

      हटाएं
  2. गुरूजी नमस्कार मेरा नाम जय शंकर है हमारे लिए कौन सा रत्ना अच्छा होगा कृपया बताये

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जय प्रकाश जी आप रत्न वाले लेख इसी ब्लॉग में पढ़े...

      हटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में