जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

शनिवार, 2 मार्च 2013

अपना घर और लालकिताब....



आज की दौड़ धूप से भरी ज़िन्दगी में हर इंसान का सपना है की उसका भी एक सपनों जैसा सुन्दर घरहोजिसमे उसका हँसता खेलता परिवार जीवन की हरेक ख़ुशी का आनंद ले सके। मगर आज केमहंगाई के युग में एक ही गीत मेरे ज़ेहन में बार बार  रहा है "सखी सईयाँ तो खूब ही कमात हैं,महंगाई डायन खाए जात है", और यह सच भी है महंगाई के इस दौर में अपना घर बनाना वाकईआसमान से तारे तोड़ कर ले आने के समान है। आईये जाने की 'लाल किताबमें अपना घर होने केसम्बन्ध में क्या क्या योग-अव्योग बताये गए हैं।

"टेवे बैठे ग्रह  ता ९वेदायें दाखिला बोलते हैं,
चलते १२ से घर  आवेंअसर बाएं पर देते हैं"

अर्थातजन्मकुंडली अनुसार जो भी ग्रह भाव नंबर  से  में होंगे वह अपना असर घर में दाखिल होतेसमय घर के दायीं तरफ ज़ाहिर करेंगे और जो भी ग्रह भाव नंबर १२ से १० में होंगे वह अपना असर घरके बायीं तरफ ज़ाहिर करेंगे। उदाहरण के लिए मान लीजिये की यदि शनि आपके भाव नंबर  में है और भाव नंबर  में है सूरज तो घर में दाखिल होते समय दायें हाथ की तरफ दूसरी कोठरी या कमरे मेंसूरज से सम्बंधित चीज़ें जैसे की रौशनी-धूपगुड या अनाज का भंडार आदि आदि सूरज से सम्बंधितचीज़ें होंगी तथा दायें हाथ से चौथे नंबर की कोठरी या कमरे में शनि से सम्बंधित चीज़ें जैसे की बड़े बड़ेसंदूकसेफलोहालकड़ी आदि या फिर इस कमरे में चाचा की मौत (यानि की यदि टेवे वाले का कोईचाचा हो और साथ ही रहता हो तो अमूमन उसका आखरी वक़्त उसी कमरे में बीतेगाया इस कमरे की छत  दरवाज़े पुराने ज़माने की लकड़ी शीशम-कीकर-फलाही आदि से बने होंगे। हम जानते हैं कीसूरज का सम्बन्ध राजदरबार से है और शनि का सम्बन्ध बीमारी और दुःख से है अर्थात भाव नंबर २में सूरज होने पर व्यक्ति स्वयं या उसका राजदरबार घर में प्रवेश करते समय दायें हाथ की तरफ दुसरेकमरे में होगा या भाव नंबर  की दिशा (शुमाल-मगरिबउत्तर-पश्चिम दिशा में होगा इसी तरह भावनंबर  में शनि हो तो अमूमन घर का कोई बीमार व्यक्ति या चाचा या शनि की चीज़ें घर में प्रवेश करतेवक़्त दायें हाथ की तरफ बने ४थे कमरे में या उसकी दिशा (शुमाल-मशरिकउत्तर-पूर्व में होंगी।

कब बनेगा खुद का घर
लाल किताब के वर्षफल अनुसार जिस साल शनि अपने जाती उसूल केमुताबिक नेक साबित हो तो और दृष्टि या वैसे ही राहू केतु के साथ बैठा हो तो व्यक्ति का अपना घरबनने के पूरे पूरे योग होते हैं लेकिन यदि शनि अपने जाती उसूल पर अशुभ हो और राहू केतु के साथ होतो उस साल मकान बनने की बजाय उल्टा बर्बाद होगा या बिक जायेगा। भाव नंबर   उसमे बैठे ग्रहघर की हालत बताएँगे तथा भाव नंबर   उसमे बैठे ग्रह घर के सुख-दुःख के बारे में बताएँगे।

