जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

शनिवार, 1 जून 2013

रुद्राक्ष का चमत्कार .....3



रुद्राक्ष की माला रुद्राक्ष को एक अकेले दाने के रूप में या माला के रूप में भी धारण किया जा सकता है। एक ही माला के सभी दाने एक ही प्रकार के भी हो सकते हैं और विभिन्न प्रकार के भी हो सकते हैं। रुद्राक्ष की माला अनेक प्रकार से फलदायिनी होती है। इसमें गुण ही गुण होते हैं तथा इसमें कोई अवगुण नहीं पाया जाता। रुद्राक्ष की माला पर जप करने से अनेक रोगों का इलाज किया जा सकता है। रुद्राक्ष की माला पर किसी भी देवी देवता का जप किया जाये तो वे शीध्र ही प्रसन्न हो जाते हैं। रुद्राक्ष की माला रुद्राक्ष के दानों से बनाई जाती है। इसमें दानों की संख्या ज्योतिषीय दृष्टि से शुभ ली जाती है जैसे कि 108, 54, 27. इनमें से 1’ वाले दाने को सुमेरू कहा जाता है जो कि जप के समय पार नहीं किया जाता. लेकिन माला को 108, 54 या 27 रुद्राक्षों की माला ही कहा जाता है। 

एक मुखी रुद्राक्ष मुष्किल से मिलता है और बहुत शक्तिषाली होता है। 5 मुखी रुद्राक्ष की माला पूजा के काम आती है। 16 रुद्राक्ष के दानों की माला माथे पर, 26 रुद्राक्ष के दानों की माला सिर पर और 50 रुद्राक्ष के दानों की माला हृदय पर पहनी जाती है। एक ही माला जप व पहनने दोनो कामों में उपयोग नहीं की जा सकती परंतु इस विषय पर अपवाद भी मिलते हैं। कुछ संत लोग तो जप की हुई माला ही पहनना लाभदायक समझते हैं। जप करते समय माला अनामिका और मध्यमा उंगलियों के बीच में रहती है। 

केवल रुद्राक्ष की माला ही ऐसी माला होती है जिसे किसी भी प्रकार के जप के लिये उपयोग किया जा सकता है। रुद्राक्ष की माला की इतनी खूबियों के कारण ही आज यह अमेरिका, जापान, जर्मनी, इंगलैंड आदि पश्चिमी देशों में बहुत लोकप्रिय है। ग्रंथों में कहा गया है कि रुद्राक्ष की माला को मंत्रों के द्वारा शुद्ध, पवित्र और ऊर्जावान करके ही पहना जा सकता है। तब रुद्राक्ष निश्चय ही काम करता है और अगर यह शुद्धता की कसौटी पर भी खरा उतरा हो तो यह और भी अधिक शक्तिषाली और प्रभावी हो सकता है बशर्ते कि निरंतर जप और हवन से इसकी ऊर्जा और शक्ति को बढाया जाये।



