जय श्री कृष्णः.श्री कृष्ण शरणं मम.श्री कृष्ण शरणं मम.चिन्ता सन्तान हन्तारो यत्पादांबुज रेणवः। स्वीयानां तान्निजार्यान प्रणमामि मुहुर्मुहुः ॥ यदनुग्रहतो जन्तुः सर्व दुःखतिगो भवेत । तमहं सर्वदा वंदे श्री मद वल्लभ नन्दनम॥ जय श्री कृष्णः

सोमवार, 16 मई 2016

मनुष्य के जीवन में चांदी का महत्व एवं प्रभाव........

पृथ्वी माँ ने मनुष्य जीवन में उपयोगी वस्तुएं  प्रदान की है, कोई भी समस्या हो उसका समाधान हमें पृथ्वी से प्राप्त वस्तुओं से मिलता है, 

सोना, चांदी आदि बहुत सी धातुएं भी हमें माँ पृथ्वी ने ही प्रदान की है. प्रत्येक धातु का अपना अलग अलग प्रभाव तथा गुण धर्म होता है, 

आज चांदी के विषय में बताते है कि चांदी मनुष्य के जीवन में किस प्रकार से प्रभावी रहती है तथा चांदी धातु के द्वारा हम किस प्रकार की समस्याएं दूर कर सकते है.

चांदी हमारे जीवन की  मुख्य धातु है. सभी  धातुओं में चांदी अत्यंत शुभ  और पवित्र  धातु मानी जाती है,शास्त्रों अनुसार  चांदी  भगवान  शिव  के नेत्रों  से उत्पन्न हुयी है. भारतीय ज्योतिष अनुसार चांदी चन्द्रमा  और शुक्र से सम्बन्ध रखती है.  

http://anilastrologer.blogspot.com/2016/05/blog-post_16.html
चांदी हमारे शरीर में जल और कफ को नियंत्रित करने में सहायक है, चांदी माध्यम अर्थात ज्यादा मूल्यवान धातु नही है,जिसका मन चंचल अर्थात अस्थिर हो तो चांदी उसे स्थिर करने में सहायता देती है, मन का कारक चंद्रमा तथा चांदी भी मन को नियंत्रित कर सकने की क्षमता रखती है.

चांदी का उपयोग से मन मजबूत होता है तथा मस्तिष्क भी तेज़ बनता है और चांदी धारण करने से जन्म कुंडली में चन्द्रमा के दोष दूर होते है. तथा शुक्र को भी बलवान करने में ज्योतिष उपाय अनुसार चांदी का ही प्रयोग करते है. चांदी से मन खुश तथा उत्साह बढ़ता है, चांदी शरीर से विषाक्त तत्व निकालने में सहायक है तथा त्वचा को चमकदार भी बना देती है, चांदी के अनेक प्रयोग कर बहुत लाभ उठाया जा सकता है.

चांदी को सबसे छोटी कनिष्ठ ऊँगली में धारण करना बहुत अधिक लाभ देता है,इसमें चंद्रमा की ताकत है इसके कारण मन स्थिर होता है तथा चांदी की चैन भी गले में धारण की जाती है. चैन पहनने से भाषण शक्ति आने लगती है तथा वाणी में मिठास आने लगता है, ये हारमोंस को कंट्रोल करने में सहायक है,  

चांदी के कंगन धारण करने से खांसी, गठिया तथा पित्त सम्बन्धी रोग नियंत्रित होने लगते है.चांदी  के गिलास में पानी पीने से सर्दी की समस्या को ठीक किया जा सकता है.चांदी की कटोरी में रखा हुआ शहद अमृत के समान हो जाता है.

आप शुद्ध चांदी के प्रयोग  से स्वास्थ्य लाभ ले सकते है.चांदी में केवल सोने का मिश्रण किया जाना ही श्रेष्ठ रहता है अन्य दूसरी कोई धातु नही मिलानी चाहिए.

चांदी कर्क, वृश्चिक तथा मीन लग्न और राशि वालों के लिए अत्यंत लाभदायक है तथा मेष, सिंह और धनु लग्न और राशि वालो की अशुभ फल देती है. धारण करने से पूर्व किसी विद्वान ज्योतिषी से सलाह अनिवार्य है.

शुभमस्तु !!

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपके मैंने लेख पढ़ें। अगर आपकी रचनाओं की प्रशंसा करूँ, तो वो सूरज को दिया दिखाने के समान होगा। साथ ही आपकी हर लेख मे आपका अनुभव साफ झलकता है।
    आपसे संपर्क करना चाहती हूँ, अपना ईमेल आईडी या फोन नंबर दें। मुझे ईमेल पर संपर्क कर सकतें हैं - info@shabdanagari.in पर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नमस्कार

      ptanilastrologer@gmail.com तथा anilgiastrologer@gmail.com

      facebook द्वारा संपर्क कर सकती हो

      https://www.facebook.com/profile.php?id=100004622505504

      धन्यवाद..

      हटाएं

कृपया अपने प्रश्न / comments नीचे दिए गए लिंक को क्लिक कर के लिखें

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

लिखिए अपनी भाषा में