कैसे करे भूमि की जांचअपना घर बनाने से पहले खाली प्लाट के चारों ओर पानी से एक लकीरखींचेफिर प्लाट के मध्य भाग में दूध या गंगाजल या चावल से भरा हुआ एक बर्तन (घड़ादबाएँऐसाकरने के लगभग कुछ ही दिनों में यदि वह प्लाट आपके लिए अशुभ होगा तो शनि का अशुभ फलअचानक बीमारी या मुकद्दमा या लडाई झगडा या दूसरी कोई लानत के रूप में आप पर ज़ाहिर होजायेगा तब फ़ौरन ही उस दबाये हुए बर्तन को निकाल कर किसी नदी या दरिया में प्रवाहित कर दे,अशुभ फल मिलने बंद हो जायेंगे और वह प्लाट हो सके तो बेच दे क्यूंकि वह आपके लिए शुभ नहीं है। 

अपना घर बनाने सम्बन्धी कुछ नियम  हिदायतेंलाल किताब में 'श्री शनि देवएवं 'घर'का बहुत ही अटूट सम्बन्ध हैक्यूंकि जब तक शनिदेव की कृपा नहीं होगी तब तक व्यक्ति अपना स्वयंका घर नहीं बना सकता। आईये जाने विभिन्न भावों में शनिदेव के स्थित होने पर व्यक्ति  उसके घरसम्बन्धी पड़ने वाले प्रभाव क्या हैं।

शनि भाव नंबर  मेंयदि आपके भाव नंबर एक में शनि विराजमान है और अपने जाती उसूलमुताबिक अशुभ है तो जब भी वह व्यक्ति अपना घर बनाएगा तो काग रेखा का फल मिलेगा यानि कीवह व्यक्ति कौवे जितनी खुराक के लिए भी तरसेगानिर्धन हो जायेगा और हर तरफ बर्बादी का मंज़रहोगालेकिन यदि भाव नंबर   १० खाली हो तो शुभ फल ही होगा।
शनि भाव नंबर  मेंयदि आपके भाव नंबर  में शनि हो तो घर जब और जैसा भी बने बनने देशुभ फल ही होगा।
शनि भाव नंबर  मेंहो तो  कुत्ते पालने पर ही घर बनेगा वर्ना गरीबी का कुत्ता भौंकता रहेगा। 

शनि भाव नंबर  मेंहो तो व्यक्ति जब भी अपना घर बनाएगा तो बुनियाद खोदते ही उसकी माताया दादी या सास या मामू या नानके परिवार तबाह और बर्बाद होने लग जायेंगे।

शनि भाव नंबर  मेंहो तो व्यक्ति द्वारा बनाये गए मकान (घरउसकी औलाद की क़ुरबानी लेंगे,मगर औलाद द्वारा बनाये गए मकान खुद उस व्यक्ति के लिए शुभ होंगे। ऐसे में यदि वह व्यक्ति अपनी४८ साल उम्र के बाद ही मकान बनाये तो कोई अशुभ फल नहीं होगा।
शनि भाव नंबर  मेंहो तो ३९ साल की उम्र के बाद ही मकान बनाना शुभ फल देगा वर्ना व्यक्ति कीलड़की के रिश्तेदार (ससुरालतबाह और बर्बाद होंगे।
शनि भाव नंबर  मेंहो तो व्यक्ति को बने बनाये मकान बहुत मिलेंगे जो की शुभ होंगे। 

शनि भाव नंबर  मेंहो तो जब भी व्यक्ति अपना मकान बनाना शुरू करेगा उसके घर में मौत कातांडव शुरू हो जायेगामगर यदि राहू केतु जन्मकुंडली में शुभ हो तो शुभ फल ही होगा।
                   
शनि भाव नंबर  मेंहो तो व्यक्ति जब अपनी कमाई से मकान बनाएगा तो उसकी औरत के (यामाता ) गर्भवती होने की अवस्था में उसका पिता या तो बहुत धनवान होगा या जिंदा  रहेगा और जबऐसा व्यक्ति अपनी कमाई से तीन अलग अलग मकान बना ले तो उसका अपना आखरी वक़्त नज़दीकहोगा।

शनि भाव नंबर १० में- हो तो जब तक वह व्यक्ति अपना खुद का मकान (घरनहीं बनाएगा तबतक शनि उसे घर बनाने की कीमत जितना नकद धन देता जायेगा लेकिन जैसे ही वह व्यक्ति अपनाघर बना लेगा तो उस व्यक्ति की आमदनी बर्बाद बल्कि ख़त्म ही हो जाएगी।