रुद्राक्ष के मुखों की संख्या के अनुसार मंत्र 1 मुखी - ऊँ नमः शिiवाय् , ॐ ह्रीं नमः 2 मुखी - श्री गौरी शंकराय नमः नमः 3 मुखी -  क्लीं नमः नमः शिवाय 4 मुखी -  ह्रीं नमः 5 मुखी -  नमः शिवाय्  ह्रीं नमः 6 मुखी - स्वामी कार्तिकेयाय नमः ह्रीं हं नमः 7 मुखी -  महालक्ष्म्यै नमः हं नमः 8 मुखी - हं नमः, ऊँ गणेशाय् नमः 9 मुखी - नव दुर्गाय् नमः ह्रीं हं नमः 10 मुखी - श्री नारायणाय नमः, श्री वैष्णवाय नमः ह्रीं नमः 11 मुखी - श्री रूद्राय नमः ह्रीं हं नमः 12 मुखी - श्री सूर्याय नमः 13 मुखी -  ह्रीं नमः 14 मुखी -  नमः शिवाय उपरोक्त सभी मंत्रों के बाद महामृत्युंजय मंत्र का 9 बार जाप किया जाता है जो इस प्रकार है -  त्र्यंबकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ऊर्वारूकमिव बंधनानमृत्र्योमुक्षीय मामृतात् । 
रुद्राक्ष की उपयोगिता और लाभ..... 
1 मानसिक तनाव से मुक्ति पाने में रुद्राक्ष रामबाण की तरह से काम करता है। 2 एषिया के विभिन्न साधु व सन्यासियों के अनुसार मात्र रुद्राक्ष धारण करने से ही उन्हें तपस्या करने के लिये घ्यान केंद्रित करने में और विचारशील मन को काबू करने में अत्यन्त मदद मिलती है। 
3 रुद्राक्ष शरीर, मन और आत्मा के लाभ के लिये अत्यंत उपयोगी सिद्ध होता है। यह शरीर को बल प्रदान करता है और बीमारियों से लडने में मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार रुद्राक्ष शारीरिक सरंचना में सुधार लाता है। यह रक्त की अशुद्धियों को दूर कर शरीर को निरोगी बनाता है. 4 यह मानव शरीर के अंदर के साथ-साथ शरीर के बाहर की वायु में भी जीवाणुओं का नाश करता है। 5 यह तनाव, चिंता और डिप्रेशन का प्रभाव भी कम करता है। रुद्राक्ष सिरदर्द, खांसी, लकवा, और मातृत्व की रूकावटों को दूर करने में भी मदद करता है। 
6 मेडिकल साइंस के अनुसार भी यह सिद्ध हो गया है कि रुद्राक्ष को धारण करने से ही हृदय गति में सुधार आ जाता है तथा उच्च रक्तचाप ठीक होने लगता है। 7. वे जातक जिनको उच्च रक्त चाप की शिकायत है, उन्हें रुद्राक्ष का लाभ निम्न तरीके से लेना चाहिये - ‘‘पांच मुखी रुद्राक्ष के दो दाने रात को एक गिलास पानी में रख दें व सुबह खाली पेट उस जल को पी लें। गिलास ताम्बे  के अतिरिक्त किसी भी धातु का हो सकता है।’’ 40 दिन तक नियमित लेने से फर्क महसूस किया जा सकता है। 8 वे जातक जो हमेशा चिंता में रहते है, अथवा जिनका आत्मविष्वास खो-सा गया होता है या जो कांपते ज्यादा हैं - उन्हें रुद्राक्ष का लाभ निम्न तरीके से लेना चाहिये: ‘‘ ऐसे जातक एक पांच मुखी रुद्राक्ष हमेशा अपने पास रखें और जब जब वे जरूरत महसूस करें, उस रुद्राक्ष को अपनी दांयी हथेली में जोर से भींच लें और इस प्रकार से दस मिनट तक रहें। इससे उनका आत्मविष्वास वापिस आ जायेगा और उनका शरीर भी स्थिर हो जायेगा।’’ 
9 रुद्राक्ष को पहनने से चेहरे पर तेज आता है जो व्यक्तित्व को निखारने के काम आता है। 10 यह व्यक्ति की यादाश्त को बढाने में भी उपयोगी है। 11 रुद्राक्ष जीवन की समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण करता है, सुख-शांति प्रदान कर मान-सम्मान में वृद्धि करता है। 12 रुद्राक्ष शारीरिक स्वास्थ्य के साथ साथ आत्मा की उन्नति के लिये भी लाभदायक है। रुद्राक्ष को धारण करने से पूर्वजन्म के उन पापों से मुक्ति मिलती है जो कि इस जन्म में भी रूकावटें पैदा कर सकते हैं। 13 अगर कोई व्यक्ति अपनी बुरी आदतों से छुटकारा पाना चाहता है और शुद्धता का जीवन जीना चाहता है तो उसे रुद्राक्ष की माला पहननी चाहिये, निष्चित रूप से लाभ मिलता है। 
14 रुद्राक्ष अशुभ ग्रहों के प्रभाव को भी कम करने में उपयोगी होता है। ब्रह्मांड में 27 नक्षत्र हैं जो कि 9 ग्रहों को चलाते हैं। प्रत्येक नक्षत्र किसी न किसी रुद्राक्ष से जुडा होता है जो कि संबंधित ग्रह से ऊर्जा प्राप्त करता है। यह केवल ऊर्जा प्राप्त ही नहीं करता बल्कि इसका वितरण भी करता है। यह निष्चित है कि रुद्राक्ष ग्रहों के बल से ऊंची और प्रभावशाली वस्तु है। तभी तो विभिन्न मुखी रुद्राक्ष विभिन्न ग्रहों की शांति के लिये काम में लिये जाते हैं। जो ग्रह जातक के लिये अशुभ है, उस ग्रह से संबंधित रुद्राक्ष ही धारण कर उस अशुभ ग्रह की शांति की जा सकती है। 15 प्रत्येक रुद्राक्ष किसी न किसी देवता या देवी से संबंधित होता है। यही धनात्मक बल रुद्राक्ष के धारक को नकारात्मक ऊर्जा और शत्रुओं से बचाता है। 
16 रुद्राक्ष जीवन की अति आवश्यक वस्तु है क्योंकि यह भगवान शिव से संबंधित है औरसही शिव देवों के देव महादेव हैं। अतः रुद्राक्ष पहनने वाले को अगर रुद्राक्ष से अधिक से अधिक लाभ लेना है तो उसमें श्रद्धा और विष्वास होना बहुत जरूरी है।


