जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

रविवार, 24 मार्च 2013

जीवन के दो मुख्य उपाय......




मनुष्य जीवन भर किसी उचित मार्गदर्शन और अचूक उपाय को तलाशता रहता है.किसी विद्वान, साधू या किसी महापुरुष की शरण जाकर उत्सुकता से अपनी समस्याओं के निराकरण हेतु कोई उपाय / समाधान खोजता है, आज इसी विषय से सम्बंधित दो उपाय आपके समक्ष है जो कि कई सदियों से प्रचलित और स्वयं सिद्ध भी है, आवश्यकता यह है कि इन उपायों को करते समय मन में पूर्ण श्रद्धा व् विशवास होना चाहिए तभी इसका चमत्कारी परिणाम आपको लाभ देगा.

१:- किन्नरों को दान....

प्राचीन समय से यह बात सभी को मालूम है और एक शकुन भी है कि यदि रास्ते में कोई किन्नर मिल जाए तो   कार्य सफल हो जाता है.किन्नरों को नाराज नही करना चाहिए,इसीलिए लोग इन्हें प्रसन्न करके इनका आशीर्वाद लेते है.किन्नरों का वर्णन शास्त्रों और हमारे पुराणों में भी मिलता है.

किन्नरों को महत्व देने के पीछे एक ज्योतिषीय आधार भी है.ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किन्नर "बुध" ग्रह का प्रतिनिधित्व करते है, और बुध को ज्योतिष शास्त्र में युवराज का पद प्राप्त है.यह एक शुभ ग्रह है,बुध जिस ग्रह के साथ बैठता है उसी ग्रह के अनुसार फल देता है.इसीलिए इसे तटस्थ एवं नपुंसक ग्रह भी कहा गया है.किन्नरों को बुध प्रभावी माना जाता है, अतः किन्नरों को दिए गये दान और सम्मान से बुध ग्रह शुभ फल देता है.

बुध को वाणी - व्यापार का कारक माना जाता है, यह बहन, बुआ और मौसी का कारक भी माना जाता है.ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बुध की अच्छी स्थिति हो तो खी गयी बातें खाली नही जाती है,अर्थात व्यक्ति की वाणी प्रभावशाली होती है.किन्नरों को दान देने से बुध ग्रह  के शुभ फल प्राप्त होते है.और व्यक्ति प्रसानचित्त और खुशहाल होता है,व्यापार में सफलता प्राप्त होती है. ध्यान रखें कि ...किन्नर को दान अपने आप दें ..उसके मांगने पर या आग्रह करने पर विचार करें. 

स्वतः ही दान करना सर्वश्रेष्ठ होता है. 



२:- कौए को गुलाब जामुन....

अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि अशुभ या नीच स्थान में बैठा हो और अशुभ फल दे रहा हो, तो शनि की सेवा करना आवश्यक हो जाता है। शनिदेव को प्रसन्न करने के कई रास्ते शास्त्रों में बताए गये हैं। शनि को खुश करने के कुछ उपाय इतने सरल हैं, जिन्हें करना हर किसी के लिए आसान होता है। मसलन अगर कौओं को शनिवार के दिन गुलाब जामुन खिलाया जाए, तो शनिदेव की कृपा मिल सकती है।  

इसी तरह हाथी की सेवा करने से भी शनि देव से सकारात्मक प्रभाव मिल सकता है। हाथी भी काले रंग का होता है, इसलिए उसकी सेवा करना लाभप्रद माना जाता है। वैसे शनिवार को गरीबों को भोजन कराना भी शनि के अशुभ प्रभाव को दूर करने में फायदेमंद होता है। माना जाता है कि शनिवार के दिन अगर काले कुत्ते को सरसों तेल में चुपड़ी रोटी खिलाई जाय तो शनि देव झट से प्रसन्न हो जाते हैं। 


शुभमस्तु !!!



2 टिप्‍पणियां:

  1. sharma ji aap ki a post dan k liye hamari kundali me sarso k teil ka dan ko mana kiya gaya hai kya sham ko sarso k teil ka deepak jalane k liye uchit pramars de dob 25 03 1980 21:30 hardoi

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दान में और जलाने में बहुत अंतर होता है जला सकते है और खा भी सकते है

      हटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में