शनि भाव नंबर ११ मेंहो तो व्यक्ति का मकान अमूमन देर से लगभग ५५ साल उम्र के बाद हीबनेगायदि वह व्यक्ति दक्षिण मुखी मकान में रहता होगा तो ऐसे व्यक्ति को बहुत लम्बे अरसे तककिसी  किसी बीमारी की वजह से जूझना पड़ेगा और उसकी मौत भी उसी बीमारी से होगीहो सकताहै की उस बीमारी की वजह से उसे बहुत लम्बे समय तक बिस्तर पर ही गुज़ारा करना पड़े।

शनि भाव नंबर १२ मेंहो तो अब ऐसे व्यक्ति के मकान अपने आप ही बनेंगे और शुभ फल देंगे।

कैसे होने चाहिए घर के कोनेचार कोने वाला मकान सबसे उत्तम माना गया है और हर कोना ९०डिग्री के कोण पर होना चाहिए।
"-१८-१३-तीनबिच्चों चुक भुजा बलहीन,
पांच कोण का मंदिर रचेकह बिसकरमा कैसे बसे"

अर्थातआठ कोने वाला मकान आयु पर अशुभ असर देगा तथा आग लगने जैसी घटनाएं होंगी यानिशनि खाना/भाव नंबर  का फल देगा ऐसे घर में मातम के वाकियात  बीमारी आम होगी१८ कोनेवाला मकान माता और पिता की आयु पर भारी होगा या ऐसे व्यक्ति का सोने चांदी का बहुत नुकसानहोगा१३ कोने वाला मकान फांसी तक जैसी सजा हो सकती है कोने वाला मकान भाई बंधू परअशुभ असर करता है। यदि मकान का मध्य भाग ऊपर को उठा हो बिलकुल कछुए की पीठ की भांतिया मकान का आकार मछली की तरह हो तो व्यक्ति की नस्ल घटती जाएगी और उसे काग रेखा यानिकी कौवे जितनी खुराक के लिए भी तरसना पड़ेगा। बिना भुजा वाला मकान (मछली जैसायानिजिस  मकान की भुजा एक जैसी  हो शमशान के सामान होगाऐसे मकान में ख़ुशी के वक़्त अचानकमातम का माहौल बन जायेगा। पांच कोने वाले मकान में स्वयं व्यक्ति कभी नहीं बस पायेगा और यदिबस भी जाये तो उसकी औलाद पर हमेशा मृत्यु मंडराती होगी। उसकी हालत ऐसी होगी की बीमारी भीमौत  देगी हर समय छाती पर सांप लोटते होंगे। चार कोने वाला मकान पूरे कुल की उन्नति मेंसहायक होगाव्यक्ति बहुत बड़े ओहदे वाला या वैसे ही खुशहाल होगा।
                                                                                         
कैसे जाने घर या मकान शुभ होगा या अशुभआज बढती महंगाई के दौर में फिर भी हर इंसानका सपना है की उसका भी अपना खुद का एक प्यारा सा घर होजिसके लिए वो दिन रात एक करकेअपने जीवन की सारी जमा पूँजी खर्च करके यह सपना तो किसी तरह पूरा कर लेता है मगर वो यहनहीं जानता की जिस घर को पाने के लिए उसने इतनी मेहनत की वो घर उसके लिए शुभ है या अशुभ।कहीं ऐसा तो नहीं की उस घर में कदम रखते ही उसकी खुशियों पर ग्रहण का साया पड़ जाये या यह भीहो सकता है की उस घर में आते ही वो दिन दुनी रात चौगुनी तरक्की करेबहरहाल कुछ भी हो सकताहै। इस लेख के ज़रिये हम लाल किताब के नियमों के आधार पर यही जानने की कोशिश करेंगे की नयाघर हमारे लिए खुशियों की सौगात लाया है या दुखों का पहाड़। इसी लेख के भाग -- में मैंने बतायाथा की घर खरीदने से पहले भूमि किस प्रकार की होनी चाहिए तथा आपकी कुंडली में शनि की स्थितिके अनुसार क्या फल होगाआईये अब हम जाने की घर के अंदरूनी हिस्सों की पैमाइश का व्यक्ति(मकान मालिकपर क्या असर पड़ता है।
घर बनाने से पहले दीवार और बुनियाद का रकबा छोड़कर हर एक हिस्से या कमरे का अंदरूनी हिस्साअलग अलग मापा जायेमापने के लिए मकान मालिक या जिसके नाम पर मकान लिया हैउसकीकोहनी के जोड़ से लेकर मध्यमा अंगुली के सिरे तक की लम्बाई जिसे एक हाथ कहते हैंको हमघर/मकान की लम्बाई  चौडाई मापने के लिए इस्तेमाल में लायेंगे। इसके लिए गणित का बहुत हीसरल फार्मूला लेंगे-
घर के अंदरूनी हिस्सों/कमरों की  लम्बाई+चौडाई गुना  से एक घटाया और  से तकसीम किया जोशेष आया वही असर निम्नलिखित होगा। उदाहरण के लिए लम्बाई १६' + चौडाई १०'= २६ गुना किया३ से७८ से एक घटाया = ७७ को तकसीम किया  सेशेष आया 
इसी तरह जोड़ घटाव करने पर शेष ------- या शुन्य हो सकता है। शेष यदि ---७आये तो शुभ फल होगा और यदि --- या शुन्य शेष आये तो अशुभ फल होगा। आईये जानेविस्तार से इसका फल-
शेष यदि  आयेराजा समानबुलंद हैसियतबहुत उत्तम फल
शेष  आयेकुत्तागरीबनिर्धन
शेष  आयेशेरआदमियों के लिए उत्तम मगर स्त्रियों  बच्चों के लिए अशुभव्यापार के लिया उत्तम
शेष  आयेगधानिर्धनमनहूसमजदूर
शेष  आयेगौ घाटगायस्त्री-बाल बच्चों के लिए शुभ
शेष  आयेमुसाफिरमाता पिता औलाद दुखीकोई साथ ना देगा
शेष  आयेहाथीमवेशियों के लिए उत्तम  बरकत वाला
शेष  आयेचीलगिद्धमुर्द्घाटमौत का घर...