शुभमस्तु !!






74 टिप्‍पणियां:

  1. Date of birth 10 sep 1983. Tob 10.52. pm hai. Mai kaun sa rattan dharann karu...kbb karu or kaise karu.or. kaun si fingr mai or kaun se hath mai or kaun si dhatu mai dharan kar... pob amrittsar

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप इस समय नीलम धारण करें इसके अलावा पन्ना व हीरा भी धारण कर सकते है..नीलम मध्यमा ऊँगली में चांदी में और सीधे हाथ में शनिवार शनि की होरा में पहने ..लाभ होगा

      हटाएं
  2. क्या दिल्ली में आप कोई कोई स्थान बता सकते हैं जहाँ से निश्चिन्त होकर रुदार्क्ष की माला उचित मूल्य पर खरीदी जा सके? यदि दिल्ली में नहीं तो फिर हरिद्वार या ऋषिकेश जैसे स्थान में किसी विश्वसनीय जगह का पता दे सकें तो कृपा हो!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हरिद्वार में अनेक अच्छी दुकाने है जहाँ से शुद्ध रुद्राक्ष आपको मिल सकते है दिल्ली का मुझे पता नही है..दिल्ली में आप किसी विद्वान पंडित जी से संपर्क कर के पता कर सकते है

      हटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप 2 मुखी और गौरी शंकर रुद्राक्ष धारण कर सकते है इससे आपको लाभ होगा

      हटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप 2 मुखी और गौरी शंकर रुद्राक्ष धारण कर सकते है इससे आपको लाभ होगा इसके अलावा अपनी और अपने पति का जन्म तारीख, समय और जन्म स्थान का विवरण दें तो उपाय निकल आयेगा

      हटाएं
    2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप रुद्राक्ष का चमत्कार ....1 http://anilastrologer.blogspot.in/2013/06/1.html का अध्ययन करें

      हटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप रुद्राक्ष का चमत्कार ....1 http://anilastrologer.blogspot.in/2013/06/1.html का अध्ययन करें

      श्री हनुमान चालीसा के पाठ से कोई पाप नही लगेगा

      हटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका सिंह लग्न में जन्म हुआ है अतः श्री हनुमान चालीसा का पाठ आपके लिए लाभदायक है तथा पुखराज धारण करें तो संतान, धन का लाभ भी होगा प्रतिदिन भगवान् शिव जी को जल अर्पण करें तथा मोर के 11 पंख का गुलदस्ता भी अपने बैडरूम में रखें कामना पूर्ण होगी

      हटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका सिंह लग्न में जन्म हुआ है अतः श्री हनुमान चालीसा का पाठ आपके लिए लाभदायक है तथा पुखराज धारण करें तो संतान, धन का लाभ भी होगा प्रतिदिन भगवान् शिव जी को जल अर्पण करें तथा मोर के 11 पंख का गुलदस्ता भी अपने बैडरूम में रखें कामना पूर्ण होगी

      हटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका सिंह लग्न में जन्म हुआ है अतः श्री हनुमान चालीसा का पाठ आपके लिए लाभदायक है तथा पुखराज धारण करें तो संतान, धन का लाभ भी होगा प्रतिदिन भगवान् शिव जी को जल अर्पण करें तथा मोर के 11 पंख का गुलदस्ता भी अपने बैडरूम में रखें कामना पूर्ण होगी

      हटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बैडरूम में मंदिर रखना अशुभ होता है यह पति पत्नी के सम्बन्ध खराब करता है इसलिए इसे तुरंत हटा दें या दुसरे कमरें में बैड पर सोयें तो अच्छा रहेगा आप अपना सही समय पता करें क्युकि जो समय आपने बताया है उसके अनुसार आप मांगलिक है और आपके पति मांगलिक नही है सही जन्म समय होगा तो इसका सही उपाय से सब ठीक भी हो सकता है

      हटाएं
  11. Dhanyvaad pandit ji , i think mere ghar mai vastu dosh bhi hai . Jab se hum yaha aaye hai sirf ladaiya hui hai aur lagta tha ki pakka hamara divorce hoga, aur abb situation vahi tak aa gayi hai divorce ka tto vo nhi bolte par 3 months se ghar chor kar chale gaye hai aur baat tak nhi karte na hi gharwale baat karte hai wo bolte hai mai vaps nhi aaunga . mai chahti hu ki pooja pray se wo aa jaaye verna life hum dono ki khraab ho jaayegi police k chakkr mai pad kar . unke mind mai koi aur ladki bhi ho sakti hai . aapke hisabse mai mor ka 11 pankho ka guldasta jarur bed room mai rakhungi . mere room mai pooja ghar bhi hai wo maine ek table par banaya hua hai jo purab mai hai , mai neeche gadde par soti hu vahi pass mai , kya mujhe double bed use karna chahiye wo dusre room mai hai ? aur kya -2 karna chahiye aap sujhav de aapse contact karke mai bhut khush hu aajtak kisi ne itni help nhi ki bina paise liye koi help nhi karta aapki bhut bhut kripa hai jan kalyaan k liye .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बैडरूम में मंदिर रखना अशुभ होता है यह पति पत्नी के सम्बन्ध खराब करता है इसलिए इसे तुरंत हटा दें या दुसरे कमरें में बैड पर सोयें तो अच्छा रहेगा आप अपना सही समय पता करें क्युकि जो समय आपने बताया है उसके अनुसार आप मांगलिक है और आपके पति मांगलिक नही है सही जन्म समय होगा तो इसका सही उपाय से सब ठीक भी हो सकता है

      हटाएं
  12. Pranam Pandit ji , Mera birth time vahi hai jo maine aapko bataya kyunki mummy papa k hisab se vahi time hai subah 5 - 7 ka 3rd Sep 1984 ko . Ho sakta hai mai manglik hu isilye ye sab problems aayi hai. Aap abb koi upay bataye, mujhe kya karna chahiye abb agar mai maglik hu aur wo nahi hai tto ?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपना जन्म स्थान बताये इतना याद नही रहता और आपने पिछ्ला कोमेंट्स मिटा दिया है दोबारा से विवरण दो

