जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

रविवार, 2 जून 2013

पुत्र और धन की प्राप्ति के लिए सोमवार का व्रत करे.....





वार व्रत का महत्व श्रुति, स्मृति एवं पुराणों में विशिष्टता के साथ वर्णित है। 
सप्ताह के प्रत्येक वार का काल सूर्योदय से अगले सूर्योदय तक रहता है। 
श्रेष्ठता के अनुसार भी व्रत रखने के लिए वार का क्षय नहीं होता है, किंतु तिथि- नक्षत्र का क्षय अवश्य होता रहता है..
सूर्यादि ग्रहों के नामों के अनुसार ही वारों का नामकरण हुआ- सूर्य से रविवार, चंद्र से सोमवार, मंगल से मंगलवार, बुध से बुधवार, गुरु से गुरुवार, शुक्र से शुक्रवार और शनि से शनिवार। 
किसी ग्रह की अनुकूलता प्राप्त करने हेतु उससे संबंधित वस्तुओं का दान, जप तथा व्रत करने का विधान है। 
किसी ग्रह की शांति कराने या उसकी शुभता प्राप्त करने के लिए उससे संबंधित वार को व्रत किया जाता है। 
यदि किसी ग्रह की दशा, महादशा, अंतर्दशा, जन्मांक और गोचराष्टक वर्ग में से कोई अनिष्टकारी हो 
तो उस ग्रह की शांति के लिए वार के अनुसार व्रत करने का विधान है। सोमवार के व्रत से 
मानसिक संताप का शमन होता हैशांति मिलती है और पुत्रधन आदि की प्राप्ति होती है। 

सोमवार का व्रत....
चंद्रमा की शांति के लिए चंद्रमौलेश्वर भगवान शिव की पूजा का विधान सोमवार व्रत हेतु प्रशस्त माना गया है। 
यह व्रत सभी सोमवारों या सोलह सोमवारों अथवा श्रावण के सोमवारों को किया जा सकता है। इसे धारण करने से चंद्र की पीड़ा के साथ-साथ अन्य सभी कष्टों का भी शमन होता है। 
यह व्रत चैत्र, वैशाख, श्रावण, कार्तिक या मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष के प्रथम सोमवार से आरंभ करना चाहिए। 
जो जातक केवल श्रावण मास में पड़ने वाले चार या पांच व्रत करने का संकल्प लेते हैं, उनके लिए शुक्ल पक्ष के प्रथम सोमवार वाली शर्त लागू नहीं होती। 
यही तथ्य पुरोषत्तम मास के श्रावण सोमवार व्रत में भी लागू समझना चाहिए, जिसमें 8 या 9 सोमवार उपलब्ध हो जाते हैं। चंद्र पीड़ा शमनार्थ न्यूनतम दस सोमवार व्रत करना चाहिए। 
इस व्रत में सूर्यास्त के बाद मीठे दही-चावल, खीर आदि का भोजन करना चाहिए। व्रत पूरे हो जाने पर पलाश की समिधा से अंतिम सोमवार को हवन करना चाहिए। व्रत वाले दिन भगवान शिव के मंदिर में सायंकाल दीप जलाना चाहिए। 
भोजन के पूर्व व्रत कथा करके चंद्र के बीज मंत्र ॐ श्रां श्रीं श्रौं सः चंद्रमसे नमः का कम से कम 3 माला जप करना चाहिए। 
सोमवार व्रत आरंभ करने वाले श्रद्धालुओं को व्रत वाले दिन प्रातः काल तिल मिश्रित जल से 
स्नान कर श्वेत चंदन का तिलक लगाना चाहिए और नमः शिवाय मंत्र जपते हुए नर्मदा जल, गंगाजल, बिल्व पत्र, अक्षत, कपूर, श्वेत चंदन, श्वेत पुष्प, पंचामृत आदि से श्री शिव-गौरी का पूजन करना चाहिए। 
इस व्रत से मानसिक संताप का शमन होता है, शांति मिलती है और पुत्र, धन आदि की प्राप्ति होती है। सोमवार का व्रत सभी व्रतों में श्रेष्ठ माना जाता है, क्योंकि यह महेश्वर का व्रत है। 

शुभमस्तु !!

6 टिप्‍पणियां:

  1. Pandit ji mera db 25.9.1981 hai place jaipur time 12.07 pm hai mera bhagya uaay ka uppay batao koi ratna bhi ho to bata dizey

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी जन्म कुंडली के अनुसार आपको काल सर्प योग है सबसे पहले इसकी शान्ति करवाएं ..इसके बाद मूंगा रत्न सवा सात रत्ती का सोने की अंगूठी में बनवाकर धारण करें तो भाग्य की वृद्धि होगी

      हटाएं
  2. Pandit ji dhanywaad,
    Kaal sarp ka to upay karwa chuka hun per mujhey mera bhagya phel janna hai

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. काल सर्प की शान्ति केवल त्रयम्बकेश्वर जिला नासिक में ही होती है तथा भाग्य में बाधाएं आ रही है मूंगा धारण करें

      हटाएं
  3. Dob. 7.4.1979 tob 5.20. Pm hai pob amritsar pt jiAj kal mete sath aisa ku ho raha hai.ki mai ahar koi kam karna chahti hu.ya mai job ke liye interview dene jana chahti hu.mandir jana chahti hu. Toh mai yeh koi b kam kar nahi pati.kuch sisa mahsus hota hai jaise koi cheejujhe ander se rok rahi ho .rat ko jb soti hu toh yehi soch ke dubahuth ke yeh k karna ji hai. Pr subah vahi prb suru ho jati hai . Bshar niklne ka man nahi karta.har choti choti baat pe gussa. Aa jata hai.sb se jhagra hota hai .mai aisi bilkul nahi thi pta nsi ab aisi kh ho gayi hu

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पहले वाले उपाय जो बताएं है उसे करो तो यह समस्या भी दूर हो जायेगी

      हटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में