शुभमस्तु !!




11 टिप्‍पणियां:

  1. pandit ji mera naam swati agarwal hai meri dob 10-oct-1988 hai aur janam samay raat me 12 baj ke 5 min kripya mujhe bataye mera khud ka makkan kab hoga aur kya wo mujhe subh fal dega,

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कृपया अपना जन्म स्थान का विवरण दें तथा तारीख बताएं कि 10/11 है या 09/10 है रात्री 12 बजे के बाद तारीख IST के अनुसार बदल जाती है.

      हटाएं
  2. pandit ji mera naam swati agarwal hai meri dob 10-oct-1988 hai aur janam samay raat me 12 baj ke 5 min kripya mujhe bataye mera khud ka makkan kab hoga aur kya wo mujhe subh fal dega,

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कृपया अपना जन्म स्थान का विवरण दें तथा तारीख बताएं कि 10/11 है या 09/10 है रात्री 12 बजे के बाद तारीख IST के अनुसार बदल जाती है.

      हटाएं
  3. MERA JANAM KANPUR UP ME HUA HAI AUR JANAM TARIK 10-10 -1988 HAI..........9 KI RAAT ME 12 KE BAAD JANAM HUA HAI.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली अनुसार शनि देव छठे भाव में है और वर्तमान में चौथे भाव में गोचर कर रहे है अतः आपकी शनि की साडेसाती भी चल रही है आपके मकान का योग बन रहा है शनि के कारण कुछ समस्या आएँगी आप शनि की साडेसाती का उपाय करें तथा पुखराज धारण करें तो शीघ्र कामना पूरी होगी

      हटाएं
  4. my name is swati agarwal.dob-10-oct-1988 time raat me 12 baj ke 5 min,kripya bataye mera khud ka makan kab hoga aur wo shubh hoga ki nahi.ye bhi bataye ki abhi sani mere kaun se bhav me hai.

    MERA JANAM KANPUR UP ME HUA HAI AUR JANAM TARIK 10-10 -1988 HAI..........9 KI RAAT ME 12 KE BAAD JANAM HUA HAI.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली अनुसार शनि देव छठे भाव में है और वर्तमान में चौथे भाव में गोचर कर रहे है अतः आपकी शनि की साडेसाती भी चल रही है आपके मकान का योग बन रहा है शनि के कारण कुछ समस्या आएँगी आप शनि की साडेसाती का उपाय करें तथा पुखराज धारण करें तो शीघ्र कामना पूरी होगी

      हटाएं
  5. guruji mera name satish he mera DOB 24/12/1979 time Raat 10.30 baje he me abhi pichle 4 saal se kiraye par raheta hu kripya bataiye mere khud ka ghar banega ya nahi aur banega to kab?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपने जन्म स्थान का विवरण दें ?

      हटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में