      हटाएं
  13. Pranam Pandit ji , Mera birth time vahi hai jo maine aapko bataya kyunki mummy papa k hisab se vahi time hai subah 5 - 7 ka 3rd Sep 1984 ko . Ho sakta hai mai manglik hu isilye ye sab problems aayi hai. Aap abb koi upay bataye, mujhe kya karna chahiye abb agar mai maglik hu aur wo nahi hai tto ?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपना जन्म स्थान बताये इतना याद नही रहता और आपने पिछ्ला कोमेंट्स मिटा दिया है दोबारा से विवरण दो

      हटाएं
  14. Pandir ji hamare Gun tto ache milte hai kya tto bhi mangal ka prbhav rahega ?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जन्म कुण्डली मिलान में गुण ज्यादा महत्वपूर्ण नही होते ग्रह ही महत्व रखते है

      हटाएं
  15. Pranam Pandit ji , Maaf kijiyega . Mera DOB 3rd Sep 1984 , time subah 5 se 7 ka , place Madhya Pradesh mai Neemuch k pass k ek goan Gurbheli ka hai . Mere pati ka 1st Nov 1980 , time subah 7 baje ke aas pass ka aur place Sarvaad mai Ajmer ( Rajasthan ) ka hai . Agar mai manglik hu tto bhi aap upay aur bataye taki wo ghar vapas aaye aur sahi se hum jivan bitaye aur ye bhi bataye ki hum log unko manaye ya wo khud aayenge aur agar khud aayenge tto kab tak ? please mera margdarshan kare .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप मांगलिक ही है इसके लिए 11 मंगलवार और 11 शनिवार श्री हनुमान जी के मंदिर में शाम के समय जाकर गुड़ और काले चने भुने हुए श्री हनुमान जी के सामने रख आये तथा घर आकर सबसे पहले कोई भी मीठी वस्तु खाएं एवं 11 मंगलवार और शनिवार करने के बाद मंगलवार सुबह श्री हनुमान जी के मंदिर में लाल रंग का ध्वज/झंडा अपने हाथों से लगवाएं इससे लाभ होगा तथा मांगलिक दोष का अशुभ प्रभाव समाप्त हो जाएगा आपके पति का आने का कोई विचार अभी नही बन रहा है इसके लिए किसी कुत्ते को शनिवार खीर बनाकर खिलाएं ध्यान रखें कि उस दिन आपने खीर नही खानी है...भगवान सुन लेगा

      हटाएं
    2. Dhanyvaad Pandit ji , mai aisa hi karungi .

      हटाएं
    3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    4. नही कुत्ता पालना नही है सड़क के कुत्तो को ही डालें

      हटाएं
  16. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हस्त रेखाएं फोटो से नही देखी जाती है क्युकि हस्तरेखा देखते समय हथेली के रंग आदि का भी ध्यान रखना होता है

      हटाएं
  17. Pandit ji , Mujhe ek swapn aaya subah 6 baje se 6:16 k beech ki ek pandit ji mandir mai hai aur mai unsey shivling maang rahi hu , wo bole le jaao 50 /- mai maine bola mai 25/- mai le lu bole le jaao . Fir maine mandi se bhi ek sunadr sa shiv ling lene ko kaha wo bole ye tto madir ka hai , tto maine wo vahi rakh diya , sapne mai tulsi aur kuch khraab se mor pankh dekhe aur kuch naye kapde khreede apni ek frnd k sath , mujhe aaye din mandir aur bhagwan k sapne aate hai par thode thode hi yaad rahte hai .iska koi sahi matlab hai ya galat?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यह स्वप्न पितृ दोष और आपकी किसी मन्नत को संकेत कर रहा है जो आपने कभी मानी थी और बाद में मन्नत पूरी नही की याद करके मन्नत उतारें

      हटाएं
    2. Dhanyavaad pandit ji , par mujhe kuch yaad nahi aa raha . Kal raat sapne mai kuch steel k bartno kise ne mujhe diye . kuch bhi yaad nahi , kaise isko solve karu ? ek din mai river ke pass jakar ro rahi thi bhut se ajeeb -2 se swapn aate hai . bhoot vagreah k nahi aate bas kyunki mai pooja bhut karti hu .

