जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

रविवार, 28 अप्रैल 2013

मांगलिक दोष और परिहार......

ज्योतिष शास्त्र में अनेक स्थानों पर लिखा गया है कि यदि मंगल ग्रह जन्मकुंडली  मे प्रथम,चतुर्थ,सप्तम,अष्टम और द्वादस भावो  में हो तो व्यक्ति विशेष को मांगलिक दोष होता हैं | दक्षिण भारत में दुसरे भाव स्थित मंगल ग्रह को भी मंगल दोष में रखा गया हैं |

मांगलिक दोष प्राय: लग्न कुंडली से देखा जाता हैं परन्तु शास्त्रों में इसे चन्द्र कुंडली से भी देखने के लिए कहाँ गया हैं | कुंडली में इस प्रकार देखने पर मंगल दोष लगभग आधी कुंडलियो में प्राप्त होता हैं जिससे अधिकाँश मेलापक कुंडलियो  में मांगलिक दोष मिलना स्वाभाविक हो जाता हैं | शास्त्रों में इसी आधार पर मांगलिक दोष होने पर उसके परिहार सम्बन्धी नियम भी  बताये गए हैं जिनसे मंगलदोष समाप्त अथवा प्रभावहीन माना जाता हैं | ऐसे नियम या योग हैं जो मांगलिक दोष को भंग कर देते हैं ऐसे ही कुछ योग निम्न हैं


१) यदि मंगल स्वराशी अथवा ऊँच राशी का हो

अर्थात मेष, वृश्चिक या मकर राशि में हो तो मंगल दोष शांत हो जाता है  |
२) यदि मंगल गुरु ग्रह की राशी में हो अथवा राहू के साथ हो |

३) केंद्र त्रिकोण में शुभ ग्रह,तीसरे,छठे,ग्यारहवे भावो में पाप ग्रह तथा सप्तमेश सप्तम में हो |
४) सप्तमस्थ मंगल पर गुरु की दृष्टी हो |

५) यदि एक कुंडली में मंगली योग हो... तथा दुसरे की कुंडली में उन्ही भावो में पाप ग्रह(राहू,शनि ) हो |

६) यदि अधिक गुण मिलते हो |

७) वर या कन्या की  कुंडली में से एक मंगली हो और दुसरे की कुंडली में ३,,११,भावो में मंगल,राहू या शनि हो |



८) यदि १२ भाव में मंगल,शुक्र व बुध स्वराशि का हो |

९) यदि मंगल वक्री,नीच या अस्त हो |

१०) ४ तथा ७ भाव में मेष अथवा कर्क का मंगल हो |

११) यदि गुरु बली हो और शुक्र ऊँच अथवा स्वराशी का होकर सप्तम भाव  में हो |

१२) मंगल,सूर्य,राहू या शनि संग स्थित हो |

१३)चन्द्र मंगल् का योग हो(केंद्र व धन स्थान में ) |

१४) मंगल गुरु की युति हो अथवा गुरु मंगल पर दृष्टी ड़ाल रहा हो |

१५) कुंडली में गुरु व शनि अधिक बलवान हो



इसी प्रकार से एनी भी बहुत से योग है जिससे जन्मकुंडली में स्थित मंगल दोष का परिहार / समाप्त हो जाता है ..

विवाह हेतु कुंडली मिलान विद्वान ज्योतिषी द्वारा ही मिलान करवाकर करें..तो शुभ विवाह संपन्न होगा.


शुभमस्तु !!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में