जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

गुरुवार, 7 मार्च 2013

रोग और लाल किताब.....




बड़े बुजुर्गों ने कहा है,'पहला सुख निरोगी काया'बिलकुल यह बात सत्य है

यदि स्वास्थ्य नहीं तो कुछ भी नहीं चाहे जितनी मर्जी धनदौलत हो सब बेकार है। 

रूपया पैसा किसी काम का नहीं जब तक की आपका शरीरस्वस्थ नहींक्यूंकि यदि आप स्वस्थ हैं तो 

जीवन के हर सुख का आनंद ले सकते हैं।

आईये जाने लाल किताब से की कौन कौन से ग्रहों के अशुभ या कमज़ोर होने पर हमें किस किस 

प्रकार के रोग या कष्ट आने की सम्भावना रहती है और ऐसी स्थिति में हमेंकिन किन ग्रहों का उपाय 

करना चाहिए। 
जिस साल लाल किताब के वर्षफल अनुसारभाव नंबर ---११ या ---१२ मंदे या उनमे पापी ग्रह या अशुभ ग्रह हो तो उससाल व्यक्ति को अवश्य ही किसी  किसी रोग से जूझना पड़ सकता है

आईये निम्नलिखित बातों से जाने की कौन कौन से रोग हमें परेशान कर सकते हैं....

·                     जब हाथ की अँगुलियों के नाखून गोल हो और उनका रंग हरा हो जाये तोऐसे व्यक्ति का शरीर 

रोगग्रस्त होगा खासकर दिमागी बीमारियाँ होंगी।

·                 जब नाखून चौड़े और उनका रंग नीला हो जाये तो व्यक्ति को पुठोंसम्बन्धी रोग होगा या उसके 

शरीर में खून की कमी होगी।

·                     नाखून छोटे और सफ़ेद हो जाएँ तो भी खून की कमी होगी।

·                  नाखून छोटे और उनका रंग पीला पड़ जाये तो हृदय सम्बन्धी रोग होनेकी सम्भावना रहती है।

·                     नाखून मध्यम आकार के हो और उनका रंग काला हो तो व्यक्ति उम्र भरकिसी  किसी 

बीमारी से ग्रसित रहेगा।

·                     नाखून लम्बे हो और उनका रंग पीला पड़ जाये तो व्यक्ति को फेफड़े औरछाती सम्बन्धी रोग 

होंगे और शरीर कमज़ोर होगा।

·                     नाखून पतले और काले हो तो उम्र भर बीमार और कमज़ोर होगा।
·                     नाखून पर जब कालासफ़ेदलाल या अन्य रंग के धब्बे हो तो व्यक्ति पीठकी बीमारी से 
ग्रसित होगा।
·                     यदि कुंडली में बृहस्पति कमज़ोर हो तो व्यक्ति को सांस  फेफड़े सम्बन्धीरोग होने की 
सम्भावना रहती है।

·                     यदि कुंडली में सूरज कमज़ोर हो तो व्यक्ति को दिल सम्बन्धी रोग होने कीसम्भावना अधिक 
रहती हैपागलपन मूंह से झाग निकलनाकिसी अंगकी ताकत बेकार हो जाना आदि रोग व्यक्ति को घेर सकते हैं।
·                     जब बुध भाव नंबर १२ में हो और सूरज भाव नंबर  में  जाये (यहस्थिति केवल लाल किताब अनुसार वर्षफल में ही  सकती हैतो उससाल व्यक्ति को ब्लड प्रेशर की बीमारी होगी।
·                     चन्द्र कमज़ोर या अशुभ हो तो व्यक्ति को दिल सम्बन्धी रोग या नेत्र रोगहोने की सम्भावना रहती है।
·                     शुक्र यदि कमज़ोर हो तो व्यक्ति को त्वचा सम्बन्धी रोगखुजलीचम्बलवगैरह रोग होंगे।
·                     मंगल कमज़ोर हो तो नासूरपेट के रोगहैजापित्तमैदाभगंदरफोड़ेफुंसी आदि तरह तरह के रोग होंगे।
·                     बुध कमज़ोर होने पर चेचकदिमागी कमजोरीअंतड़ियों सम्बन्धी रोग,भोजन नाली में खराबीज़ुबान  दांत सम्बन्धी रोग होंगे।
·                     शनि कमज़ोर होने पर नेत्र दृष्टि कमज़ोरखांसीदमा आदि रोग होंगे।
·                     राहू यदि अशुभ या कमज़ोर हो तो बुखारदिमागी रोगप्लेगहादसा,अचानक चोट आदि से खतरा होगा।
·                     केतु यदि कमज़ोर हो तो जोड़ों की बीमारी या दर्दगैस की बीमारीफोड़े,फुंसीरसौलीसुजाकआतशकपेशाब सम्बन्धी रोगस्वप्न दोषकानसम्बन्धी रोगरीढ़ सम्बन्धी रोगहर्नियाअंग का उतर जाना आदि रोगसे व्यक्ति पीड़ित होगा।
·                     बृहस्पत राहू या बृहस्पत बुधकमज़ोर या अशुभ होने पर दमासांस कीतकलीफ होगी।
·                     राहू केतु (वर्षफल मेंया चन्द्र केतु कमज़ोर हो तो बवासीरपागलपन,निमोनिया आदि से तकलीफ होगी।
·                     सूरज शुक्र कमज़ोर होने पर तपेदिक रोग होने की सम्भावना रहती है।
·                     मंगल शनि कमज़ोर हो तो कोढ़खून में खराबीजिस्म या चर्म का फटनाआदि से तकलीफ होगी।
·                     शुक्र राहू से नामर्दी होगीशुक्र केतु से स्वप्न दोषबृहस्पत के साथ मंगलबद होने पर पीलियाचन्द्र बुध या मंगल का टकराव होने पर ग्लैंड्ससम्बन्धी रोग होगा।

शुभमस्तु!!




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में