      हटाएं
    3. यह मानसिक चिंता के कारण से है रात्री को सोते समय पानी का बर्तन भरकर सिरहाने रखें सुबह बाहर फेंक दें

      हटाएं
  18. pandit ji pranam , mujhe mera pihar wala ghar aaye din dikhai deta hai sapne mai samjh nhi aa raha kya problem hai vaha ... kisi ne kuch kiya hua hai ya koi pitr dosh hai . kal raat ko dikhai diya ki vaha aag lag gayi hai aur mai bhut dar gayi thi raat ko 12:45 par ye swpan aaya mujhe , samjh nahi aa raha kya problem hai aur ghar mai shanti bhi nhi rahti koi a koi problems aati rahti hai.kripa karke batyae Mera pihar kota Rajasthan mai hai . hum par kuch galat cases bhi lagaye gaye hai papa ki sde se jo bilkul galat hai . papa k side wale jealousy hai humsey .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यह मानसिक परेशानी के कारण भी दिखाई दे रहा है अपना बैडरूम बदल दो तथा रात्री को सोने से पहले पानी का लौटा सिरहाने के पास भर कर सोंये सुबह वो पानी बाहर किसी पेड़ पर डाल दें ऐसा लगातार करें तो लाभ होगा

      हटाएं
  19. Pandi ji Pranam , meri left eye thoda sa uppar se bhut fadkati hai , kabhi -2 left angutha aur right side ka ghutna bhi kabhi - 2 fadkta hai . kya ho sakta hai ?

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इसका उत्तर दे दिया गया है

      हटाएं
  21. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  22. Pandit ji Pranam , please mujhe bataye meri left eye bhut time se aage ke kone ki side se naak k taraf se uppar ki side se farak rahi hai lagbhag 4-5 dino se , samjh nahi aa raha , mujhe aap ye bhi bataye kripa karke ki iska achha ya bura results kitne dino mai milta hai , mere dono legs mai bhi farkan rahti hai. Kripa karke bataye .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस प्रश्न का उत्तर दिया हुआ है

      हटाएं
  23. Pranam Pandit ji , par ladkiyon k liye tto bayin ( left) eye ka fadkna achha bataya jata hai , aapke ang fadkna wale mai topic ko maine padha tha usmai bhi achha bataya gaya hai , agar ye ashubh hai tto aap kripa karke iska koi upay bataye mujhe .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने बिलकुल ठीक कहा है लेकिन यदि कोई भी अंग किसी भी साइड का तीन दिन या इससे ज्यादा दिन लगातार फड़के तो उसका फल अशुभ माना जाता है जैसा कि मेने आपको उसका फल बताया है

      हटाएं
    2. Pranam Pandit ji , kripa karke mujhe bataye ki mere pati kab tak vaps aayenge ya mujhe kya dusri shadi karni padegi ? kyunki mai last 4 months se akeli hu wo nahi aana chahte ghar .

      हटाएं
    3. Pranam Pandit ji , kripa karke mujhe bataye ki mere pati kab tak vaps aayenge ya mujhe kya dusri shadi karni padegi ? kyunki mai last 4 months se akeli hu wo nahi aana chahte ghar .

      हटाएं
    4. आपकी जन्म कुंडली अनुसार तो दूसरी शादी का ही योग बन रहा है

      हटाएं
    5. pandit ji , mujhe dusri shadi nahi karni hai , aap please unko hi vapas bulane ka upay bahtaye .

      हटाएं
    6. Pandit ji , dusri shadi karne ka bilkul mann nhi hai , please aap ek baar fir se dekh kar bataye .

      हटाएं
    7. आपकी जन्म कुंडली के अनुसार सितम्बर 2014 तक ग्रह अनुकूल नही है इससे मानसिक पीड़ा रहेगी कुंडली के ग्रह योग दुसरा विवाह बता रहे वो भी अगले साल होने की संभावना है पहले पति को बुलाने के लिए उपाय तो है लेकिन वो सफल नही हो पाते है

      हटाएं
    8. pandit ji koi aur upay , kyunki shadi tto dusri nahi karni hai mujhe . inhi ko mana le dusri shadi inhi se karne k liye .

      हटाएं
    9. नवम्बर 2013 तक प्रतीक्षा करो इसके बाद ही उपाय सफल हो सकता है ..प्रतीक्षा करें

      हटाएं
    10. pandit Ji pranam , thik hai mai pratiksha karti hu abhi vaise bhi wo India se bhar chale haye hai 3 months k liye , par mujhse bina mile aur bina baat kiye . mai dukhi hu bhut mujhe aap mere isht ka gyan karvaye . life bhut jayda ulajh gayi hai ,dusri shadi ki man mai koi ichha nhi hai .

      हटाएं
    11. नवम्बर के बाद ही उपाय हो सकता है अभी नही ...इश्वर की कृपा से सब ठीक हो सकता है

      हटाएं
    12. Apka Bhut bhut dhanyaad pandit ji .

      हटाएं
    13. Pandit ji Pranam , apke swapn wale block mai likha hai ki agar koi avivahit ladki khud ko school mai student k roop mai dekhe tto usko manchaha pati milta hai , aur agar vivahit ladki aisa hi swapn dekhe tto kya hota hai ? par pati dur hai .

      हटाएं
    14. Pandit ji , mujhe baar baar mere Nanaji sapne mai nazar aate hai wo meri sagai k din hi expire hue the , aaj subah 7 baje bhi wo swpan mai aaye unhone mujhe ashirwad diya , bhut der tak mai unke pairon mai giri hui thi vajha mujhe 10 rs ka note mila unke pairon mai ye sabn swpan mai hua , uske baad ek aur koi aaye wo kon the pata nhi unhone bhi mujhe swapn mai ashirwad diya , kya unko mujhse kuch chhaiye ya wo bas aise hi aaye the , mai unki death par nhi gayi thi , aaj tak apne nanihal nhi gayi hu .aur wo bhut achhe jyotishi the baccho ko jhada lagaya karte the , mujhe bhut pyar karte the . aap bataye kuch .

      हटाएं
    15. Pandit ji mai bhut pareshan hu pata nhi kyun meri kismat itni bhi khraab nhi ho sakti jo sab mere sath ho rha hai , pati chlae gaye aana nhi chhate , kisi cow ko roti dene jaati hu tto cow nhi milti , kisi ka bhala karne jaati hu uske sath bura ho jaata hai , paiso ka bhut nuksan hua hai in mahino mai , mobile kho gaya , tabiyat thik nhi rahti , gharwale bhi dukhi hai , sasural wale bura karke bhi bhut khush hai , koi friend sath nhi de raha , log jo apne the wo bhi ajeeb sa behave karte hai .kya problem hai pandit ji please please mujhe bataye aur koi achha sa upay bataye uppar meri janm treek sab kuch likha hai , pooja bhi bhgwan nhi sunta meri .thak gayi hu pandit ji . 5 months ho gaye dukh dekhte hue .

      हटाएं
    16. जब कुंडली अनुसार ग्रह प्रतिकूल हो तो ऐसा होता है लेकिन चिंता ना करें जल्दी ही समय ठीक होगा नवंबर 2013 के बाद आशा है समय अनुकूल होने लगेगा

      हटाएं
    17. इसे आप लाल धागे में पिरोकर गले में धारण करे इससे लाभ होगा

      हटाएं
    18. कृपया अपने प्रश्नों को अलग से लिखे उत्तर देने का स्थान नही मिलता

      हटाएं
    19. समय की प्रतीक्षा करें तथा भगवान पर विशवास रखें जल्दी ही कामना पूरी होगी

      हटाएं
  24. shaqma ji aap se milkar ashirvad lene ka man karta hai phone no ya mulakat ki sambhavane kha ho sakti hai

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी हाँ आप्सें अवश्य मिलेंगे ....शीघ्र ही सूचित करूंगा

      हटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में